BREAKING NEWS

नागरिकता विधेयक के खिलाफ असम में भड़की हिंसा, पुलिस ने चलाई रबड़ की गोलियां◾चिदंबरम ने CAB को बताया 'हिन्दुत्व का एजेंडा', कानूनी परीक्षण में नहीं टिकने का जताया भरोसा◾इसरो ने किया डिफेंस सैटेलाइट रीसैट-2BR1 लॉन्च, सेना की बढ़ेगी ताकत ◾हैदराबाद एनकाउंटर: सुप्रीम कोर्ट ने जांच के लिए पूर्व न्यायाधीश को नियुक्त करने का रखा प्रस्ताव ◾पाकिस्तान : हाफिज सईद के खिलाफ आतंकवाद वित्तपोषण के आरोप तय◾मनमोहन सिंह की सलाह पर लाया गया है नागरिकता संशोधन विधेयक : भाजपा◾कांग्रेस ने नागरिकता संशोधन विधेयक को बताया विभाजनकारी और संविधान विरूद्ध◾राज्यसभा में नागरिकता बिल पेश, अमित शाह बोले- भारतीय मुस्लिम भारतीय थे, हैं और रहेंगे◾प्रियंका का वित्त मंत्री पर वार, कहा-आप प्याज नहीं खातीं, लेकिन आपको हल निकालना होगा ◾2002 गुजरात दंगा मामले में नानावती आयोग ने PM नरेंद्र मोदी को दी क्लीन चिट ◾BJP संसदीय दल की बैठक में PM मोदी ने नागरिकता संशोधन विधेयक को बताया ऐतिहासिक◾नागरिकता संसोधन बिल राज्यसभा में पेश होने से पहले बोले राहुल- यह उत्तर पूर्व पर एक आपराधिक हमला◾हैदराबाद एनकाउंटर मामले पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई आज, CP वीसी सज्जनार भी रहेंगे मौजूद◾निर्भया कांड: अजीबोगरीब दलीलों के साथ दोषी अक्षय ने सुप्रीम कोर्ट में दायर की पुनर्विचार याचिका◾राज्यसभा में आज पेश होगा नागरिकता संशोधन बिल, कांग्रेस देशभर में करेगी प्रदर्शन◾झारखंड: तबरेज अंसारी की हत्या मामले में 6 आरोपियों को हाईकोर्ट से मिली जमानत◾राज्यसभा में CAB पारित कराने के लिए रणनीति बनाने में जुटी भाजपा◾झारखंड विधानसभा चुनाव : तीसरे चरण में भाजपा, झाविमो और आजसू की प्रतिष्ठा दांव पर ◾सोनिया ने पार्टी सांसदों को दिया रात्रिभोज◾UP : चौथी बार बुंदेलियों ने मोदी को लिखी खून से चिट्ठी ◾

अन्य राज्य

स्थानीय भाषाओं पर भी बने फिल्में

 amiriti rawat

मसूरी : उत्तराखंड सरकार की पहल पर आयोजित फिल्म काॅन्कलेव 2019 के मौके पर बतौर मुख्य अतिथि केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा कि उत्तराखंड देवभूमि है और यहां की सांस्कृतिक विरासत को फिल्मों के माध्यम से पूरा देश व दुनिया जाने इसके लिए मुख्यमंत्री का प्रयास सराहनीय है। जिसमें पूरा सहयोग किया जायेगा। 

लाइब्रेरी स्थित एक होटल में आयोजित फिल्म काॅन्कलेव में बतौर मुख्य अतिथि केंद्रीय मंत्री महिला सशक्तिकरण एवं बाल विकास स्मृति ईरानी ने कहा कि उत्तराखंड का प्राकृतिक सौंदर्य हर किसी को आकर्षित करता है इसलिए इस सम्मेलन का उददेश्य यहां की बोली भाषा, यहां की सांस्कृतिक विरासत को देश व दुनिया के हर घर में पहुंचे इसके लिए फिल्म मेकिंग व क्रियेटिव के साथ सोचना होगा और प्रदेश के मुख्यमंत्री इस दिशा में प्रयास कर रहे हैं जो सराहनीय है। 

