BREAKING NEWS

केजरीवाल ने दी निजी अस्पतालों को चेतावनी, कहा- राजनितिक पार्टियों के दम पर मरीजों के इलाज से न करें आनाकानी◾ED ऑफिस तक पहुंचा कोरोना, 5 अधिकारी कोविड-19 से संक्रमित पाए जाने के बाद 48 घंटो के लिए मुख्यालय सील ◾लद्दाख LAC विवाद : भारत-चीन सैन्य अधिकारियों के बीच बैठक जारी◾राहुल गांधी का केंद्र पर वार- लोगों को नकद सहयोग नहीं देकर अर्थव्यवस्था बर्बाद कर रही है सरकार◾वंदे भारत मिशन -3 के तहत अब तक 22000 टिकटें की हो चुकी है बुकिंग◾अमरनाथ यात्रा 21 जुलाई से होगी शुरू,15 दिनों तक जारी रहेगी यात्रा, भक्तों के लिए होगा आरती का लाइव टेलिकास्ट◾World Corona : वैश्विक महामारी से दुनियाभर में हाहाकार, संक्रमितों की संख्या 67 लाख के पार◾CM अमरिंदर सिंह ने केंद्र पर साधा निशाना,कहा- कोरोना संकट के बीच राज्यों को मदद देने में विफल रही है सरकार◾UP में कोरोना संक्रमितों की संख्या में सबसे बड़ा उछाल, पॉजिटिव मामलों का आंकड़ा दस हजार के करीब ◾कोरोना वायरस : देश में महामारी से संक्रमितों का आंकड़ा 2 लाख 36 हजार के पार, अब तक 6642 लोगों की मौत ◾प्रियंका गांधी ने लॉकडाउन के दौरान यूपी में 44,000 से अधिक प्रवासियों को घर पहुंचने में मदद की ◾वैश्विक महामारी से निपटने में महत्त्वपूर्ण हो सकती है ‘आयुष्मान भारत’ योजना: डब्ल्यूएचओ ◾लद्दाख LAC विवाद : भारत और चीन वार्ता के जरिये मतभेदों को दूर करने पर हुए सहमत◾बीते 24 घंटों में दिल्ली में कोरोना के 1330 नए मामले आए सामने , मौत का आंकड़ा 708 पहुंचा ◾हथिनी की मौत पर विवादित बयान देने पर केरल पुलिस ने मेनका गांधी के खिलाफ दर्ज की FIR◾दिल्ली हिंसा: पिंजरा तोड़ ग्रुप की सदस्य और JNU स्टूडेंट के खिलाफ यूएपीए के तहत मामला दर्ज◾राहुल गांधी ने लॉकडाउन को फिर बताया फेल, ट्विटर पर शेयर किया ग्राफ ◾महाराष्ट्र में कोरोना का कहर जारी, आज सामने आए 2,436 नए मामले, संक्रमितों का आंकड़ा 80 हजार के पार◾लद्दाख तनाव : कल सुबह 9 बजे मालदो में होगी भारत और चीन के बीच ले. जनरल स्तरीय बातचीत ◾पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में खुलासा : मुंह में गहरे घावों के कारण दो हफ्ते भूखी थी गर्भवती हथिनी, हुई दर्दनाक मौत◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

PM मोदी ने श्यामा प्रसाद मुखर्जी के नाम पर केओपीटी का नामकरण किया, विपक्ष ने की आलोचना

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को कोलकाता पत्तन न्यास का नामकरण जन संघ के संस्थापक श्यामा प्रसाद मुखर्जी के नाम पर कर दिया, जिसकी विपक्षी खेमे ने निंदा की। विपक्ष ने कहा कि वह ‘गेम चेंजर (महत्वपूर्ण बदलाव लाने)’ के बजाय सिर्फ ‘‘नाम बदलने वाले’’ रह गए हैं। 

मोदी ने कोलकाता पत्तन न्यास के 150 वर्ष पूरा होने के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम को संबोधित किया और मुखर्जी तथा बी आर आंबेडकर को याद किया। उन्होंने कहा कि उनके योगदान के कारण ही आजादी के बाद देश का विकास हुआ, लेकिन जब उन्होंने सरकार से इस्तीफा दे दिया तब उनके सुझावों को लागू नहीं किया गया। 

