BREAKING NEWS

यरूशलम में हुआ आतंकी हमला: अमेरिकी राष्ट्रपति बाइडन ने इजराइली प्रधानमंत्री से की बात ◾स्वामी प्रसाद मौर्य के बिगड़े बोल: संतों-धर्माचार्यों को बताया आतंकवादी और जल्लाद◾आर्थिक संकट से जूझ रहे पाकिस्तान दिवालिया होने के कगार पर◾Delhi University: डीयू ने BBC वृत्तचित्र की स्क्रीनिंग को लेकर हुए हंगामे की जांच के लिए बनाई समिति ◾झारखंड के अस्पताल में लगी भयानक आग डॉक्टर समेत 6 लोग जिंदा जल कर हुए राख◾जयराम रमेश बोले- कांग्रेस को 2024 के लोकसभा चुनाव के लिए किसी भी विपक्षी गठबंधन का आधार बनना होगा◾Tripura Assembly Election: चुनाव के मद्देनजर कांग्रेस ने जारी की स्टार प्रचारकों की सूची◾ AAP सांसद राघव चड्ढा इंडिया-यूके आउटस्टैंडिंग अचीवर्स अवॉर्ड से हुए सम्मानित◾यूपी: हत्या के प्रयास के मामले में सपा विधायक नाहिद हसन बरी◾Bharat Jodo Yatra: राहुल गांधी ने पुलवामा आतंकी हमले में शहीद हुए CRPF के जवानों को दी श्रद्धांजलि◾BBC की डॉक्यूमेंट्री पर बवाल जारी, अब मुंबई के TISS में भी विवाद◾Bihar News: पूर्व CM जीतन राम मांझी ने तेजस्वी यादव से की शराबबंदी कानून वापस लेने की मांग◾चीन पर फिर भड़का अमेरिका, कहा- LAC पर कोई हरकत करे तो मुंहतोड़ जवाब दो◾CM बसवराज बोम्मई ने कहा- अमित शाह कर्नाटक यात्रा विधानसभा चुनाव में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे ◾Rajasthan: PM नरेंद्र मोदी राजस्थान दौरे पर भीलवाड़ा में गुर्जर समाज को प्रभावित करने की करेंगे कोशिश ◾बागेश्वर बाबा से मिलने के बाद बोले आचार्य बालकृष्ण, कहा- ‘धीर हो धीरेंद्र हो और कृष्ण भी तुम हो' ◾मध्य प्रदेश के मुरैना में बड़ा हादसा, आपस में टकराकर क्रैश हुए लड़ाकू विमान सुखोई और मिराज ◾CM YOGI :इस्लाम, सिख, जैन धर्म को छोड़ सनातन को CM योगी ने कहा भारत का राष्ट्रीय धर्म, कांग्रेस ने उठाए सवाल ◾ भाई से मिलने जेल में गई 4 साल की मासूम के साथ हुआ भद्दा मजाक, गाल पर लगाई गई मुहर◾Bharat Jodo Yatra: मल्लिकार्जुन खरगे ने किया शाह से पुख्ता सुरक्षा व्यवस्था का आग्रह ◾

Maharashtra: फसल नष्ट होने के बाद बीमा की नगण्य राशि मिलने से निराश हैं किसान, क्या सरकार सुनेगी फरियाद?

महाराष्ट्र में अत्यधिक वर्षा के कारण अपनी फसलें नष्ट हो जाने के बाद कई किसानों ने बहुत कम क्षतिपूर्ति मिलने का दावा किया है। एक किसान का तो यह दावा है कि उसे फसल नुकसान की भरपाई के नाम पर महज 90 रुपये मिले हैं।जब इस संबंध में कृषि मंत्री अब्दुल सत्तार से संपर्क किया गया तो उन्होंने कहा कि कुछ किसानों को बहुत कम राशि मिली है, लेकिन सरकार बीमा कवरेज का विस्तार करने और दावा निवारण प्रणाली भी स्फूर्त बनाने की कोशिश करेगी।

राज्य राहत एवं पुनर्वास विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि औरंगाबाद जिले में 7.48 लाख किसानों ने 2022 खरीफ मौसम में सरकार की फसल बीमा योजना ली थी, लेकिन दिवाली से पहले व्यापक रूप से अत्यधिक वर्षा होने के बावजूद केवल 1.84 लाख किसानों के दावे को बीमा कंपनी ने मंजूर किया है।सरकारी आंकड़े भी बताते हैं कि अहमदनगर में 1.03 लाख किसानों ने अत्यधिक वर्षा से फसल नुकसान को लेकर अपने दावे सौंपे थे, लेकिन अबतक 20,226 दावे ही मंजूर किये गये हैं एवं 9.78 करोड़ रुपये वितरित किये गये हैं।

विदर्भ में अकोला जिले के बालापुर तहसील के एक किसान ने उसका नाम न छापने की शर्त पर कहा, ‘‘किसी भी प्राकृतिक आपदा को लेकर कपास की अपनी फसल के बीमा के वास्ते मैंने 2000 रुपये से अधिक का भुगतान किया था। अत्यधिक वर्षा के कारण दो एकड़ खेत में कपास के पौधे नष्ट हो गये, लेकिन मुझे बस 90 रुपये मिले।’’नांदेड़ जिले के किनवात तहसील के एक अन्य किसान ने कहा कि उसे क्षतिपूर्ति के रूप में फसल बीमा कपंनी से बस 356 रुपये मिले हैं।

महाराष्ट्र विधानसभा में विपक्ष के नेता अजीत पवार ने हाल में सरकार से फसल बीमा योजना एवं उसकी भुगतान प्रणाली को सुचारू बनाने का आह्वान किया था।तब सत्तार ने किसानों के बीमा दावे का शीघ्र समाधान करने का आश्वासन दिया। उन्होंने कहा, ‘‘यह सच है कि किसानों को बहुत कम राशि मिली है, लेकिन हम बीमा कवरेज का विस्तार करेंगे और दावा निस्तारण प्रणाली को स्फूर्त बनायेंगे।’’