BREAKING NEWS

UP Budget 2022 : योगी सरकार ने महिला सुरक्षा, रोजगार और मेट्रो के लिए की घोषणा, जानिए खास बातें ◾J&K : शूटिंग पर जाने से मना किया तो टीवी कलाकार को मारी गोली, आतंकियों की तलाश में जारी है सर्च ऑपेरशन◾डिंपल यादव नहीं... जयंत चौधरी होंगे राज्यसभा जाने वाले तीसरे उम्मीदवार, SP-RLD के संयुक्त प्रत्याशी ◾महाराष्ट्र : परिवहन मंत्री अनिल परब के घर ED ने मारा छापा, सौमेया बोले- कैबिनेट के तीसरे मंत्री जेल...... ◾World Corona: 52.7 करोड़ नए मामलों की हुई पुष्टि, जानें अब तक कितने लोगों ने गंवाई जान ◾India Covid Update : पिछले 24 घंटे में आए 2,628 नए केस, 18 मरीजों की हुई मौत ◾India Covid Update : पिछले 24 घंटे में आए 2,628 नए केस, 18 मरीजों की हुई मौत ◾अभ्यास बाद में करें खिलाड़ी, IAS अफसर को ट्रैक पर टहलाना है कुत्ता, जानिए क्या है मामला ◾योगी सरकार आज पेश करेगी अपने 2.O कार्यकाल का बजट, संकल्प पत्र में किए गए वादों पर रहेगा जोर ◾अफगानिस्तान : दो अलग-अलग विस्फोट में हुई 14 लोगों की मौत, ISIS ने ली हमले की जिम्मेदारी ◾J&K: कुपवाड़ा में सुरक्षाबलों ने ढेर किए LET के 3 आतंकी, 24 घंटे में 6 का हुआ सफाया ◾Yasin Malik News: टेरर फंडिंग मामले में यासीन मलिक को हुई उम्रकैद की सजा! 10 लाख का लगाया गया जुर्माना◾यासिन मलिक को उम्रकैद की सजा मिलने के बाद घाटी में मचा कोहराम! हिंसा की वजह से बंद हुआ इंटरनेट ◾ओडिशा में दुर्घटना को लेकर मोदी बोले- इस घटना से काफी दुखी हूं, जल्द स्वस्थ होने की करता हूं कामना◾वहीर पारा को जमानत मिलने पर महबूबा मुफ्ती बोलीं- मैं आशा करती हूं वह जल्द ही बाहर आ जाएंगे◾राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद 26 मई को महिला जनप्रतिनिधि सम्मेलन-2022 का उद्घाटन करेंगे◾UP विधानसभा में भिड़े केशव मौर्य और अखिलेश यादव.. जमकर हुई तू-तू मैं-मैं! CM योगी को करना पड़ा हस्तक्षेप◾सपा का हाथ थामने पर जितिन प्रसाद ने कपिल सिब्बल पर किया कटाक्ष, कहा- कैसा है 'प्रसाद'?◾Chinese visa scam: कार्ति चिदंबरम की बढ़ी मुश्किलें! धन शोधन के मामले में ED ने दर्ज किया मामला ◾ज्ञानवापी मामले को लेकर फास्ट ट्रैक कोर्ट में होगी सुनवाई, दायर हुई नई याचिका पर हुआ बड़ा फैसला! ◾

ममता बनर्जी ने गोवा में गठबंधन के लिये सोनिया से किया था संपर्क - TMC

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस  सुप्रीमो ममता बनर्जी गोवा विधानसभा चुनाव में गठबंधन के प्रस्ताव के साथ कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के पास गयी थीं, लेकिन कांग्रेस से कोई सकारात्मक प्रतिक्रिया नहीं मिली। टीएमसी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष पवन के वर्मा ने यह जानकारी दी। 

टीएमसी के साथ गठबंधन की उत्सुक नहीं दिख रही कांग्रेस ने उसे “एक अविश्वसनीय सहयोगी” करार दिया जो उसकी कीमत पर बढ़ने की कोशिश कर रही है। 

कांग्रेस ने कहा कि राष्ट्रीय स्तर पर टीएमसी के अलगाव के कारण ममता बनर्जी को उससे संपर्क के लिये बाध्य होना पड़ा। 

कुछ हफ्ते पहले ममता बनर्जी खुद सोनिया गांधी के पास पहुंचीं - कांग्रेस

वर्मा ने बताया, “कुछ हफ्ते पहले ममता बनर्जी खुद सोनिया गांधी के पास पहुंचीं और कहा कि अतीत में जो कुछ हुआ, उसे पीछे छोड़ दें और 2022 में एक नई शुरुआत की उम्मीद करें। सोनिया जी ने कहा कि वह अपने पार्टी नेतृत्व के साथ इस पर चर्चा करने के बाद जवाब देंगी लेकिन आज तक कोई जवाब नहीं आया।” 

