BREAKING NEWS

DGCA ने इंडिगो पर लगाया पांच लाख का जुर्माना, दिव्यांग बच्चे को नहीं दी थी विमान में सवार होने की अनुमति ◾J&K : सुरक्षाबलों ने आतंकवादी मॉड्यूल का किया भंडाफोड़, एक महिला सहित 3 गिरफ्तार, IED बरामद ◾ नवनीत राणा और रवि राणा का आज नागपुर में हनुमान चालीसा पाठ, क्या राज्य में फिर हो सकता है बवाल◾एलन मस्क ने दिया बयान- भारत में मिले बिक्री की मंजूरी, फिर टेस्ला का संयत्र लगाने का लेंगे फैसला◾ कथावाचक देवकी नंदन ने प्लेसेस ऑफ वर्शिप एक्ट के खिलाफ SC में दायर की याचिका, अब तक कुल 7 अर्जी दाखिल◾ WEATHER UPDATE: दिल्ली समेत देश के इन इलाकों में बारिश के आसार, यहां जानें मौसम का मिजाज◾ जमीयत की बैठक में भावुक हुए मुस्लिम धर्मगुरू मदनी, बोले- जुल्म सह लेंगे लेकिन वतन पर आंच नहीं आने देंगे...◾श्रीलंका में 50वें दिन भी जारी है प्रदर्शन, राष्ट्रपति के इस्तीफे की मांग को लेकर सड़कों पर बैठे हैं लोग ◾ऐसा काम नहीं किया जिससे लोगों का सिर शर्म से झुक जाए, देश सेवा में नहीं छोड़ी कोई कसर : PM मोदी ◾म्यांमार की मौजूदा स्थिति को लेकर हुई बैठक, रूस और चीन ने जारी नहीं होने दिया UN का बयान ◾BSF ने पाकिस्तानी तस्करों की साजिश को किया नाकाम, ड्रोन पर की गोलीबारी, भागने पर हुआ मजबूर ◾पंजाब : CM मान ने वापस ली 424 वीआईपी लोगों की सुरक्षा, जानिए क्यों लिया यह फैसला ◾कर्नाटक : शिक्षा मंत्री बी.सी. नागेश ने हिजाब विवाद पर दिया बयान, केवल यूनिफॉर्म की है अनुमति◾उत्तराखंड : CM धामी के लिए आज चुनाव प्रचार करेंगे मुख्यमंत्री योगी, टनकपुर में जनता से मांगेगे वोट ◾India Covid Update : पिछले 24 घंटे में आए 2,685 नए केस, 33 मरीजों की हुई मौत◾राजस्थान : CM गहलोत से मुलाकात के बाद बदले चांदना के सुर, BJP को दी यह नसीहत ◾PM मोदी ने वीर सावरकर की जयंती पर वीडियो शेयर कर दी श्रद्धांजलि, गृह मंत्री शाह ने किया नमन ◾World Corona : 52.83 करोड़ के पार पहुंचे मामले, अब तक 11.38 अरब लोगों का हुआ टीकाकरण ◾आज का राशिफल ( 28 मई 2022)◾आर्यन खान ड्रग्स मामला : NCB ने क्रूज मामले की बेहद ढीली जांच की - SIT◾

छत्तीसगढ़: अंत्योदय कार्डधारकों का पहले टीकाकरण, हाईकोर्ट ने कहा- पहले स्पष्ट नीति बनाए सरकार

छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय उच्च न्यायालय ने राज्य सरकार से कहा है कि 18 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों का टीकाकरण करने के मामले में स्पष्ट नीति बनाए। राज्य सरकार ने इस वर्ग में अंत्योदय कार्डधारकों को पहले टीका लगाने का फैसला किया है। 

अधिवक्ता पलाश तिवारी ने बुधवार को बताया कि छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय में मुख्य न्यायाधीश की युगल पीठ ने मंगलवार को राज्य में 18 वर्ष से अधिक उम्र के लाभार्थियों का कोविड टीकाकरण करने में वर्गीकरण को उचित नहीं बताया है। 

