BREAKING NEWS

आज का राशिफल (11 अगस्त 2022)◾हर घर तिरंगा अभियान : शौर्य चक्र से सम्मानित सिपाही औरंगजेब की मां ने अपने घर पर फहराया 'तिरंगा'◾दिल का दौरा पड़ने के बाद राजू श्रीवास्तव एम्स में भर्ती , वेंटिलेटर सपोर्ट पर रखे गए◾माकपा ने 'मुफ्त उपहार' वाले बयान को लेकर PM मोदी पर निशाना साधा◾कांग्रेस ने महाराष्ट्र मंत्रिमंडल में संजय राठौर को शामिल किए जाने को लेकर BJP पर साधा निशाना◾High Court में जनहित याचिका : याददाश्त खो चुके हैं सत्येंद्र जैन, विधानसभा और मंत्रिमंडल से अयोग्य घोषित किया जाए◾केजरीवाल ने गुजरात में सत्ता में आने पर महिलाओं को 1000 रुपये मासिक भत्ता देने का किया ऐलान ◾ISRO ने गगनयान से जुड़ा LEM परीक्षण सफलतापूर्वक पूरा किया◾Corbevax Corona Vaccine : केंद्र सरकार ने वयस्कों को कॉर्बेवैक्स की बूस्टर खुराक देने को दी मंजूरी ◾भारत के अतीत, वर्तमान के लिए प्रतिबद्धता और भविष्य के सपनों को झलकाता है तिरंगा : PM मोदी◾ हिमाचल में भी खिसक सकती हैं भाजपा की सरकार ! कांग्रेस ने विधानसभा में लाया अविश्वास प्रस्ताव ◾काले कपड़ों में कांग्रेस के प्रदर्शन पर PM मोदी ने कसा तंज, कहा- जनता भरोसा नहीं करेगी...◾जब नीतीश कुमार ने कहा था - येन केन प्रकारेण सत्ता प्राप्त करूंगा, लेकिन अच्छा काम करूंगा◾न्यायमूर्ति यू यू ललित होंगे सुप्रीमकोर्ट के नए प्रधान न्यायधीश ◾दिग्गज कारोबारी अडानी को जेड प्लस सिक्योरिटी, आईबी ने दिया था इनपुट◾शपथ लेने के बाद नीतीश की गेम पॉलिटिक्स शुरू, मोदी के खिलाफ कर सकते हैं ये बड़ा काम ◾नुपूर को सुप्रीम राहत, जांच पूरी न होने तक नहीं होगी गिरफ्तारी, सभी एफआईआर को एक साथ जोड़ा ◾ ‘‘नीतीश सांप है, सांप आपके घर घुस गया है।’’, भाजपा नेता गिरिराज ने याद की लालू की पुरानी बात ◾ सुनील बंसल का बीजेपी में बढ़ा कद, बनाए गए पार्टी महासचिव◾पिता जेल में तो संभाली पार्टी की कमान, 75 सीट जीतकर किया धमाकेदार प्रदर्शन, जानिए तेजस्वी के संघर्ष की कहानी ◾

Nagaland: नगालैंड सरकार का मास्टर प्लॉन, नगर निकायों में महिलाओं के लिए 33 प्रतिशत आरक्षण रिर्जव

नगालैंड सरकार ने उच्चतम न्यायालय को मंगलवार को बताया कि वह नगर निकायों में महिलाओं के लिए 33 प्रतिशत आरक्षण लागू करने पर सहमत हो गई है।राज्य सरकार ने न्यायमूर्ति एस के कौल और न्यायमूर्ति एम सुंदरेश की पीठ से कहा कि सभी पक्षकारों की मौजूदगी में नौ मार्च को विचार-विमर्श के लिए हुई बैठक में इस संबंध में एक प्रस्ताव पारित किया गया है।
सरकारी वकील ने पीठ से कहा, ‘‘मुख्यमंत्री और अन्य लोगों की सहमति से प्रस्ताव पारित किया गया कि हमें महिलाओं को 33 प्रतिशत आरक्षण देने वाले 74वें संशोधन को अपनाना चाहिए।’’शीर्ष अदालत ने कहा कि इसके बाद महिलाओं को आरक्षण देते हुए चुनाव कराने में कोई बाधा नहीं है।पीठ ने कहा, ‘‘हमने अनुपालन के हलफनामे पर भी गौर किया है जिसमें कहा गया है कि इस अदालत के निर्देश को ध्यान में रखते हुए 16 मार्च, 2022 को शहरी स्थानीय निकायों के चुनाव के संबंध में एक बैठक आयोजित की गई और राज्य विधानसभा की मतदाता सूची को नगरपालिका चुनावों के आधार के रूप में उपयोग करने और पिछले चुनावों के बाद से बड़े अंतराल के कारण इसके अद्यतन के संबंध में राज्य निर्वाचन आयोग को सूचित किया गया।’’
उसने कहा, ‘‘राज्य निर्वाचन आयोग ने कहा है कि उसने पहले ही सारांश संशोधन की प्रक्रिया शुरू कर दी है जिसमें दो महीने लगेंगे।’’ पीठ ने आयोग को जुलाई में सुनवाई की अगली तारीख पर चुनाव कार्यक्रम से अवगत कराने का निर्देश दिया।इससे पहले, न्यायालय ने राज्य के शहरी स्थानीय निकायों में महिलाओं के लिए आरक्षण लागू करने में देरी पर नगालैंड सरकार को फटकार लगायी थी और कहा था कि लैंगिक समानता का एक अहम पहलू स्थगित होता दिख रहा है।
पीठ ने राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा की गई इस शिकायत पर गौर किया था कि राज्य सरकार संसदीय मतदाता सूची का उपयोग स्थानीय निकाय चुनाव में करने के लिए कानून में बदलाव के उसके अनुरोध का जवाब नहीं दे रही है।शीर्ष अदालत पीपुल्स यूनियन फॉर सिविल लिबर्टीज (पीयूसीएल) और अन्य की उस याचिका पर सुनवाई कर रही है, जिसमें नगालैंड की सभी नगर पालिकाओं और नगर परिषदों के लिए नगालैंड नगरपालिका (प्रथम संशोधन) अधिनियम, 2006 की धारा 23 ए और राज्य सरकार की अधिसूचना के अनुसार चुनाव कराने का अनुरोध किया गया है।