BREAKING NEWS

पीएम द्वारा रीवा सौर ऊर्जा परियोजना को एशिया में सबसे बड़ी बताने पर राहुल गांधी ने साधा निशाना ◾पीएम नरेंद्र मोदी ने ‘मन की बात’ के आगामी कार्यक्रम के लिए जनता से सुझाव आमंत्रित किये◾देश में कोरोना के 27 हजार से अधिक नए मामलों का रिकॉर्ड, संक्रमितों का आंकड़ा सवा आठ लाख के करीब ◾World Corona cases: दुनियाभर में संक्रमितों का आंकड़ा 1.24 करोड़ के पार, अब तक हुई 559,481 मौतें◾J&K : नौशेरा सेक्टर में LOC के पास घुसपैठ की कोशिश नाकाम, दो आतंकवादी ढेर◾UP में आज से फिर लॉकडाउन, गौतमबुद्धनगर DM ने 10 जुलाई से 13 जुलाई तक के लिए जारी की एडवाइजरी◾कांग्रेस सांसदों के साथ आज वर्चुअल बैठक करेंगी सोनिया, इन मुद्दों पर होगी चर्चा ◾कांग्रेस का आरोप- खरीद फरोख्त से गहलोत सरकार को गिराने की साजिश रच रही है BJP◾राहुल गांधी की सरकार से मांग, कहा- चीन की घुसपैठ की शिनाख्त के लिए स्वतंत्र तथ्यान्वेषी मिशन की अनुमति दी जाए◾भाजपा ने केजरीवाल सरकार पर साधा निशाना, कहा- केंद्र के हस्तक्षेप के कारण दिल्ली में कोरोना स्थिति सुधरीं◾महाराष्ट्र में कोरोना का विस्फोट जारी, बीते 24 घंटे में रिकॉर्ड 7,862 नए केस, संक्रमितों का आंकड़ा 2.38 लाख के पार◾दिल्ली में कोरोना के 2089 नए मामले की पुष्टि, 42 लोगों की मौत ◾विकास दुबे के एनकाउंटर पर राहुल गांधी का शायराना तंज- 'कई जवाबों से अच्छी खामोशी उसकी'◾एनकाउंटर के दौरान विकास दुबे को 3 सीने में और 1 हाथ में लगी थी गोली◾Vikas Dubey Encounter : कानपुर शूटआउट से लेकर हिस्ट्रीशीटर के खात्मे तक, जानिए हर दिन का घटनाक्रम◾STF की गाड़ी पलटने के बाद विकास दुबे ने की भागने की कोशिश, एनकाउंटर में मारा गया हिस्ट्रीशीटर ◾World Corona : विश्व में संक्रमितों का आंकड़ा 1 करोड़ 25 लाख के करीब, साढ़े पांच लाख से अधिक की मौत ◾विकास दुबे के एनकाउंटर पर बोले दिग्विजय-जिसका शक था वह हो गया◾विकास दुबे के एनकाउंटर पर बोले अखिलेश- कार नहीं पलटी बल्कि सरकार पलटने से बचाई गयी◾देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 8 लाख के करीब, अब तक 21604 लोगों ने गंवाई जान ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

GDP का आधार वर्ष बदलने का फैसला 2-3 महीने में : प्रवीण श्रीवास्तव

भारत के मुख्य सांख्यिकीविद् प्रवीण श्रीवास्तव ने सोमवार को कहा कि सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) वृद्धि की गणना के लिए नया अधार वर्ष तय करने का निर्णय दो- तीन महीने में ले लिया जायेगा। केन्द्र सरकार कुछ सर्वेक्षणों के परिणाम की प्रतीक्षा कर रही है। 

श्रीवास्तव का यह वक्तव्य ऐसे समय आया है जब कांग्रेस ने भाजपा के नेतृत्व वाली केन्द्र सरकार की इस बात के लिये आलोचना की है वह जीडीपी वृद्धि की गणना के लिये आधार वर्ष को मौजूदा 2011-12 से बदलकर 2017- 18 कर रही है। श्रीवास्तव सांख्यिकीविद के साथ ही सांख्यकी एवं कार्यक्रम क्रियान्वयन मंत्रालय के सचिव भी हैं। उन्होंने कहा, ‘‘वर्ष 2017- 18 को आधार वर्ष के बारे में निर्णय 2016 में ही ले लिया गया था। हम कुछ सर्वेक्षणों के परिणाम की प्रतीक्षा कर रहे हैं और उसके आधार पर ही इस बारे में निर्णय ले लिया जायेगा की आधार वर्ष क्या होना चाहिये।’’ 

उन्होंने कहा, इस बारे में विशेषज्ञों का एक समूह विचार विमर्श करेगा और दो से तीन माह में निर्णय ले लिया जायेगा। श्रीवास्तव यहां दो दिन चलने वाले केन्द्रीय और राज्य सांख्यिकीय संगठन की बैठक को संबोधित कर रहे थे। श्रीवास्तव ने पीटीआई- भाषा से कहा, ‘‘इसे (2017- 18 को आधार वर्ष) कभी भी अंतिम रूप नहीं दिया गया। सामान्य तौर पर हम इसे हर पांच साल में करते हैं। यदि हमें किसी आधार वर्ष को चुनना है तो उसके लिये हमें सर्वेक्षण के वास्ते समय चाहिये। वर्ष 2017- 18 में सर्वेक्षण शुरू करने के लिये पहले निर्णय ले लिया गया था। अब सर्वेक्षण के आधार पर ही हमें निर्णय लेना होगा कि यह आर्थिक लिहाज से अच्छा वर्ष रहा है अथवा नहीं।’’ 

उन्होंने आगे कहा, ‘‘हमने इससे पहले तय किया था कि 2009- 10 अच्छा वर्ष नहीं है लेकिन सर्वेक्षण किया गया। जब इसका परिणाम आया तो यह महसूस किया गया कि हमें आधार वर्ष को 2011- 12 में बदलना होगा।’’ 

कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने रविवार को जीडीपी वृद्धि की गणना के लिये आधार वर्ष को 2011- 12 से बदलकर 2017- 18 करने की केन्द्र सरकार की योजना की कड़ी आलोचना की थी। उन्होंने कहा था कि यह बहुत ही ‘‘भयानक’’ विचार है। जयराम रमेश ने मीडिया रिपोर्ट का हवाला देते हुये कहा था कि क्या यह कदम मोदी सरकार की दूसरी पारी को जीडीपी आंकड़ों के लिहाज से बेहतर दिखाने के लिये उठाया जा रहा है। रमेश ने यह भी सुझाव दिया था कि 2017- 18 के बजाय 2018- 19 को जीडीपी आधार वर्ष बनाया जाना चाहिये क्योंकि 2017- 18 सामान्य वर्ष नहीं रहा है। यह साल नोटबंदी का फैसला लेने और जीएसटी को जल्दबाजी में लागू करने वाला साल रहा है। 

यह पूछे जाने पर कि क्या 2018- 19 को आधार वर्ष बनाया जाना विचाराधीन है। इस पर उन्होंने कहा, ‘‘2018- 19 संभव नहीं है। यह साल बीत चुका है और पीछे के वर्ष में सर्वेक्षण नहीं कर सकते हैं। सर्वेक्षण आगे के लिये होना चाहिये। हमारे लिये सबसे नजदीक 2020- 21 का वर्ष है।’’