BREAKING NEWS

शिया बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिजवी ने अपनाया हिंदू धर्म, परिवर्तन को लेकर दिया बड़ा बयान, जानें नया नाम ◾इशारों में आजाद का राहुल-प्रियंका पर तंज, कांग्रेस नेतृत्व को ना सुनना बर्दाश्त नहीं, सुझाव को समझते हैं विद्रोह ◾सदस्यों का निलंबन वापस लेने के लिए अड़ा विपक्ष, राज्यसभा में किया हंगामा, कार्यवाही स्थगित◾राज्यसभा के 12 सदस्यों का निलंबन के समर्थन में आये थरूर बोले- ‘संसद टीवी’ पर कार्यक्रम की नहीं करूंगा मेजबानी ◾Winter Session: निलंबन के खिलाफ आज भी संसद में प्रदर्शन जारी, खड़गे समेत कई सांसदों ने की नारेबाजी ◾राजनाथ सिंह ने सर्गेई लावरोव से की मुलाकात, जयशंकर बोले- भारत और रूस के संबंध स्थिर एवं मजबूत◾IND vs NZ: भारत ने न्यूजीलैंड को 372 रन से करारी शिकस्त देकर रचा इतिहास, दर्ज की सबसे बड़ी टेस्ट जीत ◾विपक्ष ने लोकसभा में उठाया नगालैंड का मुद्दा, घटना ने देश को झकझोर कर रख दिया, बिरला ने कही ये बात ◾UP विधानसभा चुनाव में BSP बनाएगी पूर्ण बहुमत की सरकार, मायावती ने किया दावा ◾दिल्ली में हल्का बढ़ा पारा, 'बहुत खराब' श्रेणी में दर्ज हुई वायु गुणवत्ता, फ्लाइंग स्क्वॉड की कार्रवाई जारी ◾पीएम मोदी ने किया ट्वीट! लोगों से टीकाकरण अभियान की गति बनाए रखने की अपील की◾अमित शाह नगालैंड में गोलीबारी की घटना पर संसद में आज देंगे बयान, 1 जवान समेत 14 लोगों की हुई थी मौत ◾लोकसभा में कई अहम बिल होंगे पेश, साथ ही बहुत से विधेयकों को मिलेगी मंजूरी, जानें क्या हैं संभावित मुद्दे ◾देश में नए वेरिएंट के खतरे के बीच कोरोना के 8 हजार से अधिक संक्रमितों की पुष्टि, इतने मरीजों हुई मौत ◾World Coronavirus: 26.58 करोड़ हुआ संक्रमितों का आंकड़ा, 52.5 लाख से अधिक लोगों की मौत ◾देश में तेजी से फैल रहा है कोरोना का नया वेरिएंट ओमिक्रॉन, जानिए किन राज्यों में मिल चुके हैं संक्रमित मरीज ◾आज भारत पहुंचेंगे रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन, पीएम मोदी के साथ होगी शिखर वार्ता, ये होंगे मुद्दे ◾मथुरा में पुलिस का चप्पे-चप्पे पर पहरा, ड्रोन और सीसीटीवी से रखी जा रही नजर, अयोध्या में भी हाई अलर्ट ◾पंजाब सीएम चरणजीत सिंह चन्नी ने आप नेता के अवैध खनन के आरोप को किया खारिज◾UP: बुलंदशहर में RLD नेता काफिले पर अंधाधुंध फायरिंग हुई, चार घायल समेत एक की मौत◾

मंगलकारी भगवान गणेश की POP से बनी प्रतिमाएं बन सकती हैं मुश्किल का सबब, मूर्तिकार पर की जाएगी कार्रवाई

