BREAKING NEWS

रक्षा मंत्रालय बड़ा फैसला - 2,290 करोड़ रुपये के सैन्य उपकरणों की खरीद को मंजूरी दी ◾प. बंगाल के राज्यपाल की ममता सरकार को चेतावनी - संविधान की रक्षा नहीं हुई तो कार्रवाई होगी◾‘नमामि गंगे’ मिशन के तहत प्रधानमंत्री मोदी उत्तराखंड में छह बड़ी परियोजनाओं का करेंगे उद्घाटन◾सचिन पायलट का केन्द्र सरकार पर वार - चुनौतीपूर्ण समय में किसानों के साथ किया विश्वासघात◾कोरोना महामारी ने किसी एक स्रोत पर वैश्विक आपूर्ति श्रृंखला की निर्भरता के जोखिम को उजागर किया : मोदी ◾RCB vs MI: मुंबई इंडियंस ने टॉस जीतकर चुनी गेंदबाजी, आरसीबी को दिया बल्लेबाजी का न्योता◾रियल एस्टेट सेक्टर पर कोरोना की भारी मार, जुलाई-सितंबर के दौरान घरों की बिक्री 61 प्रतिशत घटी ◾3 अक्टूबर को प्रधानमंत्री मोदी अटल सुरंग रोहतांग का करेंगे उद्घाटन, सामरिक रूप से है बेहद खास ◾रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने नयी रक्षा खरीद प्रक्रिया को किया जारी, स्वदेशी उत्पादन को मिलेगा बढ़ावा ◾सुशांत केस को लेकर सीबीआई का बयान- हर पहलू से की जा रही है जांच◾भारत में 50 लाख से अधिक कोरोना मरीज हुए संक्रमण मुक्त, रिकवरी रेट पहुंचा 82.58 प्रतिशत◾शिवसेना का राजग पर निशाना : इस गठबंधन में अब राम नहीं बचे हैं, जिसने अपने दो शेर खो दिये हैं ◾अनलॉक 5 की गाइडलाइन्स : खुल सकते है पर्यटन स्थल और सिनेमा हॉल,मिल सकती है अधिक छूट ◾केंद्र का सुप्रीम कोर्ट में जवाब : टाली गई किस्तों पर बैंकों के ब्याज में छूट को लेकर निर्णय जल्द ◾बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर सभी राजनीतिक दलों के लिए निर्वाचन आयोग द्वारा गाइडलाइन्स जारी◾कृषि बिल पर राहुल का वार- किसानों के लिए मौत का फरमान है नया कानून, देश में मर चुका है लोकतंत्र◾कृषि विधेयक के विरोध में कर्नाटक में राज्यव्यापी बंद, कार्यकर्ताओं ने बस स्टेशनों को किया सीज◾कोविड-19 : देश में 95 हजार से अधिक लोगों ने गंवाई जान, पॉजिटिव केस की संख्या 60 लाख के पार◾भगत सिंह की जयंती आज, पीएम मोदी बोले- उनकी वीरता की गाथा देशवासियों को युगों तक प्रेरित करती रहेगी◾TOP 5 NEWS 28 SEPTEMBER : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

राफेल पर संप्रग ने जो किया उसे बयां नहीं किया जा सकता : सीतारमण

चेन्नई : रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने करीब 10 साल तक राफेल लड़कू विमान सौदे पर निर्णय नहीं करने को लेकर पिछली संप्रग सरकार की आज आलोचना की और कहा कि देर करने से क्या हुआ, उसे वह विस्तार से बयां नहीं कर सकती क्योंकि इसमें राष्ट्र की सुरक्षा शामिल है। रक्षा मंत्री ने कहा कि संप्रग शासन के दौरान 2004 और 2013 के बीच कई दौर की चर्चा के बाद भी कोई फैसला नहीं लिया गया। उन्होंने कहा, 10 साल तक सथा में रहने के बाद...आपने (कांग्रेस पार्टी नीत संप्रग) कोई फैसला नहीं लिया।

 मंत्री ने कहा कि निर्णय नहीं लेने के चलते क्या हुआ, उसे वह विस्तार से बयां नहीं कर सकती क्योंकि यह मुद्दा राष्ट्र की सुरक्षा से जुड़ हुआ है। उन्होंने कहा, राजग के 2014 में सथा में आने के बाद फ्रांस से 36 राफेल विमानों की खरीद के लिए अंतर - सरकारी रास्ते का विकल्प चुना गया। दरअसल, इससे पहले प्रधानमंत्री नरेन्द, मोदी की वायु सेना के साथ चर्चा हुई थी। उन्होंने कहा कि संप्रग सरकार खरीद पूरी नहीं कर सकी। वहीं, भाजपा नीत सरकार ने हमारी जरूरत और तात्कालिकता पर विचार करते हुए यह किया। उन्होंने सीआईआई के एक कार्यक्रम से इतर संवाददाताओं से कहा कि खरीद का आर्डर उचित तरीके से किया गया।

सुरक्षा पर कैबिनेट कमेटी की सहमति ली गई और सारी औपचाराकिताएं पूरी की गई। दरअसल, इस बारे में उनसे एक सवाल किया गया जिसके जवाब में उन्होंने यह कहा। यह पूछे जाने पर कि कांग्रेस यह मुद्दा अब क्यों उठा रही है, रक्षा मंत्री ने कहा, यह सरकार बगैर किसी भ्रष्टाचार के काम कर रही है। उन्होंने कहा कि यह (लड़कू विमान खरीद) भ्रमित करने का एक बहाना बन गया है। गौरतलब है कि कल मंत्री ने दिल्ली में संवाददाताओं से बात करते हुए सौदे पर कांग्रेस पार्टी के आरोपों को शर्मनाक बताया था। उन्होंने कहा कि हथियार प्रणाली के साथ हर लड़कू विमान की कीमत उससे कम है, जो संप्रग सरकार ने बात की थी।

उन्होंने आरोप लगाया कि लड़कू विमान खरीदने के पिछली संप्रग सरकार के अनिर्णय ने संभवत: राष्ट्रीय सुरक्षा के हितों से समझौता किया। गौरतलब है कि भारत ने 36 राफेल विमानों की खरीद के लिए सितंबर 2016 में फ्रांस के साथ एक अंतर - सरकारी समझौते पर हस्ताक्षर किए थे। इससे करीब डेढ साल पहले प्रधानमंत्री मोदी ने पेरिस की एक यात्रा के दौरान इस प्रस्ताव की घोषणा की थी। कांग्रेस पार्टी ने हाल के समय में इस सौदे की कीमतों सहित कई चीजों पर सवाल उठाए हैं। उसने सरकार पर सांठगांठ वाले पूंजीवाद को बढ़वा देकर राष्ट्रीय हित और सुरक्षा से समझौता करने का आरोप लगाया। साथ ही, सरकारी खजाने को नुकसान पहुंचाने का भी आरोप लगाया है।