BREAKING NEWS

सदन नहीं चलने देना चाहती केंद्र, खड़गे का दावा- महंगाई समेत कई अहम मुद्दों पर चर्चा से बच रही सरकार ◾कुन्नूर हेलीकॉप्टर हादसे पर संसद में राजनाथ सिंह देंगे बयान, 4 लोगों के शव बरामद,रेस्क्यू ऑपरेशन जारी ◾राज्यसभा के निलंबित सदस्यों को लेकर विपक्षी नेताओं का समर्थन जारी, संसद परिसर में दिया धरना ◾UP विधानसभा चुनाव : कांग्रेस ने जारी किया 'महिला घोषणापत्र', नौकरियों में 40% आरक्षण समेत कई बड़े वादे◾CDS जनरल बिपिन रावत और उनकी पत्नी को ले जा रहा सेना का हेलिकॉप्टर क्रैश, कुन्नूर में हुआ हादसा ◾मोदी के बयान पर अखिलेश का करारा जवाब- लाल रंग भावनाओं का प्रतिक, हार का डर ला रहा भाषा में बदलाव ◾महंगाई, बेरोज़गारी और कृषि संकट की वजह सरकार की विफलता है, राहुल गांधी ने केंद्र पर लगाया आरोप ◾'पाकिस्तानी-खालिस्तानी' बुलाये जाने पर फारूक अब्दुल्ला ने जताया खेद, बोले- गांधी का भारत लाए वापस◾लालू के घर बजेंगी शहनाई, तेजस्वी यादव की शादी हुई पक्की, दिल्ली में आज या कल होगी सगाई ◾सोनिया ने केंद्र को बताया 'असंवेदनशील', किसानों के साथ रवैये और महंगाई जैसे मुद्दों पर किया सरकार का घेराव ◾World Corona Update : अब तक 26.7 करोड़ से ज्यादा लोग हुए संक्रमित, मृतकों की संख्या 52.7 लाख से अधिक◾RBI ने रेट रेपो 4 प्रतिशत पर रखा बरकरार, लगातार 9वीं बार नहीं हुआ कोई बदलाव◾ओमीक्रॉन पर आंशिक रूप से असरदार है फाइजर वैक्सीन, स्टडी में दावा- बूस्टर डोज कम कर सकती है संक्रमण ◾UP चुनाव : आज योगी और राजभर जनसभा को करेंगे संबोधित, प्रियंका पहला महिला घोषणा पत्र जारी करेंगी ◾बिहार में PM मोदी, अमित शाह और प्रियंका चोपड़ा को लगी वैक्सीन! तेजस्वी यादव ने शेयर की लिस्ट◾मनी लॉन्ड्रिंग केस: ED के सामने आज पेश होंगी जैकलीन फर्नांडीज, गवाह के तौर पर दर्ज कराएंगी बयान ◾Today's Corona Update : भारत में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 8,439 केस सामने आए, 195 लोगों की मौत◾जम्मू-कश्मीर के शोपियां में आतंकवादियों और सुरक्षा बलों के बीच एनकाउंटर शुरू, इलाके की गयी घेराबंदी ◾किसानों की होगी घर वापसी या जारी रहेगा आंदोलन? एसकेएम की बैठक में आज होगा फैसला ◾ओमिक्रॉन के खतरे के बीच ओडिशा के सरकारी स्कूल में 9 छात्र कोरोना से संक्रमित, किया गया क्वारंटीन ◾

केरल - वरिष्ठ माकपा नेता पर बेटी ने ही लगाया बच्चा छीनने का आरोप, मामला दर्ज

केरल में सत्तारूढ़ मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के एक वरिष्ठ नेता की बेटी ने अपने माता-पिता पर आरोप लगाया है कि उन्होंने करीब एक साल पहले उसके नवजात शिशु को जन्म के तुरंत बाद उससे छीन लिया था। 23 वर्षीय युवती ने अपना बच्चा वापस लेने के लिए पुलिस के पास शिकायत दर्ज कराई है। 

माकपा की स्थानीय समिति के सदस्य पी एस जयचंद्रन की बेटी अनुपमा एस चंद्रन ने आरोप लगाया है कि हालांकि उसने अप्रैल के बाद से कई बार इस संबंध में पुलिस से शिकायत की, लेकिन पुलिस उसके परिवार के सदस्यों के खिलाफ मामला दर्ज करने से बचती रही। 

