BREAKING NEWS

मंकीपॉक्स की चपेट में आए 20+ देश! जानें कैसे फैल रही यह बिमारी.. WHO ने दी अहम जानकारियां ◾ Ladakh News: लद्दाख दुर्घटना को लेकर देशवासियों को लगा जोरदार झटका, पीएम मोदी समेत कई बड़े नेताओं ने जताया दुख◾ UCC लागू करने की दिशा में उत्तराखंड सरकार ने बढ़ाया कदम, CM धामी बताया कब से होगा लागू◾UP News: योगी पर प्रहार करते हुए अखिलेश यादव बोले- यूपी को किया तहस नहस! शिक्षा व्यवस्था पर भी कसा तंज◾ Gyanvapi Case: सोमवार को हिंदू और मुस्लिम पक्ष को मिलेंगी सर्वे की वीडियो और फोटो◾ RR vs RCB ipl 2022: राजस्थान ने टॉस जीतकर किया गेंदबाजी का फैसला, यहां देखें दोनों टीमों की प्लेइंग XI◾नेहरू की पुण्यतिथि पर राहुल गांधी का मोदी पर प्रहार, बोले- 8 सालों में भाजपा ने लोकतंत्र को किया कमजोर◾Sri Lanka crisis: आर्थिक संकट के चलते श्रीलंका में निजी कंपनियां भी कर सकेगी तेल आयात◾ नजर नहीं है नजारों की बात करते हैं, जमीं पे चांद सितारों की बात करते...शायराना अंदाज में योगी का विपक्ष पर निशाना ◾Ladakh Accident News: लद्दाख के तुरतुक में हुआ खौफनाक हादसा, सेना की गाड़ी श्योक नदी में गिरी, 7 जवानों की हुई मौत◾ कर्नाटक में हिन्दू लड़के को मुस्लिम लड़की से प्यार करने की मिली सजा, नाराज भाईयों ने चाकू से गोदकर की हत्या◾कांग्रेस को मझदार में छोड़ अब हार्दिक पटेल कर रहे BJP के जहाज में सवारी की तैयारी? दिए यह बड़े संकेत ◾RBI ने कहा- खुदरा महंगाई पर दबाव डाल सकती है थोक मुद्रास्फीति की ऊंची दर◾ SC से सपा नेता आजम खान को राहत, जौहर यूनिवर्सिटी के हिस्सों को गिराने की कार्रवाई पर रोक◾आर्यन खान केस में पूर्व निदेशक की जांच में थी गलतियां.. NCB ने कबूली यह बात, जानें वानखेड़े की प्रतिक्रिया ◾ शेख जफर से बना चैतन्य सिंह राजपूत...,MP के मुस्लिम शख्स ने अपनाया सनातन धर्म ◾कांग्रेस में फिर दोहरा रहा इतिहास? पंजाब की तरह राजस्थान में CM गहलोत के खिलाफ बन रहा माहौल... ◾ J&K : TV एक्ट्रेस अमरीन भट्ट के परिजनों से मिलीं महबूबा मुफ्ती, बोलीं- बेगुनाहों का खून बहाना रोज का मामूल बन गया ◾गुजरात बंदरगाह पर मिली ड्रग्स को लेकर कांग्रेस ने सरकार पर साधा निशाना, कहा- देश को बताएं किसका संरक्षण है ◾Maharashtra: कोरोना ने फिर एक बार सरकार की बढ़ाई चिंता, जानें- CM ठाकरे ने जनता से क्या कहा? ◾

दिलीप घोष ने ममता की आलोचना करते हुए कहा- सरकार की विफलता छुपाने के लिए हो रही विस्तार की बात

