BREAKING NEWS

झारखंड में रविवार को राजनाथ सिंह और स्मृति ईरानी की चुनाव सभाएं◾सोनिया ने रविवार को बुलाई संसदीय रणनीति समूह की बैठक, नागरिकता विधेयक पर होगी चर्चा ◾PM मोदी ने वैज्ञानिकों का कम लागत वाली प्रौद्योगिकियों के विकास का किया आह्वान ◾NIA ने आईएसआईएस 2 संदिग्धों के खिलाफ आरोप पत्र किया दायर◾उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता ने मरने से पहले कहा-'मुझे बचाओ, मैं मरना नहीं चाहतीं' ◾उन्नाव बलात्कार पीड़िता युवती का शव उसके गांव लाया गया ◾राम मंदिर के ट्रस्ट में संघ प्रमुख भागवत को नहीं होना चाहिए : विहिप◾मेरी मानसिक ताकत तोड़ना चाहती है केंद्र सरकार : चिदंबरम ◾भारत की पहचान 'दुष्कर्म राजधानी' के रूप में बन गई है : राहुल◾TOP 20 NEWS 7 DEC : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾दिल्ली विधानसभा चुनाव में भाजपा का नारा 'अबकी बार, तीन पार' होगा : केजरीवाल◾एनआरसी के खिलाफ कल जंतर-मंतर पर प्रदर्शन करेगी पार्टी : संजय सिंह◾राकांपा नेता उमाशंकर यादव बोले- नैतिकता के आधार पर तत्काल इस्तीफा दें CM योगी◾बलात्कारी के लिए मृत्युदंड से सख्त सजा कुछ नहीं हो सकती, पालक भी जिम्मेदारी समझें : स्मृति ईरानी◾CM केजरीवाल ने उन्नाव बलात्कार पीड़िता की मौत को बताया शर्मनाक, ट्वीट कर कही ये बात ◾बलात्कार की घटनाओं पर स्वत: संज्ञान लें सुप्रीम कोर्ट : मायावती◾PM मोदी, अमित शाह और अजीत डोभाल पुणे में शीर्ष पुलिस अधिकारियों के सम्मेलन में हुए शामिल ◾केरल में बोले राहुल गांधी- महिलाओं के खिलाफ हिंसा और ज्यादतियों में हुई बढ़ोतरी◾सशस्त्र सेना झंडा दिवस के अवसर PM मोदी ने लोगों से किया अनुरोध, बोले- सशस्त्र बल के कल्याण के लिए योगदान दें◾उन्नाव रेप पीड़िता की मौत के विरोध में BJP मुख्यालय पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं का प्रदर्शन, पुलिस ने किया लाठीचार्ज◾

अन्य राज्य

GDP का आधार वर्ष बदलने का फैसला 2-3 महीने में : प्रवीण श्रीवास्तव

 136

भारत के मुख्य सांख्यिकीविद् प्रवीण श्रीवास्तव ने सोमवार को कहा कि सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) वृद्धि की गणना के लिए नया अधार वर्ष तय करने का निर्णय दो- तीन महीने में ले लिया जायेगा। केन्द्र सरकार कुछ सर्वेक्षणों के परिणाम की प्रतीक्षा कर रही है। 

श्रीवास्तव का यह वक्तव्य ऐसे समय आया है जब कांग्रेस ने भाजपा के नेतृत्व वाली केन्द्र सरकार की इस बात के लिये आलोचना की है वह जीडीपी वृद्धि की गणना के लिये आधार वर्ष को मौजूदा 2011-12 से बदलकर 2017- 18 कर रही है। श्रीवास्तव सांख्यिकीविद के साथ ही सांख्यकी एवं कार्यक्रम क्रियान्वयन मंत्रालय के सचिव भी हैं। उन्होंने कहा, ‘‘वर्ष 2017- 18 को आधार वर्ष के बारे में निर्णय 2016 में ही ले लिया गया था। हम कुछ सर्वेक्षणों के परिणाम की प्रतीक्षा कर रहे हैं और उसके आधार पर ही इस बारे में निर्णय ले लिया जायेगा की आधार वर्ष क्या होना चाहिये।’’ 

उन्होंने कहा, इस बारे में विशेषज्ञों का एक समूह विचार विमर्श करेगा और दो से तीन माह में निर्णय ले लिया जायेगा। श्रीवास्तव यहां दो दिन चलने वाले केन्द्रीय और राज्य सांख्यिकीय संगठन की बैठक को संबोधित कर रहे थे। श्रीवास्तव ने पीटीआई- भाषा से कहा, ‘‘इसे (2017- 18 को आधार वर्ष) कभी भी अंतिम रूप नहीं दिया गया। सामान्य तौर पर हम इसे हर पांच साल में करते हैं। यदि हमें किसी आधार वर्ष को चुनना है तो उसके लिये हमें सर्वेक्षण के वास्ते समय चाहिये। वर्ष 2017- 18 में सर्वेक्षण शुरू करने के लिये पहले निर्णय ले लिया गया था। अब सर्वेक्षण के आधार पर ही हमें निर्णय लेना होगा कि यह आर्थिक लिहाज से अच्छा वर्ष रहा है अथवा नहीं।’’ 

उन्होंने आगे कहा, ‘‘हमने इससे पहले तय किया था कि 2009- 10 अच्छा वर्ष नहीं है लेकिन सर्वेक्षण किया गया। जब इसका परिणाम आया तो यह महसूस किया गया कि हमें आधार वर्ष को 2011- 12 में बदलना होगा।’’ 

कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने रविवार को जीडीपी वृद्धि की गणना के लिये आधार वर्ष को 2011- 12 से बदलकर 2017- 18 करने की केन्द्र सरकार की योजना की कड़ी आलोचना की थी। उन्होंने कहा था कि यह बहुत ही ‘‘भयानक’’ विचार है। जयराम रमेश ने मीडिया रिपोर्ट का हवाला देते हुये कहा था कि क्या यह कदम मोदी सरकार की दूसरी पारी को जीडीपी आंकड़ों के लिहाज से बेहतर दिखाने के लिये उठाया जा रहा है। रमेश ने यह भी सुझाव दिया था कि 2017- 18 के बजाय 2018- 19 को जीडीपी आधार वर्ष बनाया जाना चाहिये क्योंकि 2017- 18 सामान्य वर्ष नहीं रहा है। यह साल नोटबंदी का फैसला लेने और जीएसटी को जल्दबाजी में लागू करने वाला साल रहा है। 

यह पूछे जाने पर कि क्या 2018- 19 को आधार वर्ष बनाया जाना विचाराधीन है। इस पर उन्होंने कहा, ‘‘2018- 19 संभव नहीं है। यह साल बीत चुका है और पीछे के वर्ष में सर्वेक्षण नहीं कर सकते हैं। सर्वेक्षण आगे के लिये होना चाहिये। हमारे लिये सबसे नजदीक 2020- 21 का वर्ष है।’’