BREAKING NEWS

दिल्ली विधानसभा चुनाव में भाजपा का नारा 'अबकी बार, तीन पार' होगा : केजरीवाल◾एनआरसी के खिलाफ कल जंतर-मंतर पर प्रदर्शन करेगी पार्टी : संजय सिंह◾राकांपा नेता उमाशंकर यादव बोले- नैतिकता के आधार पर तत्काल इस्तीफा दें CM योगी◾बलात्कारी के लिए मृत्युदंड से सख्त सजा कुछ नहीं हो सकती, पालक भी जिम्मेदारी समझें : स्मृति ईरानी◾CM केजरीवाल ने उन्नाव बलात्कार पीड़िता की मौत को बताया शर्मनाक, ट्वीट कर कही ये बात ◾बलात्कार की घटनाओं पर स्वत: संज्ञान लें सुप्रीम कोर्ट : मायावती◾PM मोदी, अमित शाह और अजीत डोभाल पुणे में शीर्ष पुलिस अधिकारियों के सम्मेलन में हुए शामिल ◾केरल में बोले राहुल गांधी- महिलाओं के खिलाफ हिंसा और ज्यादतियों में हुई बढ़ोतरी◾सशस्त्र सेना झंडा दिवस के अवसर PM मोदी ने लोगों से किया अनुरोध, बोले- सशस्त्र बल के कल्याण के लिए योगदान दें◾उन्नाव रेप पीड़िता की मौत के विरोध में BJP मुख्यालय पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं का प्रदर्शन, पुलिस ने किया लाठीचार्ज◾उन्नाव रेप पीड़िता की मौत के बाद विधानसभा के बाहर धरने पर बैठे अखिलेश यादव, कहा- वो जिंदा रहना चाहती थी◾उन्नाव पीड़िता की मौत पर बोली स्वाति मालीवाल- सरकार बलात्कार पीड़िताओं के प्रति असंवेदनशील ◾उन्नाव बलात्कार पीड़िता की मौत पर बोली प्रियंका गांधी- यह हम सबकी नाकामयाबी है हम उसे न्याय नहीं दिला पाए◾उन्नाव रेप केस: बुजुर्ग पिता की गुहार, बेटी के गुनहगारों को मिले मौत की सजा◾उन्नाव रेप पीड़िता की दर्दनाक मौत अति-कष्टदायक : मायावती◾सीएम बनने के बाद PM मोदी से पहली बार मिले उद्धव ठाकरे, सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए मुम्बई रवाना हुए मोदी ◾झारखंड विधानसभा चुनाव : सिल्ली में जीत का 'चौका' लगा पाएंगे सुदेश महतो?◾झारखंड: विधानसभा चुनाव के दूसरे चरण के लिए 20 सीटों पर मतदान जारी, PM मोदी ने की लोगों से वोट डालने की अपील ◾जिंदगी की जंग हार गई उन्नाव रेप पीड़िता, सफदरजंग अस्पताल में हुई मौत◾महिलायें अपने हाथ में लें देश की बागडोर : प्रियंका गांधी वाड्रा◾

अन्य राज्य

नक्सल प्रभावित सुकमा में शुरू हुआ चलता-फिरता थाना

 sukma

छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित सुकमा जिले में चलता-फिरता (मोबाइल) थाना शुरू किया गया है, जो गांवों में घर-घर जाकर लोगों की समस्याएं सुनेगा और रिपोर्ट दर्ज करेगा। जिले में बढ़ी नक्सल गतिविधियों ने आमजन में पुलिस के प्रति भरोसे को कम किया है। इसलिए लोगों में पुलिस के प्रति दोबारा भरोसा जगाने के लिए स्थानीय प्रशासन नए व तेजतर्रार विकल्पों का सहारा ले रहा है। पहले जहां जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक ने मोटरसाइकिल पर जंगलों तक जाने का साहस दिखाया, तो वहीं अब डोर-टू-डोर समस्याएं सुनकर रिपोर्ट दर्ज की जाएगी। 