पश्चिम बंगाल की राजनीतिरक पृष्ठभूमि अब काफी हद तक जंग का अखाड़ा बन गई है। सत्ता में काबिज तृणमूल कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के बीच आए दिन कोई ना कोई नया विवाद आ जाता है और प्रदेश की राजनीति में उठा-पठक का माहौल बना देता है।
मुख्यमंत्री ममता बनर्जी शहीद दिवस योजना को राष्ट्रीय स्तर पर ले जाने का मन बना रही हैं। ऐसे में प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष ने बुधवार को कहा कि राज्य में यह परंपरा है कि जब सरकार विफल हो जाती है, तो सत्तारूढ़ पार्टी विस्तार और राष्ट्रीय उपस्थिति की बात करने लगती है।
अगले आम चुनाव से पहले तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के विस्तार के लिए बनर्जी की योजना का उल्लेख करते हुए, घोष ने कहा, वह टीएमसी को एक राष्ट्रीय पार्टी बनाने के लिए लंबे समय से कोशिश कर रही है, लेकिन वह अपने पिछले सभी प्रयासों में विफल रही। पश्चिम बंगाल की एक परंपरा है कि जब सत्तारूढ़ दल शासन करने में विफल रहता है, यह एक राष्ट्रीय पार्टी बनने की कोशिश करना शुरू कर देता है।

माकपा ने ऐसा तब किया था जब ज्योति बसु मुख्यमंत्री थे। अब, वह वही कर रही है। यह नया नहीं है, यह एक परंपरा का हिस्सा है। तत्कालीन मुख्यमंत्री बसु को प्रधानमंत्री बनाने के माकपा के प्रयास के बारे में बात करते हुए घोष ने कहा, माकपा ने ज्योति बसु को प्रधानमंत्री बनाने की बहुत कोशिश की थी, लेकिन यह विफल रहा।

(हरकिशन सिंह) सुरजीत जी ने सीपीएम की राष्ट्रीय भूमिका के लिए बहुत मेहनत की और अपने नेता को देश का प्रधान मंत्री बनाने की कोशिश की। उन्होंने नाश्ते की मेज पर किसी के साथ चाय, दोपहर का भोजन और रात का खाना दूसरों के साथ किया। लेकिन तब सभी प्रयास विफल रहे और अब भाजपा के कारण माकपा की उपस्थिति तीन से घटकर सिर्फ एक राज्य (केरल) रह गई है।
घोष ने दावा किया कि बनर्जी भी यही कोशिश कर रही हैं। उन्हें माकपा की तरह विफल शासन की भी समस्या थी। वह अपनी जिम्मेदारी से भागने की कोशिश कर रही है। पश्चिम बंगाल राजनीतिक हिंसा, भ्रष्टाचार का एक नया शिखर देख रहा है और लाखों लोग अपनी आजीविका कमाने के लिए राज्य से पलायन कर रहे हैं। इन मुद्दों से लोगों का ध्यान भटकाएं, बनर्जी अपने लिए विस्तार और राष्ट्रीय भूमिका की बात कर रही हैं।
ममता बनर्जी हर साल 21 जुलाई को शहीद दिवस के रूप में मनाती हैं। 1993 में कोलकाता में युवा कांग्रेस की रैली में मारे गए 13 लोगों को याद करने के लिए यह मनाया जाता है। पार्टी के विस्तार को देखते हुए, टीएमसी ने बनर्जी के संबोधन को पूरे पश्चिम बंगाल में प्रसारित करने का फैसला किया है और पहली बार तमिलनाडु, दिल्ली, पंजाब, त्रिपुरा और चुनाव वाले गुजरात और उत्तर प्रदेश जैसे अन्य राज्यों में भी प्रसारित करने का फैसला किया।
तीसरे कार्यकाल के लिए सत्ता में आने के बाद, टीएमसी ने राष्ट्रीय पार्टी बनने के लिए अन्य राज्यों में अपना जाल फैलाने का फैसला किया है। भगवा पार्टी राजनीतिक हिंसा में मारे गए अपने कार्यकर्ताओं को श्रद्धांजलि देने के लिए बुधवार को पश्चिम बंगाल और राष्ट्रीय राजधानी में धरना दे रही है। पश्चिम बंगाल के भाजपा सांसद घोष के नेतृत्व में दिल्ली में धरने में शामिल हुए।