BREAKING NEWS

चीन और पाकिस्तान से बिजली उपकरणों का आयात नहीं करेगा भारत ◾PM मोदी के लेह दौरे पर सियासत शुरू, मनीष तिवारी बोले- जब इंदिरा गई थीं तो पाक के दो टुकड़े किए थे◾World Corona : दुनियाभर में संक्रमितों का आंकड़ा 1 करोड़ 8 लाख के पार, सवा पांच लाख के करीब लोगों की मौत◾कानपुर में शहीद हुए पुलिसकर्मियों को CM योगी ने दी श्रद्धांजलि, कहा-व्यर्थ नहीं जाएगा यह बलिदान ◾चीन के साथ तनाव के बीच PM मोदी का औचक लेह दौरा, अग्रिम पोस्ट पर जवानों से की मुलाकात◾देश में एक दिन में 20 हजार से अधिक कोरोना मामलों की पुष्टि, संक्रमितों का आंकड़ा सवा छह लाख के पार◾15 अगस्त को लॉन्च हो सकती है स्वदेशी कोरोना वैक्सीन COVAXIN, 7 जुलाई से शुरू होगा ह्यूमन ट्रायल◾जम्मू-कश्मीर : श्रीनगर में मुठभेड़ में CRPF का एक जवान शहीद, एक आतंकवादी भी ढेर◾कानपुर में अपराधियों को पकड़ने गई पुलिस पर हमला, मुठभेड़ में आठ पुलिसकर्मी शहीद◾मुंबई : बॉलीवुड की मशहूर कोरियोग्राफर सरोज खान का कार्डियक अरेस्ट के चलते निधन◾Covid 19 : अमेरिका में संक्रमितों की संख्या 27 लाख के पार, सवा एक लाख से अधिक लोगों की मौत ◾महाराष्ट्र में कोरोना ने तोड़े सारे रिकॉर्ड, एक दिन में 6,330 नए मामलों के साथ राज्य में मौत का आंकड़ा 8,178◾गूगल प्ले स्टोर, एपल ऐप स्टोर से हटी भारत सरकार द्वारा बैन चीन की 59 ऐप, कंपनियों ने रोया दुखड़ा ◾दिल्ली में कोरोना के 2,373 नए मरीज आये सामने , कुल मामले बढ़कर 92,000 के पार ◾अप्रैल 2023 से शुरू होगा निजी ट्रेनों का परिचालन, जानिये सफर में क्या होंगे खास और आधुनिक बदलाव◾कांग्रेस को चुनौती देते हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया का पलटवार, कहा - टाइगर अभी जिंदा है ◾म्यांमार में बड़ा हादसा, हरे पत्थर की खदान में भूस्खलन से करीब 123 लोगों की मौत ◾चीन के साथ तनाव के बीच, लद्दाख में भारत ने स्पेशल फोर्स के जवानों को तैनात किया◾बिहार में आकाशीय बिजली ने आज फिर बरपाया कहर, चपेट में आने से 20 लोगों की हुई मौत◾चीन के साथ तनाव के बीच मोदी सरकार ने Mig-29 और सुखोई विमानों की खरीद को दी मंजूरी◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

नक्सल प्रभावित सुकमा में शुरू हुआ चलता-फिरता थाना

छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित सुकमा जिले में चलता-फिरता (मोबाइल) थाना शुरू किया गया है, जो गांवों में घर-घर जाकर लोगों की समस्याएं सुनेगा और रिपोर्ट दर्ज करेगा। जिले में बढ़ी नक्सल गतिविधियों ने आमजन में पुलिस के प्रति भरोसे को कम किया है। इसलिए लोगों में पुलिस के प्रति दोबारा भरोसा जगाने के लिए स्थानीय प्रशासन नए व तेजतर्रार विकल्पों का सहारा ले रहा है। पहले जहां जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक ने मोटरसाइकिल पर जंगलों तक जाने का साहस दिखाया, तो वहीं अब डोर-टू-डोर समस्याएं सुनकर रिपोर्ट दर्ज की जाएगी। 

