BREAKING NEWS

किसानों को अमित शाह का संदेश- हर समस्या और मांग पर सरकार विचार करने को तैयार◾दिल्ली में 24 घंटे में संक्रमण के 4998 नए मामले आये सामने, 89 और लोगों की मौत◾दिल्ली में कम हो रहा महामारी का संक्रमण, बीत चुका है कोरोना का तीसरा पीक : CM केजरीवाल◾पंजाब के CM अमरिंदर का बड़ा हमला- मेरे किसानों पर हुई निर्दयता, माफी मांगें खट्टर◾ओवैसी के गढ़ में CM योगी का भव्य स्वागत, लोगों ने लगाए आया-आया शेर आया के नारे◾हैदराबाद नगर निगम चुनाव: भाजपा के संबित पात्रा ने AIMIM और TRS पर जमकर हमला बोला ◾हरियाणा : प्रदर्शनकारी किसान नेताओं पर हत्या के प्रयास और दंगा करने के आरोप में मामला दर्ज ◾दिल्ली के निरंकारी मैदान में इकट्ठा हुए सैकड़ों किसान, नारों, गीतों व ढोल-नगाड़ों से गूंजा मैदान◾कोरोना वैक्सीन निर्माण की समीक्षा करने के लिए पुणे के सीरम इंस्टिट्यूट पहुंचे PM मोदी◾किसानों से बात करने के लिए पूरी तरह तैयार केंद्र, आंदोलन पर राजनीति न करें पार्टियां : नरेंद्र सिंह तोमर◾हजारों किसानों ने सिंघू बॉर्डर पर डटे रहने का किया फैसला, लगा सात किलोमीटर लंबा जाम◾राकेश टिकैत के ऐलान के बाद दिल्ली-यूपी बॉर्डर पर भी किसान मोर्चा खुलने की आशंका, पुलिस सतर्क ◾कोरोना महामारी की चपेट में आए NCP के विधायक भारत भालके का हुआ निधन◾दिल्ली बॉर्डर पर किसानों का हल्लाबोल जारी, बोले - छह महीने तक भी कर सकते है प्रदर्शन ◾राहुल और प्रियंका का वार- PM मोदी के अहंकार ने जवान को किसान के खिलाफ खड़ा कर दिया◾आंदोलन में भाग लेने के लिए 2 लाख और किसान पहुंचेंगे दिल्ली, 40 किलोमीटर लंबा है गाड़ियों का काफिला◾UP : राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने गैर कानूनी धर्म परिवर्तन के खिलाफ अध्यादेश को दी मंजूरी◾TOP 5 NEWS 28 NOVEMBER : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें ◾विश्व के लगभग हर देश में कोरोना का प्रकोप तेज, संक्रमितों का आंकड़ा 6 करोड़ 15 लाख से अधिक ◾देश में कोरोना के एक्टिव केस साढ़े चार लाख से अधिक, संक्रमितों का आंकड़ा साढ़े 93 लाख के पार ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

उत्तराखंड में भी मंत्रिमंडल विस्तार की चर्चाएं

देहरादून : उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ मंत्रिमंडल में फेरबदल और विस्तार के बाद अब एक बार फिर  उत्तराखंड में भी मंत्रिमंडल विस्तार की चर्चाएं तेज हो गई हैं। कुछ समय पहले मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने स्वयं अपनी टीम में नए चेहरे शामिल किए जाने की बात कही थी। अब जिस तरह से उत्तर प्रदेश में बड़ा  विस्तार किया गया है, उससे इस बात की संभावनाएं पुख्ता नजर आ रही हैं कि उत्तराखंड में भी मंत्रिमंडल में रिक्त तीन पद जल्द भरे जा सकते हैं। 

उत्तराखंड विधानसभा 70 सीटों का छोटा राज्य है और इस लिहाज से यहां मंत्रिमंडल में अधिकतम 12 ही सदस्य शामिल किए जा सकते हैं। मार्च 2017 में  जब उत्तराखंड में भाजपा सरकार बनी, तब मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत  समेत कुल 10 सदस्य ही मंत्रिमंडल में शामिल किए गए। उस वक्त माना जा रहा था  कि मुख्यमंत्री जल्द शेष दो पद भी भर देंगे, लेकिन ऐसा हुआ नहीं। इस बीच  दो महीने पहले कैबिनेट के वरिष्ठ सदस्य प्रकाश पंत का असामयिक निधन हो गया।  पंत वित्त, पेयजल, आबकारी और संसदीय कार्य जैसे अहम महकमे संभाल रहे थे। ऐसे में कार्य के बंटवारे के लिहाज से यह जरूरी हो गया कि मुख्यमंत्री जल्द  नए मंत्रियों को अपनी टीम में जगह दें।   

रिक्त तीन स्थानों के लिए भाजपा में विधायकों की  लंबी कतार...दरअसल, मंत्रिमंडल में रिक्त तीन स्थानों के लिए भाजपा में विधायकों की  खासी लंबी कतार है। इनमें पांच विधायक तो ऐसे हैं, जो पूर्व में मंत्री रह  चुके हैं। इसके अलावा दो या दो से ज्यादा बार के विधायकों की संख्या 20 से  ज्यादा है। इस स्थिति में इनमें से किन तीन विधायकों को मौका दिया जाए, यह  मुख्यमंत्री के लिए खासा चुनौतीपूर्ण कार्य है। महत्वपूर्ण बात यह कि स्वयं  मुख्यमंत्री कुछ समय पहले मंत्रिमंडल विस्तार जल्द करने की बात कह चुके  हैं। इस स्थिति में इस बात की काफी संभावना है कि आने वाले दिनों में यह  कवायद अंजाम तक पहुंच जाए। 

इस तरह की चर्चाओं को इसलिए भी बल मिल रहा है क्योंकि मुख्यमंत्री तीन दिन पूर्व दिल्ली में भाजपा अध्यक्ष व गृह मंत्री  अमित शाह से मुलाकात कर चुके हैं। अब जबकि उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सत्ता संभालने  के लगभग ढाई साल बाद कुछ मंत्रियों को हटाने के साथ ही नए मंत्री अपने  मंत्रिमंडल में शामिल कर लिए हैं, कयास लगाए जा रहे हैं कि उत्तराखंड में भी मुख्यमंत्री जल्द मंत्रिमंडल विस्तार कर सकते हैं। सियासी गलियारों में  चर्चा तो यह भी है कि कुछ मंत्रियों की परफारमेंस से पार्टी खुश नहीं है,  लिहाजा ऐसे मंत्रियों पर भी सबकी नजरें टिकी हुई हैं।