BREAKING NEWS

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू से उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ ने की मुलाकात ◾नीतीश को घेरने के लिए बीजेपी आलाकमान ने बुलाई बैठक, बिहार इकाई के प्रमुख नेता होंगे शामिल ◾WPI मुद्रास्फीति घटकर 13.93 फीसदी, खाद्य वस्तुओं सहित विनिर्मित उत्पादों की कीमतों में बड़ी गिरावट ◾WPI मुद्रास्फीति घटकर 13.93 फीसदी, खाद्य वस्तुओं सहित विनिर्मित उत्पादों की कीमतों में बड़ी गिरावट ◾मुम्बई में बारिश को लेकर मौसम विभाग का बड़ा अलर्ट, 24 घंटे के अंदर होगी झमाझम बारिश ◾गहलोत के अर्धसैनिक बलों के ट्रकों में 'अवैध धन' ले जानें वाले बयान पर बीजेपी का पलटवार, जानिए मामला◾J-K News: जम्मू कश्मीर के पहलगाम में दर्दनाक हादसा, 39 जवानों की बस खाई में गिरी, 6 की मौत, जानें स्थिति ◾जम्मू-कश्मीर : आतंकियों ने दो कश्मीरी पंडित भाइयों पर बरसाई गोलियां, एक की मौत, एक घायल◾बिहार : नीतीश सरकार के मंत्रिमंडल के 31 विधायकों ने मंत्री पद की शपथ ली, कांग्रेस नेता भी शामिल ◾कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने उठाई 3 दशकों से जेल में बंद सिख कैदियों की रिहाई की मांग ◾भारत में शिक्षा और स्वास्थ्य सुविधाओं में सुधार के लिए केंद्र दिल्ली सरकार की विशेषज्ञता का उपयोग करें : CM केजरीवाल ◾भारतीय फुटबॉल प्रशंसकों को बड़ा झटका! फीफा ने महिला अंडर-17 विश्व कप की मेजबानी छीनी, AIFF पर लगाया प्रतिबंध ◾Gujarat News : आवारा पशुओं से बढ़ रहा हादसे का खतरा, सरकार के दावों की खुली पोल ◾CM योगी आदित्‍यनाथ ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की पुण्यतिथि पर दी श्रद्धांजलि◾Covid-19 : देश में पिछले 24 घंटो में कोरोना वायरस के 8,813 केस दर्ज़, 29 मरीजों की मौत ◾अटल बिहारी वाजपेयी की पुण्यतिथि आज, राष्ट्रपति द्रौपदी और पीएम मोदी ने 'सदैव अटल' समाधि पर की पुष्पांजलि◾अमेरिका के राष्ट्रपति बाइडन ने स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर पीएम मोदी और राष्ट्रपति मुर्मू को लिखा पत्र◾कांग्रेस का महंगाई पर हल्ला बोल: 28 अगस्त की रैली से पहले बुलाई पार्टी पदाधिकारियों की बैठक ◾दिल्ली में सोमवार को कोरोना के 1,227 नए मामले आए सामने, साथ ही दर्ज हुई आठ और संक्रमितों की मौत ◾America: Joe Biden भारत-अमेरिका संबंध को वैश्विक शांति एवं अर्थव्यवस्था के लिए मानते है अहम◾

नहीं थम रहा कर्नाटक का सियासी 'नाटक', भाजपा विधायक ने खोली सीएम येदियुरप्पा की पोल

दक्षिण भारत के राज्य कर्नाटक में इन दिनों सियासी "कर नाटक" चल रहा है, तो अभी ताजा हालातों से लगता है कि बहुत जल्दी थमने वाला नहीं है। उधर, दिल्ली में बैठी भाजपा आलाकमान ने यह साफ कर दिया है कि कर्नाटक में किसी भी तरह का कोई नेतृत्व परिवर्तन नहीं होगा और मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा ही कर्नाटक की सरकार को चलाएंगे। मगर इन सबसे परे कर्नाटक में जमीनी हकीकत कुछ और ही बयां कर रही है। येदियुरप्पा सरकार और बागी विधायकों के बीच खींचतान का सिलसिला जारी है। 

वहीं, दूसरी तरफ भाजपा के महासचिव और कर्नाटक के प्रभारी अरूण सिंह भी कर्नाटक में सियासी नाटक को दुरूस्त करने के लिए राजधानी बेंगलुरू में रूके हुए है। अब भाजपा एमएलसी एएच विश्वनाथ ने येदियुरप्पा के नेतृत्व पर सवाल उठाया है और कहा है कि वह सरकार चलाने की हालत में नहीं हैं। 

भाजपा एमएलसी एएच विश्वनाथ ने कहा कि सरकार और पार्टी के बारे में जनता की राय नकारात्मक है। यह अच्छी बात नहीं है। बीजेपी महासचिव अरुण सिंह से मैंने कहा है कि येदियुरप्पा की आयु, उनका स्वास्थ्य को देखते हुए वह मुख्यमंत्री के तौर पर सरकार चलाने की हालात में नहीं हैं। उनके मार्गदर्शन में उस स्थान पर किसी और को मुख्यमंत्री बना देना चाहिए। सरकार में पारिवारिक दखल से चीजें और खराब होंगी। एमएलसी ने आगे कहा कि बीवाई विजयेंद्र और उनके दोस्त कह रहे थे कि हम पैसे इकट्ठा करते हैं और यह दिल्ली जाता है। यहां भी बुरा प्रचार हो रहा है। मैंने इस बारे में महासचिव (अरुण सिंह) को भी बताया है। 

अरुण सिंह इस दौरान वह बृहस्पतिवार को सत्ताधारी दल के विधायकों के साथ चर्चा करेंगे और शुक्रवार को प्रदेश भाजपा की कोर कमेटी को संबोधित करेंगे। कर्नाटक में नेतृत्व परिवर्तन की अटकलों के बीच हाल ही में अरुण सिंह ने मुख्यमंत्री को बदलने की खबरों का खंडन किया था और कहा था कि येदियुरप्पा पद पर बने रहेंगे। माना जा रहा है कि भाजपा का एक वर्ग येदियुरप्पा को पद से हटाने का दबाव बना रहा है। 

बता दें कि कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा की कुर्सी को लेकर चल रही अटकलों के बीच अरुण सिंह ने कहा है कि पार्टी में कोई मतभेद नहीं है। बुधवार को मीडिया से बातचीत में अरुण सिंह ने कहा कि 'पार्टी में कोई मतभेद नहीं है और हम एक हैं। मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा के नेतृत्व में बेहतरीन काम चल रहा है।' 

खैर इन सबसे परे प्रदेश की राजनीति में खलबली तो मची हुई है, ऐसे में राज्य सरकार का ध्यान कोरोना महामारी और प्रदेश की जनता को टीकाकरण लगाने की प्रक्रिया पर ध्यान देने चाहिए, लेकिन वह खुद इस समय अपने आंतरिक लड़ाई में उलझी हुई है। ऐसे में जनता पर ध्यान कौन देगा और कोरोना समेत कई मुद्दे पर ध्यान कौन देगा इस बात की चिंता करना तो लाजमी है।

कैट का केंद्र से अनुरोध, कहा- ई-कॉमर्स व्यापार को आर्थिक आतंकवाद से छुटकारा दिलाए सरकार