पुलिस के प्रति आमजन का भरोसा कम होने का ही नतीजा है कि, पुलिस को समय पर सूचनाएं नहीं मिल पाती। इसके साथ ही उसे मुखबिर भी कम ही मिलते हैं। इन हालातों के बीच जनता में पुलिस और प्रशासन का भरोसा पैदा करने के लिए कई अफसर अपने स्तर पर प्रयास करने में लगे हैं। इनमें सुकमा के जिलाधिकारी चंदन कुमार और पुलिस अधीक्षक शलभ सिन्हा लगातार जनता से संवाद कर उनकी समस्याएं जानने के लिए अभियान चलाए हुए हैं। 

सुकमा जिला तेलंगाना और आंध्र प्रदेश की सीमा पर है और इस जिले के सुदूर जंगल में बसे गांवों का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि यहां तक पहुंचने के लिए दोनों राज्यों से होकर गुजरना पड़ता है। घने जंगलों में बसे लोग अपनी समस्याओं को लेकर थाने तक जाने का साहस नहीं कर पाते। क्योंकि, उन्हें इस बात का डर होता है कि थाने गए तो नक्सली मुखबरी के शक में उन्हें प्रताड़ित कर सकते हैं। 

पुलिस अधीक्षक शलभ सिन्हा ने  बताया, "ग्रामीणों को नक्सलवाद के दुष्प्रभावों से अवगत कराते हुए उनमें जागरूकता लाने और उनकी समस्याओं पर तुरंत कार्रवाई के लिए चलता-फिरता थाना शुरू किया गया है।" उन्होंने बताया कि एक वाहन के जरिए गांव-गांव घूमा जाएगा जिसे 'अंजोर थाना' नाम दिया गया है।" सिन्हा ने बताया कि यह मोबाइल थाना नियमित तौर पर एक थाना क्षेत्र के सुदूर गांव तक जाएगा। इसके अलावा थाना साप्ताहिक बाजारों तक पहुंचेगा, क्योंकि बाजार में सुदूर गांवों के लोग खरीदारी करने आते हैं। 

उन्होंने आगे बताया कि यह वाहन जिस भी थाना क्षेत्र में होगा, उस समय संबंधित थाना क्षेत्र का पुलिस बल उसके साथ मौजूद रहेगा। सिन्हा ने कहा कि इस दौरान वाहन पर लगे लाउड स्पीकर से लोगों को जागरूक किया जाएगा। साथ ही पीड़ितों की रिपोर्ट भी दर्ज की जाएगी। इस नई व्यवस्था से वे लोग भी चलते-फिरते थाने तक आएंगे, जो पुलिस थाना जाने से हिचकते हैं। अंजोर का अर्थ होता है उजाला। इस वाहन के चारों ओर बोर्ड व फ्लेक्स लगाए गए हैं, जिन पर नई उम्मीद और भरोसे के संदेश लिखे हुए हैं। 

सुकमा वह जिला है जहां नक्सलवादियों की गतिविधियों के चलते सरकारी कर्मचारी तक गांव जाने से डरते हैं। कर्मचारियों के इसी डर को खत्म करने के लिए पिछले दिनों जिलाधिकारी चंदन कुमार और पुलिस अधीक्षक शलभ सिन्हा ने मोटर साइकिल से गांवों तक जाने का साहस दिखाया था। अब जिला प्रशासन ने लोगों में भरोसा जगाने के लिए बुधवार को चलता-फिरता थाना रवाना किया है। यह थाना लोगों में पुलिस के डर को तो खत्म करेगा ही, साथ में उनके प्रति भरोसा भी जगाएगा। 

महिला आरक्षण मुद्दे पर राजनीतिक दलों के बीच सावधानीपूर्वक विचार विमर्श की जरूरत : सरकार