BREAKING NEWS

दुनिया में कोरोना से संक्रमितों का आंकड़ा 57 लाख के करीब, अब तक 3 लाख 55 हजार से अधिक की मौत ◾मौसम खराब होने की वजह से Nasa और SpaceX का ऐतिहासिक एस्ट्रोनॉट लॉन्च टला◾कोविड-19 : देश में महामारी से अब तक 4500 से अधिक लोगों की मौत, संक्रमितों की संख्या 1 लाख 58 हजार के पार ◾मुंबई के फॉर्च्यून होटल में लगी आग, 25 डॉक्टरों को बचाया गया ◾अमेरिका में कोरोना मरीजों के आंकड़ों में बढ़ोतरी का सिलसिला जारी, मरने वालों की संख्या 1 लाख के पार ◾गुजरात में कोरोना के 376 नये मामले सामने आये, संक्रमितों की संख्या बढ़कर 15205 हुई ◾पड़ोसी देश नेपाल की राजनीतिक हालात पर बारीकी से नजर रख रहा है भारत◾कोरोना वायरस : आर्थिक संकट के बीच पंजाब सरकार ने केंद्र से मांगी 51,102 करोड रुपये की राजकोषीय सहायता◾चीन, भारत को अपने मतभेद बातचीत के जरिये सुलझाने चाहिए : चीनी राजदूत◾महाराष्ट्र : 24 घंटे में कोरोना से 105 लोगों की गई जान, मरीजों की संख्या 57 हजार के करीब◾उत्तर - मध्य भारत में भयंकर गर्मी का प्रकोप , लगातार दूसरे दिन दिल्ली में पारा 47 डिग्री के पार◾नक्शा विवाद में नेपाल ने अपने कदम पीछे खींचे, भारत के हिस्सों को नक्शे में दिखाने का प्रस्ताव वापस◾भारत-चीन के बीच सीमा विवाद पर अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प ने की मध्यस्थता की पेशकश◾चीन के साथ तनातनी पर रविशंकर प्रसाद बोले - नरेंद्र मोदी के भारत को कोई भी आंख नहीं दिखा सकता◾LAC पर भारत के साथ तनातनी के बीच चीन का बड़ा बयान , कहा - हालात ‘‘पूरी तरह स्थिर और नियंत्रण-योग्य’’ ◾बीते 24 घंटों में दिल्ली में कोरोना के 792 नए मामले आए सामने, अब तक कुल 303 लोगों की मौत ◾प्रियंका ने CM योगी से किया सवाल, क्या मजदूरों को बंधुआ बनाना चाहती है सरकार?◾राहुल के 'लॉकडाउन' को विफल बताने वाले आरोपों को केंद्रीय मंत्री रविशंकर ने बताया झूठ◾वायुसेना में शामिल हुई लड़ाकू विमान तेजस की दूसरी स्क्वाड्रन, इजरायल की मिसाइल से है लैस◾केन्द्र और महाराष्ट्र सरकार के विवाद में पिस रहे लाखों प्रवासी श्रमिक : मायावती ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

दिल्ली पुलिस को फटकार वाले आदेश के कारण न्यायमूर्ति मुरलीधर का हुआ ट्रांसफर : माकपा

दिल्ली हिंसा मामले की सुनवाई करने वाले हाई कोर्ट के जज न्यायमूर्ति एस. मुरलीधर के ट्रांसफर को लेकर माकपा ने बीजेपी सरकार पर निशाना साधा रही है। वहीं माकपा ने गुरुवार को कहा कि न्यायमूर्ति एस. मुरलीधर ट्रांसफर इसलिए किया गया क्योंकि उनके कोर्ट ने नफरत वाले भाषण देने वाले बीजेपी नेताओं को बचाने के प्रयास के लिए दिल्ली पुलिस को फटकार लगाई थी। 

माकपा ने  कहा कि न्यायमूर्ति एस. मुरलीधर का दिल्ली हाई कोर्ट से ट्रांसफर इसलिए किया गया क्योंकि उनके कोर्ट ने नफरत वाले भाषण देने वाले बीजेपी नेताओं को बचाने के प्रयास के लिए दिल्ली पुलिस को फटकार लगायी थी। वाम दल ने मांग की है कि सरकार बुधवार रात अधिसूचित ट्रांसफर आदेश को कुछ समय के लिए रोक दे ताकि न्यायिक प्रणाली में लोगों का भरोसा फिर से बहाल हो। 

दिल्ली हिंसा को लेकर खुद पर लगे आरोपों को ताहिर हुसैन ने बताया बेबुनियाद

न्यायमूर्ति मुरलीधर की पीठ ने बीजेपी के प्रवेश वर्मा, कपिल मिश्रा और अनुराग ठाकुर द्वारा दिए गए नफरत वाले कथित भाषणों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने में दिल्ली पुलिस की ‘‘नाकामी’’ पर नाराजगी जाहिर की थी। न्यायमूर्ति मुरलीधर का ट्रांसफर पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट के लिए कर दिया गया। 

माकपा ने एक बयान में कहा कि सुप्रीम कोर्ट के कॉलेजियम की सिफारिश पर ट्रांसफर हुआ, लेकिन दिल्ली हाई कोर्ट बार एसोसिएशन ने इस पर विरोध जताया था। बयान में कहा गया कि ऐसा लगता है कि दिल्ली हाई कोर्ट में कल जो हुआ उसके जवाब में इसका क्रियान्वयन जल्दबाजी में किया गया। 

तथ्य तो वही है कि न्यायमूर्ति मुरलीधर के नेतृत्व वाली पीठ ने दिल्ली विधानसभा चुनाव के दौरान और बाद में नफरती भाषण देने वाले बीजेपी नेताओं को बचाने के प्रयास के लिए दिल्ली पुलिस के प्रति नाराजगी जाहिर की। बयान के मुताबिक, माकपा का पोलित ब्यूरो सरकार से अनुरोध करता है कि ऐसे समय जब भरोसा खत्म हो रहा है, देश के न्यायिक तंत्र के प्रति लोगों का विश्वास फिर से बहाल करने के लिए ट्रांसफर आदेश को कुछ समय के लिए रोका जाए।