मोदी ने यहां नेताजी इनडोर स्टेडियम में आयोजित कार्यक्रम में कहा, ‘‘मैं घोषणा करता हूं कि इस बंदरगाह (कोलकाता पत्तन न्यास) को अब श्यामा प्रसाद मुखर्जी के रूप में जाना जाएगा। वह भारत में औद्योगीकरण के जनक थे, जिन्होंने एक राष्ट्र एक संविधान के लिए अपना जीवन बलिदान कर दिया।’’ 

साल 2021 में होने वाले विधानसभा चुनाव में सत्ता परिवर्तन का संकेत देते हुए उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल सरकार केंद्र की योजनाओं को लागू नहीं कर रही क्योंकि इससे किसी ‘‘गिरोह’’ को फायदा नहीं पहुंचता, लेकिन राज्य के लोगों को लंबे समय तक इन लाभों से वंचित नहीं रखा जाएगा। 

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को पत्तन न्यास के कार्यक्रम में आना था लेकिन वह इसमें शामिल नहीं हुईं और न ही तृणमूल कांग्रेस का कोई मंत्री ही इस कार्यक्रम में शामिल हुआ। उन्होंने कहा, ‘‘जब कोई गिरोह नहीं है या कोई कमीशन शामिल नहीं है तो कोई क्यों केंद्र सरकार की योजनाओं को लागू करेगा? मैं नहीं जानता कि वे (राज्य सरकार) आयुष्मान भारत, पीएम किसान सम्मान निधि जैसी केंद्रीय योजनाओं को मंजूरी देंगे या नहीं लेकिन अगर वे ऐसा करते हैं तो इससे बंगाल के लोगों को ही फायदा मिलेगा।’’ 

प्रधानमंत्री ने यह भी दावा किया कि उन्हें यह देखकर बहुत दुख होता है कि राज्य में गरीबों को केंद्र की कल्याणकारी योजनाओं का फायदा नहीं मिल रहा। उन्होंने कहा, ‘‘देश भर में आठ करोड़ किसानों को (केंद्र की योजनाओं से) फायदा मिल रहा है। लेकिन मेरे दिल में हमेशा से इस बात की (बंगाल में योजनाएं लागू नहीं करने की) कसक रहती है। मैं ईश्वर से हमेशा किसानों एवं गरीब मरीजों के कल्याण के लिए प्रार्थना करूंगा। 

ईश्वर उन्हें (बंगाल सरकार को) सद्बुद्धि दे...।’’ उन्होंने जोर देकर कहा, ‘‘हालांकि मुझे लगता है कि पश्चिम बंगाल के लोग लंबे समय तक इन योजनाओं से वंचित नहीं रह पाएंगे।’’ मोदी ने इस अवसर पर एक स्मृति डाक टिकट जारी किया और कहा कि केंद्र में उनकी सरकार बंगाल, यहां के गरीबों, वंचितों एवं शोषित तबके के विकास के लिए हर संभव प्रयास कर रही है। 

उन्होंने कोलकाता बंदरगाह के विस्तार एवं आधुनिकीकरण के लिए बुनियादी ढांचा परियोजनाओं का भी उद्घाटन किया और आधारशिला रखी। उन्होंने कहा, ‘‘जलमार्गों के विकास से पूर्वी भारत में औद्योगिक केंद्रों के साथ कोलकाता पत्तन न्यास के संपर्क में सुधार हुआ है, जिससे हमारे पड़ोसी देशों भूटान, म्यामां और नेपाल के साथ कारोबार सुगम हुआ है।’’ 

मोदी ने कहा, ‘‘हमारे देश के तट विकास के द्वार हैं, (केंद्र) सरकार ने संपर्क सुधारने के लिए सागरमाला कार्यक्रम शुरू किया है।’’ बंदरगाह का नाम बदलने के प्रधानमंत्री के कदम की आलोचना करते हुए माकपा पोलितब्यूरो के सदस्य मोहम्मद सलीम ने कहा कि मोदी ‘‘गेम चेंजर (महत्वपूर्ण बदलाव लाने वाले)’’ के बजाय ‘‘नाम बदलने वाले’’ बन गए हैं। 

सलीम ने कहा, ‘‘जब नरेंद्र मोदी सत्ता में आए तो हमने सोचा कि सरकार महत्वपूर्ण बदलाव लाएगी। लेकिन अब हम देख रहे हैं कि यह सरकार सिर्फ नाम बदलने वाली रह गई है। हालांकि, नाम परिवर्तन से बंदरगाह के प्रदर्शन पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा।’’