BREAKING NEWS

मंकीपॉक्स की चपेट में आए 20+ देश! जानें कैसे फैल रही यह बिमारी.. WHO ने दी अहम जानकारियां ◾ Ladakh News: लद्दाख दुर्घटना को लेकर देशवासियों को लगा जोरदार झटका, पीएम मोदी समेत कई बड़े नेताओं ने जताया दुख◾ UCC लागू करने की दिशा में उत्तराखंड सरकार ने बढ़ाया कदम, CM धामी बताया कब से होगा लागू◾UP News: योगी पर प्रहार करते हुए अखिलेश यादव बोले- यूपी को किया तहस नहस! शिक्षा व्यवस्था पर भी कसा तंज◾ Gyanvapi Case: सोमवार को हिंदू और मुस्लिम पक्ष को मिलेंगी सर्वे की वीडियो और फोटो◾ RR vs RCB ipl 2022: राजस्थान ने टॉस जीतकर किया गेंदबाजी का फैसला, यहां देखें दोनों टीमों की प्लेइंग XI◾नेहरू की पुण्यतिथि पर राहुल गांधी का मोदी पर प्रहार, बोले- 8 सालों में भाजपा ने लोकतंत्र को किया कमजोर◾Sri Lanka crisis: आर्थिक संकट के चलते श्रीलंका में निजी कंपनियां भी कर सकेगी तेल आयात◾ नजर नहीं है नजारों की बात करते हैं, जमीं पे चांद सितारों की बात करते...शायराना अंदाज में योगी का विपक्ष पर निशाना ◾Ladakh Accident News: लद्दाख के तुरतुक में हुआ खौफनाक हादसा, सेना की गाड़ी श्योक नदी में गिरी, 7 जवानों की हुई मौत◾ कर्नाटक में हिन्दू लड़के को मुस्लिम लड़की से प्यार करने की मिली सजा, नाराज भाईयों ने चाकू से गोदकर की हत्या◾कांग्रेस को मझदार में छोड़ अब हार्दिक पटेल कर रहे BJP के जहाज में सवारी की तैयारी? दिए यह बड़े संकेत ◾RBI ने कहा- खुदरा महंगाई पर दबाव डाल सकती है थोक मुद्रास्फीति की ऊंची दर◾ SC से सपा नेता आजम खान को राहत, जौहर यूनिवर्सिटी के हिस्सों को गिराने की कार्रवाई पर रोक◾आर्यन खान केस में पूर्व निदेशक की जांच में थी गलतियां.. NCB ने कबूली यह बात, जानें वानखेड़े की प्रतिक्रिया ◾ शेख जफर से बना चैतन्य सिंह राजपूत...,MP के मुस्लिम शख्स ने अपनाया सनातन धर्म ◾कांग्रेस में फिर दोहरा रहा इतिहास? पंजाब की तरह राजस्थान में CM गहलोत के खिलाफ बन रहा माहौल... ◾ J&K : TV एक्ट्रेस अमरीन भट्ट के परिजनों से मिलीं महबूबा मुफ्ती, बोलीं- बेगुनाहों का खून बहाना रोज का मामूल बन गया ◾गुजरात बंदरगाह पर मिली ड्रग्स को लेकर कांग्रेस ने सरकार पर साधा निशाना, कहा- देश को बताएं किसका संरक्षण है ◾Maharashtra: कोरोना ने फिर एक बार सरकार की बढ़ाई चिंता, जानें- CM ठाकरे ने जनता से क्या कहा? ◾

संविधान के उल्लंघन में 5 साल के कार्यकाल से आगे काम करता रहा चौथा राज्य वित्त आयोग: धनखड़

पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने चौथे राज्य वित्त आयोग (एसएफसी) के संविधान के उल्लंघन में पांच साल की निर्धारित अवधि के बाद भी काम करते रहने का आरोप लगाते हुए रविवार को कहा कि आयोग के सदस्य ‘‘वेतन वापस करने के लिए जवाबदेह’’ हैं और ‘‘सभी खर्चों की वसूली की जानी चाहिए क्योंकि जनता के पैसों को इस तरह बर्बाद नहीं किया जा सकता।’’
उन्होंने यह दावा भी किया कि राज्य वित्त आयोग ने 2014 से राज्यपाल को अनुशंसा नहीं भेजी है, जो उनके मुताबिक ‘‘संवैधानिक तंत्र का ध्वस्त होने जैसा’’ है। उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘संविधान के तहत एसएफसी पांच वर्ष के लिये होता है। ममता बनर्जी चौथा राज्य वित्त आयोग संविधान के उल्लंघन में इसके बाद भी बरकरार रहा। अध्यक्ष और सदस्य वेतन और सुविधाएं राज्य को लौटाने के लिये जवाबदेह हैं तथा संबंधितों से सभी खर्चे वसूल किए जाने की जरूरत है क्योंकि जनता के पैसे को इस तरह बर्बाद नहीं किया जा सकता।’’
चौथे राज्य वित्त आयोग के अध्यक्ष अभिरूप सरकार ने हालांकि को बताया कि फरवरी 2016 में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को अपनी रिपोर्ट सौंपने के बाद पैनल के सदस्यों को कोई शुल्क नहीं मिला। पश्चिम बंगाल सरकार द्वारा अप्रैल 2013 में चौथे राज्य वित्त आयोग का गठन किया गया था।
आरोप के बारे में पूछे जाने पर, सरकार ने कहा, ‘‘आयोग के तीन अंशकालिक सदस्य थे। उन्हें बैठकों में आने के लिए फीस मिलती थी। फरवरी 2016 में अपनी रिपोर्ट जमा करने के बाद हमें कोई पैसा नहीं मिला है। कोई नया एसएफसी नहीं बनाया गया है अभी तक।’’ गौरतलब है कि 2019 में कार्यभार संभालने के बाद से धनखड़ का ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली टीएमसी की सरकार के साथ टकराव चल रहा है।
उन्होंने ट्विटर पर लिखा, ‘‘ममता बनर्जी अनुच्छेद 243आई और 243वाई के तहत राज्य वित्त आयोग को राज्यपाल को सिफारिशें देनी होती हैं जिन्हें राज्य विधानमंडल के समक्ष रखा जाता है। संवैधानिक तंत्र का कैसा पतन है, 2014 के बाद से राज्यपाल को कोई सिफारिश नहीं की गई।’’