BREAKING NEWS

हिंसा के बाद किसान आंदोलन में पड़ी दरार, दो संगठनों ने खुद को किया अलग◾26 जनवरी हिंसा: राकेश टिकैत, अन्य किसान नेताओं के खिलाफ एफआईआर दर्ज◾गणतंत्र दिवस पर हुई हिंसा के बाद गृह मंत्री अमित शाह ने दिल्ली में कानून-व्यवस्था की समीक्षा की ◾संयुक्त किसान मोर्चा की सफाई - असामाजिक तत्वों ने शांतिपूर्ण प्रदर्शनों को नष्ट करने की कोशिश की◾दिल्ली पुलिस ने ट्रैक्टर परेड में हिंसा के संबंध 200 लोगों को हिरासत में लिया, पूछताछ जारी ◾BCCI प्रमुख सौरव गांगुली को सीने में दर्द, अपोलो हॉस्पिटल में कराया गया एडमिट ◾नेपाल में कोविड टीकाकरण का पहला चरण शुरू, भारत ने तोहफे में दी है 10 लाख वैक्सीन डोज◾ किसान ट्रैक्टर परेड: गणतंत्र दिवस पर हिंसा की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल◾दो दिवसीय दौरे पर केरल पहुंचे राहुल, मलप्पुरम में गर्ल्स स्कूल के भवन का किया उद्घाटन ◾किसान आंदोलन को बदनाम करने की साजिश हुई कामयाब : हन्नान मोल्लाह◾किसानों की ट्रैक्टर रैली के दौरान भड़की हिंसा में 300 पुलिसकर्मी हुए घायल, क्राइम ब्रांच करेगी जांच◾ट्रैक्टर परेड हिंसा : संयुक्त किसान मोर्चा ने बुलाई बैठक, सभी पहलुओं पर होगी चर्चा ◾DND फ्लाईओवर पर लगा भारी जाम, लाल किला मेट्रो स्टेशन की एंट्री व एग्जिट बंद ◾Today's Corona Update : देश में पिछले 24 घंटे में 12 हजार नए केस, 137 मरीजों की हुई मौत ◾वीडियो वायरल होने के बाद बोले राकेश टिकैत-लाठी कोई हथियार नहीं◾विश्व में कोरोना का प्रकोप जारी, मरीजों का आंकड़ा 10 करोड़ से पार ◾किसानों की ट्रैक्टर परेड में बवाल, दिल्ली पुलिस ने हिंसा के मामले में 22 FIR दर्ज की ◾TOP 5 NEWS 27 DECEMBER : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें ◾राकांपा अध्यक्ष शरद पवार बोले- दिल्ली में जो कुछ हुआ, उसका समर्थन नहीं किया जा सकता ◾संयुक्त किसान मोर्चा ने की दिल्ली में ट्रैक्टर परेड के दौरान भड़की हिंसा की निंदा ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

उपचुनाव को लेकर कमल नाथ ने विपक्ष पर बोला हमला- भाजपा ने राज्य को देशभर में कलंकित किया

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष कमल नाथ ने शिवपुरी जिले के करैरा विधानसभा और पोहरी विधानसभा क्षेत्र में कांग्रेस उम्मीदवारों के समर्थन में आयोजित जनसभा को सम्बोधित किया।  इस दौरान उन्होंने उप-चुनाव को लेकर भाजपा पर बड़ा हमला बोला और कहा कि आम तौर पर उप-चुनाव प्रतिनिधि के निधन पर होते हैं, मगर राज्य में हो रहे 25 स्थानों के उप-चुनाव की वजह बोली और सौदेबाजी है। 

कमल नाथ ने कहा, "राज्य में 28 उपचुनाव में से 25 स्थानों पर किसी के निधन के कारण नहीं हो रहे हैं, बल्कि सौदेबाजी व बोली के कारण हो रहे हैं, भाजपा ने राज्य को देशभर में कलंकित किया। प्रदेश की राजनीति को भाजपा ने बिकाऊ राजनीति बना दिया। वीरों की माटी ग्वालियर-चंबल को देशभर में बदनाम किया, इस अनैतिक राजनीति का ऐसा दौर आएगा, ऐसा किसी ने कभी नहीं सोचा होगा। चुनाव तो प्रजातंत्र का उत्सव होते हैं, लेकिन भाजपा ने इन उपचुनावों को सौदेबाजी का उत्सव बना दिया, लोकतंत्र को धन तंत्र में तब्दील कर दिया।" 

कमल नाथ ने बगैर किसी का नाम लिए हमला बोला और कहा, "मैं महाराजा नहीं, मैं तो सिर्फ कमलनाथ हूं, महाराजाओं को तो आपने आजमा लिया और पहचान भी लिया। प्रदेश की जनता ने 15 वर्ष बाद अपने वोट से कांग्रेस की सरकार बनायी, लेकिन हमारी 15 माह की सरकार को नोटों के बल पर गिरा दिया और नोट की सरकार बना ली गयी।" 

पूर्व मुख्यमंत्री ने आगे कहा कि, "15 वर्ष बाद भाजपा ने जो प्रदेश सौंपा वो किसानों की आत्महत्या, महिलाओं पर अत्याचार, बेरोजगारी, भ्रष्टाचार में देश में नंबर एक पर था। कई चुनौतियां हमारे सामने थीं, कृषि क्षेत्र की चुनौती हमारे सामने थी। किसान का जन्म कर्ज में होता है और किसान की मृत्यु भी कर्ज में होती है। हमने क्रांति लाते हुए कर्ज माफी की शुरूआत की, पहली बार इतिहास में डिफाल्टर के साथ-साथ चालू खाते वालों का भी कर्ज माफ किया। 27 लाख किसानों का कर्ज माफ किया, जिसकी सच्चाई भाजपा सरकार ने विधानसभा में भी स्वीकारी। आज शिवराज और सिंधिया किसान कर्ज माफी को लेकर झूठ बोल रहे हैं, वह यह सच्चाई जान लें कि करैरा के इसी मंच से सिंधिया ने किसान भाइयों को कर्ज माफी के सर्टिफिकेट खुद अपने हाथों से बांटे थे। हम वादा दिलाते हैं, हमारी सरकार वापस बनेगी तो किसानों का दो लाख तक का भी कर्जा माफ करेंगे।" 

इन सभाओं में कांग्रेस के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष अरुण यादव भी मौजूद रहे और उन्होंने भाजपा की नीतियों की आलोचना के साथ ज्योतिरादित्य सिंधिया पर भी हमले बोले। सभा के पूर्व भारत सिंह कुशवाह के नेतृत्व में राष्ट्रीय समानता दल के सैकड़ों साथियों ने कांग्रेस में प्रवेश लिया, बड़ी संख्या में लोगों ने भाजपा छोड़कर कमलनाथ के समक्ष कांग्रेस की सदस्यता ली। 

एनडीए के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ही होंगे : धर्मेन्द्र प्रधान