BREAKING NEWS

गृह मंत्री अमित शाह बोले- देश की सुरक्षा को लेकर कोई समझौता बर्दाश्त नहीं ◾आज देश सरदार पटेल के एक भारत-श्रेष्ठ भारत के सपने को साकार होते हुए देख रहा है : PM मोदी◾मायावती ने कांग्रेस पर साधा निशाना, कहा- गैर भरोसेमंद और धोखेबाज है◾शारदा चिट फंड घोटाला : कोलकाता HC ने राजीव कुमार की अग्रिम जमानत याचिका पर सुनवाई से किया इनकार◾कपिल सिब्बल ने मोदी सरकार पर साधा निशाना, कहा- कश्मीर में हालात सामान्य तो फारुक अब्दुल्ला गिरफ्तार क्यों ?◾मंदी की मार को लेकर जिम्मेदारी से बचना चाहती है बीजेपी सरकार : प्रियंका गांधी◾भारत और पाकिस्तान के प्रधानमंत्रियों से जल्द ही करूंगा मुलाकात : डोनाल्ड ट्रंप ◾राजस्थान : BSP को झटका, छह विधायकों ने थामा कांग्रेस का हाथ ◾प्रधानमंत्री मोदी का 69वां जन्मदिन, राष्ट्रपति कोविंद सहित विपक्ष के अन्य नेताओं ने दी शुभकामनाएं◾सरदार सरोवर का गेट खोलने की मांग को लेकर मेधा पाटकर मंगलवार को निकालेंगी रैली ◾PM मोदी अपने जन्मदिन के मौके पर नर्मदा बांध का करेंगे दौरा ◾नितिन गडकरी बोले- सिर्फ आरक्षण से किसी समुदाय का विकास सुनिश्चित नहीं हो सकता ◾TOP 20 NEWS 16 September : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾केंद्रीय मंत्री जावड़ेकर बोले- जल्द ही पूरी दुनिया में उपलब्ध होगा दूरदर्शन इंडिया◾योगी सरकार को इलाहाबाद HC से झटका, 17 OBC जातियों को SC में शामिल करने पर रोक◾शरद पवार का ऐलान- महाराष्ट्र में 125-125 सीटों पर चुनाव लड़ेंगी NCP और कांग्रेस◾हिंदी को लेकर अमित शाह के बयान पर बोले कमल हासन - कोई 'शाह' नहीं तोड़ सकता, 1950 का वादा◾CJI रंजन गोगोई बोले-जरूरत हुई तो मैं खुद जाऊंगा जम्मू-कश्मीर हाई कोर्ट◾गंगवार के बयान पर प्रियंका का वार, कहा-मंत्री जी, 5 साल में कितने उत्तर भारतीयों को दी हैं नौकरियां◾SC ने गुलाम नबी आजाद को कश्मीर जाने की दी अनुमति, कोई राजनीतिक रैली न करने का दिया आदेश◾

अन्य राज्य

कांग्रेस और झामुमो विकास में अवरोधक : रघुवर दास

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता एवं झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) और कांग्रेस को विकास का सबसे बड़ अवरोधक बताया और कहा कि दोनों दल केवल वंशवाद की राजनीति करते हैं। श्री दास ने पार्टी प्रत्याशियों के पक्ष में आज कई चुनावों सभाओं को संबोधित करते हुए झामुमो और कांग्रेस पर जमकर प्रहार किया। उन्होंने झामुमो और कांग्रेस पर वंशवाद की राजनीति करने का आरोप लगाया और कहा कि इन पार्टियों ने कई दशकों से एक परिवार के विकास के लिए काम किया है। ये पार्टियां सिर्फ बाप, बेटा, बेटी और बहू तक ही सीमित है। उन्होंने कहा कि खानदान की राजनीति करने वाले के पास देश के विकास का एजेंडा नहीं। उन्होंने कहा कि गांधी परिवार देश को और झारखण्ड मुक्ति मोर्चा झारखण्ड को जागीर समझते हैं।

 मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘ मैं एक खलासी का बेटा और मजदूर हूं। मैंने गरीबी देखी है। वंशवाद और खानदान की राजनीति करने वाले गरीबी क्या जाने। इनके अंदर इस बात की बौखलाहट है कि एक चाय बेचने वाला गरीब घर का बेटा आज देश प्रधानमंत्री है जो देश के विकास में जुटा है। इसलिए विपक्ष उन्हें लगातार अपशब्द कह रहा है। श्री दास ने सीएनटी (छोटानागपुर काश्तकारी अधिनियम) और एसपीटी (संथाल परगना अधिनियम) एक्ट को लेकर विपक्ष के हमलों पर चुनौती देते हुए कहा कि विपक्ष को बताना चाहिए कि सरकार ने कहां आदिवासियों की जमीन छिनी है। रघुवर दास ने कहां इनका उल्लंघन किया है।

उन्होंने कहा, ‘‘ मैं भी साल 1995 से विधायक, मंत्री और अब मुख्यमंत्री हूं, कोई बता दे कि मैंने एक इंच भी जमीन सीएनटी-एसपीटी एक्ट के उल्लंघन कर खरीदी हो। ’’ मुख्यमंत्री ने झामुमो सुप्रीमो शिबू सोरेन और नेता प्रतिपक्ष हेमंत सोरेन पर हमला करते हुए कहा कि सोरेन परिवार असल में संथाल परगना का नहीं बल्कि बोकारो जिला स्थित गोला का रहने वाला है, लेकिन राज्यभर में करोड़ रुपये की जमीन सत्ता में रहते हुए कानून का उल्लंघन कर खरीदी है। खुद को संताल का हितैषी बताने वाले झामुमो ने संताल के विकास को रोक कर सोरेन परिवार का विकास किया। श्री दास ने कहा कि चुनाव के वक्त ही हमेशा झामुमो को जल, जंगल और जमीन की याद आती है।

अफवाहें फैलाकर झामुमो के नेता जनता को भ्रमित करते हैं। पिछले 40 साल से यही होता आ रहा है। संताल के लोग हमेशा से ठगे गये है। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार संथाल के विकास के लिए कृतसंकल्पित है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में संथाली लिपि ओलचिकी को बढ़वा दिया जा रहा है। संथाल के विकास और यहां की संस्कृति को अक्षुण्ण रखने के लिए सरकार कार्य कर रही है। मुख्यमंत्री ने युवाओं को विकास में भागीदार बनने का आह्वान करते हुए कहा, ‘‘संताल के युवाओं जो जिंदगी आपने अब तक जी है क्या वही जिंदगी आने वाली पीढ़ भी जिये। आप ऐसी जिंदगी आने वाली पीढ़ पर ना थोपें। इसे बदलें। आप एक कदम चलें राज्य सरकार आपके साथ चार कदम चलेगी।