BREAKING NEWS

शाहीन बाग में नहीं निकला कोई हल, महिलाएं वार्ताकारों की बात से नाखुश◾राम मंदिर निर्माण : अमित शाह ने पूरा किया महंत नृत्यगोपाल से किया वादा◾उद्धव ठाकरे शुक्रवार को नयी दिल्ली में प्रधानमंत्री से मिलेंगे ◾UP के 4 स्टेशनों के नाम बदले, इलाहाबाद जंक्शन हुआ प्रयागराज जंक्शन◾J&K प्रशासन ने महबूबा मुफ्ती के करीबी सहयोगी पर लगाया PSA◾ओवैसी के मंच पर प्रदर्शनकारी युवती ने लगाए 'पाकिस्तान जिंदाबाद' के नारे, पुलिस ने किया राजद्रोह का केस दर्ज◾भारत में लोगों को Trump की कुछ नीतियां नहीं आई पसंद, लेकिन लोकप्रियता बढ़ी - सर्वेक्षण◾दिल्ली सहित उत्तर के कई इलाकों में बारिश , फिर लौटी ठंड , J&K में बर्फबारी◾Trump की भारत यात्रा के मद्देनजर दिल्ली पुलिस ने रूट पर CCTV कैमरे लगाने शुरू किए◾गांधी के असहयोग आंदोलन जैसा है सीएए, एनआरसी और एनपीआर का विरोध : येचुरी ◾AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी की मौजूदगी में मंच पर पहुंचकर लड़की ने लगाए पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे◾महिलाओं को सेना में स्थायी कमीशन मिलने से लैंगिक समानता लाने की दिशा में मिलेगी सफलता : सेना प्रमुख◾मुझे ISI, 26/11 आंतकी हमलों से जोड़ने वाले BJP प्रवक्ताओं के खिलाफ करुंगा मानहानि का दावा : दिग्विजय◾अमेरिकी राष्ट्रपति के बयान का संदर्भ व्यापार संतुलन से था, चिंताओं पर ध्यान देंगे : विदेश मंत्रालय◾राम मंदिर ट्रस्ट ने PM मोदी से की मुलाकात, अयोध्या आने का दिया न्योता◾अयोध्या में बजरंगबली की शानदार और भव्य मूर्ति बनाने के लिए ट्रस्ट से करेंगे अनुरोध - AAP◾अमित शाह सीएए के समर्थन में 15 मार्च को हैदराबाद में करेंगे रैली ◾AMU के छात्रों ने मुख्यमंत्री योगी के खिलाफ निकाला विरोध मार्च ◾भाकपा ने किया ट्रंप की यात्रा के विरोध में ‘प्रगतिशील ताकतों’, नागरिक संस्थाओं से प्रदर्शन का आह्वान◾TOP 20 NEWS 20 February : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾

‘पाइका विद्रोह स्मारक’ आने वाली पीढ़ियों को करेगा प्रेरित : राष्ट्रपति कोविंद

ब्रिटिश शासन के खिलाफ पाइका विद्रोह के 200 साल पूरे होने के मौके पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने रविवार को इससे जुड़े स्मारक की आधारशिला रखी। उन्होंने कहा कि ओडिशा के खुर्दा जिले में यह स्मारक आने वाली पीढ़ियों के लिए प्रेरणास्त्रोत होगा। उन्होंने कहा कि बरुनेई की पहाड़ियों की तलहटी में यह परियोजना 10 एकड़ जमीन पर तैयार होगी। 

कोविंद ने कहा, “इस स्मारक को ओडिशा के शौर्य के प्रतीक के तौर पर देखा जाएगा और आने वाली पीढ़ियों के लिए यह प्रेरणा का स्रोत होगा।” ओडिशा के गजपति शासकों के तहत आने वाले किसानों की सेना पाइका ने बक्शी जगबंधु विद्याधर के नेतृत्व में 1817 में ब्रिटिशों के खिलाफ विद्रोह किया था। 

ओडिशा को “शांति-प्रिय लोगों की भूमि” बताते हुए राष्ट्रपति ने कहा कि खेती में जुटे रहने वाले पाइका ने उस वक्त औपनिवेशिक शासकों के खिला‍फ विद्रोह का बिगुल फूंक दिया जब उन्होंने उनकी जमीन हड़पने की कोशिश की। उन्होंने कहा, “क्रांतिकारी जयी राजगुरु के अंग्रेजों के कपट के खिलाफ लड़ते हुए वीरगति प्राप्त करने के बाद, अंग्रेजों ने सोचा होगा कि पाइकों के विद्रोह को उन्होंने कुचल दिया। परंतु बक्शी जगबंधु बिद्याधर ने अपने साहसी नेतृत्व से पाइका विद्रोह को ज्वाला का रूप दिया।” 

कोविंद ने कहा कि इसमें विद्रोह में किसानों, श्रमिकों और कलाकारों ने भी हिस्सा लिया। इस मौके पर ओडिशा के राज्यपाल गणेशी लाल, आंध्र प्रदेश के राज्यपाल बिस्व हरिचंदन, ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक, केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान, प्रह्लाद सिंह पटेल और प्रताप चंद्र सारंगी भी मौजूद थे।