उन्होंने कहा कि मुख्यमत्रीं के नेतृत्व में उत्तराखंड में फिल्म जगत के साथ साथ यहां की सांस्कृतिक विरासत तकनीकी के बदौलत देश विदेश में पहुंचे। इसके लिए वर्किंग ग्रुप बनाने का प्रयास किया जाना चाहिए ताकि यहां का युवा फिल्म मेकिंग के साथ ही क्रियेटिव करें। 

इस मौके पर सिनेमा निर्माता तिग्मांशु धूलिया, भरत बाला, विशाल भारद्वाज, जैकी भगनानी, रूपा दुर्गापाल, विधायक गणेश जोशी, पर्यटन सचिव दिलीप जावलकर, उत्तराखंड क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष जोत सिंह गुनसोला, पालिकाध्क्ष अनुज गुप्ता, पूर्व पालिकाध्यक्ष ओपी उनियाल सहित कई सिनेमा जगत से जुड़ी हस्तियां मौजूद रही।

विशेषज्ञों के सुझावों पर अमल करेगी राज्य सरकार 

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि राज्य में फिल्म, टीवी सीरियल आदि की शूटिंग को बढ़ावा देने के लिए सरकार फिल्मकारों व इस क्षेत्र के विशेषज्ञों के सुझावों को अमल में लाएगी। गत वर्ष इन्वेस्टर्स समिट के समय जो भी सुझाव मिले थे उन्हें समाहित करते हुए राज्य की फिल्म नीति बनाई गई। इसके सकारात्मक परिणाम भी देखने को मिले हैं। बड़ी संख्या में यहां फिल्मों व टीवी सीरियलों की शूटिंग हुई है। दक्षिण भारत की भी बहुत सी नामी फिल्मी हस्तियां यहां आई हैं।

राज्य में है फिल्म शूटिंग के अनुकूल माहौल 

मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तराखण्ड को प्रकृति से सुन्दरता का वरदान प्राप्त है। यहां जैसी लोकेशन कहीं और शायद ही हो। हमारे यहां प्रभावी सिंगल विंडों सिस्टम लागू किया गया है जहां से औसतन 3-4 दिनों में सभी तरह की क्लियरेंस दे दी जाती हैं। यहां शूटिंग कर चुके फिल्मकार भी इस बात की प्रशंसा करते हैं कि उत्तराखण्ड में फिल्म शूटिंग के समय स्थानीय लोगों द्वारा किसी प्रकार का व्यवधान नहीं किया जाता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में फिल्म निर्माण से संबंधित संस्थाएं स्थापित की जा सकती हैं। इसमें सहयोग देने के लिए राज्य सरकार तत्पर है।

डिजिटल क्रांति के लिए हो पुख्ता तैयारी 

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि कंटेंट क्रियेशन में बहुआयामी प्लेटफार्म को समझना होगा। फिल्म व टेलिविजन के साथ डिजिटल क्रांति के लिए भी तैयारियां पुख्ता होनी चाहिए। आने वाले समय में डिजिटल मीडिया सबसे सशक्त माध्यम बनने जा रहा है। स्थानीय भाषाओं में भी कंटेंट क्रियेशन पर फोकस करना होगा। 

बडे़ निर्माताओं और स्थानीय कंटेंट क्रियेटर के बीच सेतु स्थापित किया जाए। प्रादेशिक भाषाओं में भी तकनीकी को मजबूत करना होगा। एकेडेमिक्स ऑफ फिल्म मेकिंग एंड प्रोडक्शन मैनेजमेंट स्किल्स पर भी ध्यान दिया जाए। हाईस्कूल से ही इसकी शिक्षा की व्यवस्था हो।