BREAKING NEWS

बीजेपी ने छह सीटें जीतने के साथ कर्नाटक विधानसभा में बहुमत किया हासिल ◾झारखंड में बोले राहुल- सत्ता में आने पर लोगों को जल, जंगल और जमीन लौटाया जाएगा◾कांग्रेस ने धर्म के आधार पर देश विभाजन किया जिसके कारण नागरिकता कानून में संशोधन की जरूरत पड़ी : अमित शाह◾अखिलेश यादव ने नागरिकता संशोधन विधेयक को बताया भारत और संविधान का अपमान◾झारखंड में बोले PM मोदी- कांग्रेस कभी भी गठबंधन के भरोसे पर खरा नहीं उतरी◾गृहमंत्री अमित शाह ने लोकसभा में पेश किया नागरिकता संशोधन विधेयक◾शिवसेना नागरिकता संशोधन विधेयक का करेगी समर्थन: संजय राउत ◾हैदराबाद एनकाउंटर मामले पर बुधवार को सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट◾कर्नाटक उपचुनाव : कांग्रेस नेता शिवकुमार ने मानी हार, बोले-लोगों ने दलबदलुओं को किया स्वीकार◾विभाजनकारी चालक के साथ कैब की सवारी है ‘कैब’ विधेयक: कपिल सिब्बल ◾शिवसेना ने केंद्र पर लगाया हिंदुओं-मुसलमानों का ‘अदृश्य विभाजन’ करने का आरोप◾कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी का जन्मदिन आज, PM मोदी समेत कई नेताओं ने दी बधाई◾दिल्ली: अनाज मंडी में 24 घंटे बाद फिर लगी इमारत में आग, मौके पर पहुंची दमकल की गाड़ियां◾कर्नाटक उपचुनाव : येदियुरप्पा का दावा- भाजपा जीतेगी 15 में से 13 सीटें◾कर्नाटक उपचुनाव : मतगणना जारी, परिणाम तय करेंगे BJP का भविष्य ◾असम में नागरिकता संशोधन विधेयक के खिलाफ 16 संगठनों का मंगलवार को बंद का आह्वान ◾दिल्ली : आग की त्रासदी के बाद अस्पताल में भयावह दास्तां ◾दिल्ली अग्निकांड : दमकलकर्मी ने इमारत में फंसे 11 लोगों को बचाया ◾दिल्ली अग्निकांड : इमारत का पिछले हफ्ते हुआ था सर्वेक्षण, ऊपरी मंजिलों पर ताला लगा हुआ था - अधिकारिक सूत्र◾नागरिकता संशोधन विधेयक सोमवार को लोकसभा में पेश करेंगे शाह◾

अन्य राज्य

राज्यपाल गणेशी लाल ने VSSUT के तीन प्रोफेसरों के खिलाफ कार्रवाई की मंजूरी दी

 874

ओडिशा के राज्यपाल गणेशी लाल ने वीर सुरेन्द्र साईं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय (वीएसएसयूटी) के तीन प्रोफेसरों के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई को शनिवार को मंजूरी दी है। इन तीनों प्रोफेसरों पर यह कार्रवाई विश्वविद्यालय के कुलपति को हटाने के लिए कथित रूप से एक प्रदर्शन का नेतृत्व करने के कारण की जाएगी।

राज्यपाल विश्वविद्यालय के कुलाधिपति भी हैं। राज्यपाल ने अपनी सम्मति राज्य कौशल विकास एवं प्रौद्योगिकी शिक्षा विभाग की सिफारिश के आधार पर दी। 

राजभवन के एक प्रवक्ता ने पीटीआई से कहा, ‘‘राज्यपाल ने राज्य सरकार के प्रस्ताव को मंजूरी परिसर में अनुशासन लाने के लिए दी है।’’ 

राज्यपाल ने इसके साथ ही 15 अन्य फैकल्टी सदस्यों को अनुशासनात्मक आधार पर कारण बताओ नोटिस जारी करने के एक अन्य प्रस्ताव को मंजूरी प्रदान कर दी और इन्हें 17 अगस्त तक जवाब देने के लिए कहा गया। इन प्रोफेसरों पर आरोप है कि इन्होंने कुलपति अटल चौधरी के खिलाफ एक प्रदर्शन शुरू किया था और उन्हें हटाने की मांग की थी।