पुलिस के प्रति आमजन का भरोसा कम होने का ही नतीजा है कि, पुलिस को समय पर सूचनाएं नहीं मिल पाती। इसके साथ ही उसे मुखबिर भी कम ही मिलते हैं। इन हालातों के बीच जनता में पुलिस और प्रशासन का भरोसा पैदा करने के लिए कई अफसर अपने स्तर पर प्रयास करने में लगे हैं। इनमें सुकमा के जिलाधिकारी चंदन कुमार और पुलिस अधीक्षक शलभ सिन्हा लगातार जनता से संवाद कर उनकी समस्याएं जानने के लिए अभियान चलाए हुए हैं। 

सुकमा जिला तेलंगाना और आंध्र प्रदेश की सीमा पर है और इस जिले के सुदूर जंगल में बसे गांवों का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि यहां तक पहुंचने के लिए दोनों राज्यों से होकर गुजरना पड़ता है। घने जंगलों में बसे लोग अपनी समस्याओं को लेकर थाने तक जाने का साहस नहीं कर पाते। क्योंकि, उन्हें इस बात का डर होता है कि थाने गए तो नक्सली मुखबरी के शक में उन्हें प्रताड़ित कर सकते हैं। 

पुलिस अधीक्षक शलभ सिन्हा ने  बताया, "ग्रामीणों को नक्सलवाद के दुष्प्रभावों से अवगत कराते हुए उनमें जागरूकता लाने और उनकी समस्याओं पर तुरंत कार्रवाई के लिए चलता-फिरता थाना शुरू किया गया है।" उन्होंने बताया कि एक वाहन के जरिए गांव-गांव घूमा जाएगा जिसे 'अंजोर थाना' नाम दिया गया है।" सिन्हा ने बताया कि यह मोबाइल थाना नियमित तौर पर एक थाना क्षेत्र के सुदूर गांव तक जाएगा। इसके अलावा थाना साप्ताहिक बाजारों तक पहुंचेगा, क्योंकि बाजार में सुदूर गांवों के लोग खरीदारी करने आते हैं। 

उन्होंने आगे बताया कि यह वाहन जिस भी थाना क्षेत्र में होगा, उस समय संबंधित थाना क्षेत्र का पुलिस बल उसके साथ मौजूद रहेगा। सिन्हा ने कहा कि इस दौरान वाहन पर लगे लाउड स्पीकर से लोगों को जागरूक किया जाएगा। साथ ही पीड़ितों की रिपोर्ट भी दर्ज की जाएगी। इस नई व्यवस्था से वे लोग भी चलते-फिरते थाने तक आएंगे, जो पुलिस थाना जाने से हिचकते हैं। अंजोर का अर्थ होता है उजाला। इस वाहन के चारों ओर बोर्ड व फ्लेक्स लगाए गए हैं, जिन पर नई उम्मीद और भरोसे के संदेश लिखे हुए हैं। 

सुकमा वह जिला है जहां नक्सलवादियों की गतिविधियों के चलते सरकारी कर्मचारी तक गांव जाने से डरते हैं। कर्मचारियों के इसी डर को खत्म करने के लिए पिछले दिनों जिलाधिकारी चंदन कुमार और पुलिस अधीक्षक शलभ सिन्हा ने मोटर साइकिल से गांवों तक जाने का साहस दिखाया था। अब जिला प्रशासन ने लोगों में भरोसा जगाने के लिए बुधवार को चलता-फिरता थाना रवाना किया है। यह थाना लोगों में पुलिस के डर को तो खत्म करेगा ही, साथ में उनके प्रति भरोसा भी जगाएगा। 

महिला आरक्षण मुद्दे पर राजनीतिक दलों के बीच सावधानीपूर्वक विचार विमर्श की जरूरत : सरकार