भारत में आगामी समय हिन्दू त्योहारों से परिपूर्ण है, जिनमें लोग भगवान की प्रतिमाओं को अपने घरों में स्थापित करते हैं। बता दें कि 10 सितंबर से गणेश चतुर्थी के 11 दिवसीय त्यौहार की शुरुआत होने वाली है और इस मौके पर भगवान गणेश की खूबसूरत प्रतिमाओं की स्थापना होती है। वहीं गणेश चतुर्थी से पहले यह निर्देश दिए गए हैं कि भगवान की प्रतिमाएं प्लास्टर ऑफ पैरिस (पी.ओ.पी.) की नहीं बनाई जा सकती है। दरअसल, राष्ट्रीय हरित अधिकरण द्वारा लगाए गए प्रतिबंध के मद्देनजर इंदौर के मूर्तिकारों को साफ निर्देश दिए गए हैं कि पीओपी की प्रतिमाएं न बनाएं, अगर ऐसा केाई करता है तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। 

मध्यप्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने बैठक बुलाई जिसमें जिला प्रशासन, निगम के अधिकारियों के अलावा मूर्तिकार भी मौजूद रहे। इस बैठक में मूर्तिकारों को बताया गया कि प्लास्टर ऑफ पैरिस (पी.ओ.पी.) की मूर्तियों के निर्माण व विक्रय पर प्रतिबंध तथा जल स्त्रोतों में इनके विसर्जन पर राष्ट्रीय हरित अधिकरण द्वारा प्रतिबंध लगाया गया है। अपर कलेक्टर पवन जैन ने कहा कि आने वाले त्यौहार गणेश उत्सव व दुर्गा उत्सव हमारी आस्था के पर्व है तथा इन त्यौहारों को हमें इको फ्रेंडली ढंग से मनाना चाहिये ताकि हमारे महत्वपूर्ण जल स्त्रोतों को प्रदूषण से बचाया जा सके। 

बैठक में क्षेत्रीय अधिकारी मध्यप्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड आर.के. गुप्ता ने राष्ट्रीय हरित अधिकरण के आदेशों की जानकारी देते हुए कहा कि मूर्तिकार पी.ओ.पी की मूर्तियां न बनाए व मिट्टी की मूर्तिया बनाई जाएं। उत्सव समाप्ति के पश्चात मूर्तियों का विसर्जन जल स्त्रोतों जैसे नदी, तालाब, झरना इत्यादि में प्रतिबंधित रहेगा। विसर्जन हेतु नगर निगम इन्दौर द्वारा पृथक से विसर्जन कुण्ड बनाये जायेंगे।

गुप्ता द्वारा जानकारी दी गई कि जलीय स्त्रोतों में विसर्जन के कारण भारी मात्रा में जल प्रदूषण होता है। मूर्तिकारों द्वारा मूर्ति बनाने हेतु प्लास्टर ऑफ पेरिस, मिट्टी, घास एवं विभिन्न रंगों जिनमें विशेषकर डाईस, पेन्ट्स व खतरनाक रसायन आदि होते हैं, उसका उपयोग किया जाता है। रासायनिक रंगों एवं पेन्टस में विभिन्न तरह की खतरनाक धातुओं का उपयोग होता है। ऐसी मूर्तियों को जब जल में विसर्जित किया जाता है तब यह पदार्थ जल में घुल जाते है और जल की गुणवत्ता को प्रभावित करते हैं। 

धातुऐं पानी में घुलकर पानी को विषैला बना देती है, जिससे जलीय जीव विशेषकर मछलियों की मौत तक हो जाती है। जल स्त्रोतों के पानी को प्रदूषित होने से बचाने के लिये यह आवश्यक है कि पर्यावर्णीय अनुकूल (इको फ्रेन्डली) सामग्री का उपयोग किया जाये। अपर कलेक्टर पवन जैन द्वारा सभी मूर्तिकारों से आग्रह किया गया कि वे पी.ओ.पी. की मूर्तियों का निर्माण व विक्रय नहीं करें। औचक जांच का कार्य नगर निगम के अधिकारियों द्वारा किया जायेगा। दोषी पाये जाने पर संबंधित दोषी संस्था के विरूद्ध कार्रवाई की जायेगी।