BREAKING NEWS

PM मोदी का देश की जनता के नाम पत्र, कहा- कोई संकट भारत का भविष्य निर्धारित नहीं कर सकता ◾लद्दाख के उपराज्यपाल आर के माथुर ने गृहमंत्री से की मुलाकात, कोरोना के हालात की स्थिति से कराया अवगत◾महाराष्ट्र : 24 घंटे में कोरोना से 116 लोगों की मौत, 2,682 नए मामले ◾दिल्ली-एनसीआर में महसूस किए गए भूकंप के झटके, रिक्टर स्केल पर तीव्रता 4.6 मापी गई, हरियाणा का रोहतक रहा भूकंप का केंद्र◾मशहूर ज्योतिषाचार्य बेजन दारुवाला का 90 वर्ष की उम्र में निधन, कोरोना लक्षणों के बाद चल रहा था इलाज◾जीडीपी का 3.1 फीसदी पर लुढ़कना भाजपा सरकार के आर्थिक प्रबंधन की बड़ी नाकामी : पी चिदंबरम ◾कोरोना प्रभावित टॉप 10 देशों की लिस्ट में नौवें स्थान पर पहुंचा भारत, मरने वालों की संख्या चीन से ज्यादा हुई ◾पश्चिम बंगाल में 1 जून से खुलेंगे सभी धार्मिक स्थल, 8 जून से सभी संस्थाओं के कर्मचारी लौटेंगे काम पर◾छत्तीसगढ़ के पूर्व CM अजीत जोगी का 74 साल की उम्र में निधन◾दिल्ली: 24 घंटे में कोरोना के 1106 नए मामले, मनीष सिसोदिया बोले- घबराएं नहीं, 50% मरीज ठीक◾ट्रंप के मध्यस्थता वाले प्रस्ताव को चीन ने किया खारिज, कहा-किसी तीसरे पक्ष की जरूरत नहीं◾कैसा होगा लॉकडाउन 5.0 का स्वरूप? PM आवास पर हुई मोदी और शाह के बीच बैठक◾जम्मू-कश्मीर : विस्फोटक से भरी कार के मालिक की हुई पहचान, हिज्बुल का आतंकी है हिदायतुल्लाह मलिक◾रेलवे ने श्रमिक स्पेशल ट्रेनों में पहले से बीमार लोगों और गर्भवती महिलाओं से यात्रा नहीं करने का किया आग्रह◾लॉकडाउन तोड़ गोपालगंज के लिए निकले RJD नेता तेजस्वी यादव को पुलिस ने रोका◾देश को चीन के साथ सीमा हालात के बारे में अवगत कराए सरकार, चुप्पी से अटकलों को मिल रहा है बल : राहुल◾दिल्ली-गुरुग्राम बॉर्डर सील होने के बाद लगा भयंकर जाम, भारी तादाद में बॉर्डर पर जमा हुए लोग◾अमेरिकी राष्ट्रपति के बयान पर भारत ने दी प्रतिक्रिया, कहा- सीमा विवाद को लेकर मोदी और ट्रंप के बीच नहीं हुई बातचीत◾World Corona : दुनिया में महामारी का प्रकोप बरकरार, पॉजिटिव मामलों का आंकड़ा 58 लाख के पार◾देश में कोरोना से संक्रमितों का आंकड़ा 1 लाख 66 हजार के करीब, अब तक 4706 लोगों ने गंवाई जान ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

उत्तराखंड में भी मंत्रिमंडल विस्तार की चर्चाएं

देहरादून : उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ मंत्रिमंडल में फेरबदल और विस्तार के बाद अब एक बार फिर  उत्तराखंड में भी मंत्रिमंडल विस्तार की चर्चाएं तेज हो गई हैं। कुछ समय पहले मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने स्वयं अपनी टीम में नए चेहरे शामिल किए जाने की बात कही थी। अब जिस तरह से उत्तर प्रदेश में बड़ा  विस्तार किया गया है, उससे इस बात की संभावनाएं पुख्ता नजर आ रही हैं कि उत्तराखंड में भी मंत्रिमंडल में रिक्त तीन पद जल्द भरे जा सकते हैं। 

उत्तराखंड विधानसभा 70 सीटों का छोटा राज्य है और इस लिहाज से यहां मंत्रिमंडल में अधिकतम 12 ही सदस्य शामिल किए जा सकते हैं। मार्च 2017 में  जब उत्तराखंड में भाजपा सरकार बनी, तब मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत  समेत कुल 10 सदस्य ही मंत्रिमंडल में शामिल किए गए। उस वक्त माना जा रहा था  कि मुख्यमंत्री जल्द शेष दो पद भी भर देंगे, लेकिन ऐसा हुआ नहीं। इस बीच  दो महीने पहले कैबिनेट के वरिष्ठ सदस्य प्रकाश पंत का असामयिक निधन हो गया।  पंत वित्त, पेयजल, आबकारी और संसदीय कार्य जैसे अहम महकमे संभाल रहे थे। ऐसे में कार्य के बंटवारे के लिहाज से यह जरूरी हो गया कि मुख्यमंत्री जल्द  नए मंत्रियों को अपनी टीम में जगह दें।   

रिक्त तीन स्थानों के लिए भाजपा में विधायकों की  लंबी कतार...दरअसल, मंत्रिमंडल में रिक्त तीन स्थानों के लिए भाजपा में विधायकों की  खासी लंबी कतार है। इनमें पांच विधायक तो ऐसे हैं, जो पूर्व में मंत्री रह  चुके हैं। इसके अलावा दो या दो से ज्यादा बार के विधायकों की संख्या 20 से  ज्यादा है। इस स्थिति में इनमें से किन तीन विधायकों को मौका दिया जाए, यह  मुख्यमंत्री के लिए खासा चुनौतीपूर्ण कार्य है। महत्वपूर्ण बात यह कि स्वयं  मुख्यमंत्री कुछ समय पहले मंत्रिमंडल विस्तार जल्द करने की बात कह चुके  हैं। इस स्थिति में इस बात की काफी संभावना है कि आने वाले दिनों में यह  कवायद अंजाम तक पहुंच जाए। 

इस तरह की चर्चाओं को इसलिए भी बल मिल रहा है क्योंकि मुख्यमंत्री तीन दिन पूर्व दिल्ली में भाजपा अध्यक्ष व गृह मंत्री  अमित शाह से मुलाकात कर चुके हैं। अब जबकि उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सत्ता संभालने  के लगभग ढाई साल बाद कुछ मंत्रियों को हटाने के साथ ही नए मंत्री अपने  मंत्रिमंडल में शामिल कर लिए हैं, कयास लगाए जा रहे हैं कि उत्तराखंड में भी मुख्यमंत्री जल्द मंत्रिमंडल विस्तार कर सकते हैं। सियासी गलियारों में  चर्चा तो यह भी है कि कुछ मंत्रियों की परफारमेंस से पार्टी खुश नहीं है,  लिहाजा ऐसे मंत्रियों पर भी सबकी नजरें टिकी हुई हैं।