BREAKING NEWS

जगदीप धनखड़ ने उपराष्ट्रपति पद की शपथ ली, राजघाट जा कर महात्मा गांधी को दी श्रद्धांजलि ◾मेस का खाना देखकर रोया कॉन्स्टेबल, बोला- मिलती हैं पानी वाली दाल और कच्ची रोटियां◾बिहार में मंत्रिमंडल को लेकर RJD की नजर 'ए टू जेड' पर, मंत्रियों की सूची पर लालू लगाएंगे अंतिम मुहर ◾बिज़नेस टाइकून एलन मस्क ने टेस्ला में अपने 80 लाख शेयर बेचे, क्या फिर करने जा रहे है बड़ा धमाका ◾राजस्‍थान : गौवंश पर कहर बनकर टूटा लम्‍पी रोग, हजारों मवेशियों की मौत के बाद पशु मेलों पर रोक◾गुरुग्राम के क्लब में बाउंसर ने की लड़की से छेड़छाड़, विरोध करने पर दोस्तों से हुई मारपीट, सात लोग गिरफ्तार◾ताइवान के खिलाफ चीन की 'आक्रामकता' पर ब्रिटेन सख्त, उठाया ये कदम ◾जम्मू कश्मीर में आतंकी हमला, सेना कैंप में घुस रहे 2 आतंकी ढेर, 3 जवान शहीद◾आज का राशिफल (11 अगस्त 2022)◾हर घर तिरंगा अभियान : शौर्य चक्र से सम्मानित सिपाही औरंगजेब की मां ने अपने घर पर फहराया 'तिरंगा'◾दिल का दौरा पड़ने के बाद राजू श्रीवास्तव एम्स में भर्ती , वेंटिलेटर सपोर्ट पर रखे गए◾माकपा ने 'मुफ्त उपहार' वाले बयान को लेकर PM मोदी पर निशाना साधा◾कांग्रेस ने महाराष्ट्र मंत्रिमंडल में संजय राठौर को शामिल किए जाने को लेकर BJP पर साधा निशाना◾High Court में जनहित याचिका : याददाश्त खो चुके हैं सत्येंद्र जैन, विधानसभा और मंत्रिमंडल से अयोग्य घोषित किया जाए◾केजरीवाल ने गुजरात में सत्ता में आने पर महिलाओं को 1000 रुपये मासिक भत्ता देने का किया ऐलान ◾ISRO ने गगनयान से जुड़ा LEM परीक्षण सफलतापूर्वक पूरा किया◾Corbevax Corona Vaccine : केंद्र सरकार ने वयस्कों को कॉर्बेवैक्स की बूस्टर खुराक देने को दी मंजूरी ◾भारत के अतीत, वर्तमान के लिए प्रतिबद्धता और भविष्य के सपनों को झलकाता है तिरंगा : PM मोदी◾ हिमाचल में भी खिसक सकती हैं भाजपा की सरकार ! कांग्रेस ने विधानसभा में लाया अविश्वास प्रस्ताव ◾काले कपड़ों में कांग्रेस के प्रदर्शन पर PM मोदी ने कसा तंज, कहा- जनता भरोसा नहीं करेगी...◾

पश्चिम बंगाल: राज्यपाल धनखड़ ने ममता पर साधा निशाना, कहा- उन्होंने सदन में अव्यवस्था की प्रशंसा की

पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने बुधवार को मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि उन्होंने बजट सत्र के पहले दिन विधानसभा में उत्पन्न हुई अव्यवस्था की प्रशंसा की, जबकि उन्हें संबोधन को बीच में ही खत्म करना पड़ा और अपने भाषण को सदन के पटल पर रखना पड़ा। धनखड़ ने कहा कि सोमवार को विधानसभा में उन्हें वस्तुत: मंत्रियों और सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस के विधायकों के ‘घेराव’ का सामना करना पड़ा।  

विधानसभा में राज्यपाल के घेराव/ नाकेबंदी करने की प्रशंसा तो कम ही की जाए 

राज्यपाल की यह टिप्पणी मुख्यमंत्री ममता बनर्जी द्वारा मंगलवार को दिए गए उस बयान के बाद आयी है, जिसमें उन्होंने सदन में भाजपा विधायकों के विरोध प्रदर्शन के बावजूद राज्यपाल से अपना संबोधन पूरा करने का अनुरोध करने को लेकर अपनी महिला विधायकों की प्रशंसा की थी। धनखड़ ने सदन की कार्यवाही से एक दिन पहले विधानसभा अध्यक्ष बिमान बंदोपाध्याय से कहा था कि वह उनसे मुलाकात करें। उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘पवित्र पश्चिम बंगाल विधानसभा में राज्यपाल के घेराव/ नाकेबंदी करने की प्रशंसा तो कम ही की जाए, इस पाप से मुक्त होने का कोई तर्क नहीं हो सकता।’’  

यह प्रतिबिंबित करता है। हम कहां जा रहे हैं और क्यों 

राज्यपाल ने मुख्यमंत्री के भाषण का वीडियो क्लिप साझा करते हुए लिखा, ‘‘यह प्रतिबिंबित करता है। हम कहां जा रहे हैं और क्यों। माननीय मुख्यमंत्री किस चीज की प्रशंसा कर रही हैं। सदन में ‘अव्यवस्था’ की। हमें लोकतंत्र के फलने-फूलने के लिए मिलकर काम करने की जरूरत है।’’  

उल्लेखनीय है कि पश्चिम बंगाल विधानसभा के बजट सत्र के पहले दिन उस समय नाटकीय स्थिति देखने को मिली जब हाल में हुए नगर निकाय चुनाव में कथित हिंसा के खिलाफ भाजपा विधायकों के हंगामेदार प्रदर्शन के बीच राज्यपाल को अपना भाषण बीच में ही रोकना पड़ा और उन्हें इसे सदन के पटल पर रखना पड़ा। इस हंगामे के बीच सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस की महिला विधायकों ने राज्यपाल से अपना भाषण जारी रखने का अनुरोध किया।  

धनखड़ ने कहा- कैसी विडंबना है कि  

बाद में विधानसभा अध्यक्ष को लिखे पत्र में धनखड़ ने कहा, ‘‘कैसी विडंबना है कि राज्यपाल के अभिभाषण में प्रधान साझेदार सत्तापक्ष के सदस्यों ने भी सदन की अव्यवस्था में योगदान दिया, जहां पहले ही विपक्ष का अनियंत्रित प्रदर्शन देखने को मिल रहा था।’’ राज्यपाल के ट्वीट पर प्रतिक्रिया देते हुए तृणमूल कांग्रेस के प्रवक्ता कुणाल घोष ने कहा कि विधानसभा की पहले दिन की कार्यवाही के दौरान उन्होंने भाजपा विधायकों के अनियंत्रित व्यवहार का सामना किया, लेकिन उसे नजरअंदाज कर आरोप तृणमूल पर मढ़ दिया, जो केवल इस बात पर ध्यान केंद्रित कर रही थी कि वह अपना रस्मी बजट भाषण पूरा करें और किसी दुर्व्यवहार का सामना नहीं करें। 

घोष ने कहा, ‘‘राज्यपाल का ट्वीट उनके भाजपा से गठजोड़ का खुलासा करता है और संकेत देता है कि उनकी वास्तविक योजना प्रक्रिया पूरी होने से पहले ही विधानसभा को छोड़ने की थी और हमारी महिला विधायकों ने ऐसा होने नहीं दिया।’’