छह लोगों के खिलाफ मामला दर्ज 

इस बीच, यहां पेरूरक्काडा पुलिस ने बताया कि अनुपमा के माता-पिता, उसकी बहन और पति तथा उसके पिता के दो मित्रों समेत छह लोगों के खिलाफ मंगलवार को एक मामला दर्ज किया गया। पुलिस ने कहा कि मामला दर्ज करने में देरी इसलिए हुई, क्योंकि वे इस संबंध में कानूनी सलाह का इंतजार कर रहे थे। 

उन्होंने बताया कि आरोपियों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धाराओं 343 (गलत तरीके से कैद करना), 361 (संरक्षण से अपहरण करना), 471 (फर्जी दस्तावेज को असली के रूप में इस्तेमाल करना) के तहत और अन्य आरोप लगाए गए हैं। 

मुख्यमंत्री पिनराई विजयन से भी की शिकायत

माकपा से संबद्ध ‘स्टूडेंट्स फेडरेशन ऑफ इंडिया’ (एसएफआई) की पूर्व नेता अनुपमा ने आरोप लगाया कि उसने मुख्यमंत्री पिनराई विजयन समेत माकपा के वरिष्ठ नेताओं से भी शिकायत की थी, लेकिन उसके बच्चे को वापस दिलाने में किसी ने उसकी मदद नहीं की। 

उन्होंने एक टीवी चैनल से कहा, ‘‘जब कोई महिला अपने लापता बच्चे के बारे में पुलिस से शिकायत करती है, तो उसे इस तरह काम करना चाहिए? क्या वे इस प्रकार के हर मामले के लिए कानूनी सलाह लेते हैं? मुझे लगता है कि मेरे पिता और परिजन को बचाने के लिए जानबूझकर यह देरी की गई।’’ 

प्रसव के बाद, बच्चा छीन लिया गया 

अनुपमा की शिकायत के अनुसार, उसके माता-पिता को एसएफआई के नेता अजित के साथ उसका संबंध पसंद नहीं था। शिकायत में कहा गया है कि बच्चे के जन्म के समय अनुपमा अविवाहित थी, इसलिए प्रसव के बाद अस्पताल से छुट्टी मिलने के तीन दिन बाद ही उसका बच्चा उससे छीन लिया गया था। 

अनुपमा ने कहा कि उसने अप्रैल में अपना घर छोड़ दिया था और वह तब से अजित के साथ रह रही है। हालांकि पुलिस ने कहा कि अनुपमा के पिता जयचंद्रन ने स्वीकार किया है कि उन्होंने अपनी बेटी से उसके बच्चे को अलग कर दिया था, लेकिन उन्होंने जांच के दौरान दावा किया कि यह उनकी बेटी की सहमति से किया गया था। 

जानिये क्या है पिता का दावा

पुलिस अधिकारी ने कहा, ‘‘पिता ने दावा किया है कि उसने (बेटी ने) एक स्टाम्प पेपर पर अपने हस्ताक्षर के साथ सहमति दी थी कि उसे अपना बच्चा सौंपने पर कोई आपत्ति नहीं है, क्योंकि वह शिशु की देखभाल करने में सक्षम नहीं है, लेकिन शिकायतकर्ता का कहना है कि परिवार ने इस कागज पर उससे जबरन हस्ताक्षर कराए थे।’’ 

उन्होंने बताया कि पिता के बयान के अनुसार, बच्चे को पिछले साल अक्टूबर में यहां थाइकौड में सरकारी बाल कल्याण केंद्र के सामने स्थित बिजली के पालने ‘अम्माथोत्तिल' में रख दिया गया था। 

बच्चे को लेकर क्या है नियम - कानून  

उन्होंने बताया कि केंद्र के नियमानुसार, जब कोई बच्चा पालने में मिलता है, तो वे दो महीने तक बच्चे को अपने पास रखते हैं और यदि बच्चों का कोई अभिभावक उसे लेने नहीं आता है, तो वे अन्य लोगों को उसे गोद लेने की अनुमति दे देते हैं। पुलिस अधिकारी ने कहा, ‘‘हमने कल्याण समिति के अधिकारियों से संपर्क किया है। उन्होंने स्वीकार किया है कि उन्हें उसी दिन एक बच्चा मिला था, लेकिन वे इससे अधिक कुछ भी बताने को तैयार नहीं हैं क्योंकि यह गोद लेने के संबंध में उनके नियमों और मानदंडों के खिलाफ है।’’ अधिकारी ने बताया कि मामले की विस्तृत जानकारी हासिल करने और बच्चे का पता लगाने के लिए जांच जारी है।