साथ ही न्यायालय ने टीकाकरण को लेकर राज्य शासन को आगामी शुक्रवार तक अंत्योदय कार्डधारकों के लिए टीकाकरण करने वाले आदेश को संशोधित कर स्पष्ट नीति बनाने का निर्देश दिया है, जिससे सभी वर्गों के लोगों को इसका लाभ मिल सके। 

तिवारी ने बताया कि उच्च न्यायालय ने यह भी कहा है कि अत्यंत गरीब लोगों को भी टीकाकरण से वंचित न किया जाए बल्कि शासन उनके लिए एक हेल्प डेस्क बनाकर, सभी वर्ग के लोगों के लिए टीकाकरण का उचित अनुपात निर्धारित करे। न्यायालय ने राज्य शासन के टीकाकरण में वर्गीकरण के आदेश के खिलाफ दायर हस्तक्षेप याचिकाओं और स्वतः संज्ञान में ली गई एक जनहित याचिका पर सुनवाई के बाद यह आदेश सुनाया है। 

अधिवक्ता तिवारी ने बताया कि एक मई से देश भर में 18 वर्ष से अधिक उम्र के लाभार्थियों के लिए टीकाकरण अभियान शुरू होने से पहले 30 अप्रैल को अतिरिक्त मुख्य सचिव, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के माध्यम से राज्य शासन ने अपने आदेश में अंत्योदय कार्ड धारकों को टीकाकरण में प्राथमिकता देने का फैसला लिया था। 

तिवारी ने बताया कि राज्य शासन के इस फैसले के खिलाफ पांच याचिकाकर्ताओं ने आपत्ति दर्ज करते उच्च न्यायालय से इस मामले की सुनवाई करने का आग्रह किया था। याचिकाओं में कहा गया कि टीकाकरण में वर्गीकरण का यह निर्णय नागरिकों के संवैधानिक अधिकारों के विपरीत है। सभी याचिकाओं में आदेश को तत्काल निरस्त करने और नई नीति बनाने की मांग की गई जिससे बिना किसी भेदभाव के सभी वर्ग के लोगों को टीकाकरण का लाभ मिल सके। 

अधिवक्ता ने बताया कि उच्च न्यायालय में मंगलवार को मुख्य न्यायाधीश पी आर रामचन्द्र मेनन और जस्टिस पी पी साहू की युगल पीठ के समक्ष मामले की ऑनलाइन सुनवाई हुई। राज्य शासन की ओर से महाधिवक्ता सतीश चंद्र वर्मा ने इस मामले में शासन का पक्ष रखा। सुनवाई के दौरान याचिककर्ताओं की तरफ से अधिवक्तागण किशोर भादुड़ी, पलाश तिवारी, अनुमेह श्रीवास्तव, सुमित सिंह, हिमांशु चौबे तथा अन्य ने अपना-अपना पक्ष रखा। 

तिवारी ने बताया कि न्यायालय में मंगलवार को मुख्य न्यायाधीश की युगल पीठ ने दोनों पक्षों को सुनने के बाद देर रात अपने आदेश में 18 वर्ष से अधिक उम्र के लाभार्थियों का टीकारकण करने में वर्गीकरण को उचित नहीं बताया है। उन्होंने बताया कि उच्च न्यायालय ने टीकाकरण को लेकर राज्य शासन को आगामी शुक्रवार तक अंत्योदय कार्डधारकों का पहले टीकाकरण वाले आदेश को संशोधित कर स्पष्ट नीति बनाने का निर्देश दिया है, जिससे सभी वर्गों के लोगों को इसका लाभ मिल सके। 

अधिवक्ता ने बताया कि न्यायालय ने यह भी कहा है कि अत्यंत गरीब लोगों को भी टीके से वंचित न किया जाए बल्कि शासन उनके लिए एक हेल्प डेस्क बनाकर, सभी वर्ग के लोगों के लिए टीके का उचित अनुपात निर्धारित करें। उच्च न्यायालय ने राज्य शासन को पूरे मामले में जवाब देने के लिए दो दिन का समय दिया है।