इस घटनाक्रम की पुष्टि करते हुए टीएमसी की गोवा प्रभारी महुआ मोइत्रा ने कहा कि कांग्रेस ने कहा कि वो दो सप्ताह में जवाब देगी लेकिन “कोई प्रगति नहीं” हुई। 

कांग्रेस और टीएमसी के बीच संबंध 2021 में सबसे निचले स्तर पर थे

कांग्रेस और टीएमसी के बीच संबंध 2021 में सबसे निचले स्तर पर पहुंच गए थे। टीएमसी ने तब भाजपा के खिलाफ लड़ने में कथित विफलता को लेकर कांग्रेस पर निशाना साधा था और उसको एक “अक्षम और अयोग्य” पार्टी करार दिया था, जो “गहरी निद्रा” में चली गई है। 

दिल्ली में 24 दिसंबर को कांग्रेस नेता पी चिदंबरम के साथ अपनी बैठक का जिक्र करते हुए वर्मा ने कहा कि फरवरी में होने वाले गोवा विधानसभा चुनाव के लिए तृणमूल कांग्रेस और कांग्रेस के बीच गठबंधन का प्रस्ताव कोई सकारात्मक प्रतिक्रिया देने में विफल रहा। 

भाजपा के खिलाफ विपक्षी गठबंधन को मजबूत किया जाए - वर्मा

यह पूछे जाने पर कि तृणमूल कांग्रेस उस पार्टी के साथ गठबंधन क्यों चाहती है जिसके नेतृत्व पर भाजपा के खिलाफ लड़ने में विफल रहने का आरोप लगाया गया था, वर्मा ने कहा कि वह चाहती है कि भाजपा के खिलाफ विपक्षी गठबंधन को मजबूत किया जाए। 

उन्होंने कहा, “हमें अतीत को भूलकर आगे बढ़ना चाहिए। हमें गोवा में भाजपा को रोकना है। अजीब है, चिदंबरम अब कह रहे हैं कि कोई ठोस प्रस्ताव नहीं था।” 

वह “बयानबाजी” में नहीं पड़ना चाहते हैं - चिदंबरम 

संपर्क करने पर पी. चिदंबरम ने कहा कि वह “बयानबाजी” में नहीं पड़ना चाहते हैं और इस मुद्दे पर पहले ही बोल चुके हैं। 

लोकसभा में कांग्रेस पार्टी के नेता अधीर रंजन चौधरी ने टीएमसी पर निशाना साधने में कोई कसर नहीं छोड़ी और कहा कि भगवा खेमे के खिलाफ एक संयुक्त मोर्चा बनाने का उसका दावा राष्ट्रीय राजनीति में अलग-थलग पड़ने के बाद एक “बढ़िया तरीके से रचे गए नाटक” से कम नहीं है। 

टीएमसी हताशा में सोनिया गांधी तक पहुंच रही है -  कांग्रेस

कांग्रेस कार्य समिति के सदस्य चौधरी ने बताया, “टीएमसी हताशा में सोनिया गांधी तक पहुंच रही है। 20 अगस्त को सोनिया जी द्वारा बुलाई गई विपक्ष की बैठक के बाद, टीएमसी ने अचानक एक मोड़ लिया और कांग्रेस पर हमला करना शुरू कर दिया- हमारे नेतृत्व को गाली देने से लेकर मेघालय सहित दूसरे राज्यों में हमारे नेताओं का अवैध शिकार तक किया।” 

कांग्रेस अपनी ताकत खो चुकी है और विपक्षी गठबंधन का नेतृत्व नहीं कर सकती है - टीएमसी

उन्होंने टीएमसी पर “कांग्रेस को कमजोर करने के लिए सब कुछ करने” का आरोप लगाते हुए कहा कि उसने यहां तक कहा कि कांग्रेस अपनी ताकत खो चुकी है और विपक्षी गठबंधन का नेतृत्व नहीं कर सकती है। 

उन्होंने कहा, “विपक्षी गठबंधन का नेतृत्व करने के लिए टीएमसी के प्रयास तब नाकाम हो गए जब अन्य दलों ने स्पष्ट रूप से कहा कि कांग्रेस के बिना विपक्षी गठबंधन कभी नहीं हो सकता। टीएमसी भाजपा की एजेंट है और कांग्रेस की विनाशक है। वे अब संपर्क कर रहे हैं जब राष्ट्रीय स्तर पर राजनीति में वे अलग-थलग हो गए। वे भरोसेमंद सहयोगी नहीं हैं।” 

कांग्रेस के सूत्रों के मुताबिक, पार्टी गोवा में टीएमसी के साथ गठबंधन करने की इच्छुक नहीं है क्योंकि उसे अपने दम पर जीत का भरोसा है।