BREAKING NEWS

राजस्थान: सियासी उठापटक के बीच कल सुबह दिल्ली में प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे सचिन पायलट ◾महाराष्ट्र में कोरोना का विस्फोट जारी, संक्रमितों का आंकड़ा 2.67 लाख के पार, बीते 24 घंटे में 6,741 नए केस◾कानपुर शूटआउट : गिरफ्तार शशिकांत पांडेय का खुलासा, विकास के कहने पर ही हुई 8 पुलिसकर्मियों की हत्या◾केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा- देश में कोरोना के 50 फीसदी मामले महाराष्ट्र और तमिलनाडु से◾बिहार में कोरोना के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए 16 से 31 जुलाई तक लगाया गया लॉकडाउन ◾राज्यपाल से मुलाकात के बाद बोले गहलोत- कुछ लोग 'आ बैल मुझे मार' रवैये के साथ कर रहे थे काम◾सचिन पायलट की अध्यक्ष पद से बर्खास्ती के बाद गोविंद सिंह डोटासरा को सौंपा गया कार्यभार◾कांग्रेस के एक्शन के बाद सचिन पायलट ने किया ट्वीट- सत्य को परेशान किया जा सकता है, पराजित नहीं ◾पूर्वी लद्दाख विवाद : भारत और चीन ने पैंगोग झील, देपसांग से सैनिकों को हटाने पर की वार्ता ◾कांग्रेस का सचिन पायलट पर बड़ा एक्शन, प्रदेश अध्यक्ष पद और उपमुख्यमंत्री के पद से किया बर्खास्त◾राजस्थान के मौजूदा संकट के लिए उमा भारती ने कांग्रेस और राहुल को बताया जिम्मेदार◾केजरीवाल ने प्लाज्मा बैंक का किया उद्धाटन, बोले- दिल्ली में कोरोना पीड़ित जरूरतमंदों को प्लाज्मा मिला ◾CBSE 10वीं का रिजल्ट कल होगा जारी, HRD मंत्री पोखरियाल ने की घोषणा ◾अमेरिका ने दक्षिण चीन सागर पर चीन के दावे को किया खारिज, कही ये बात◾पायलट का गहलोत के खिलाफ बगावती सुर बरकरार, मनाने में जुटा कांग्रेस का शीर्ष नेतृत्व◾कानपुर मुठभेड़ : एक और आरोपी शशिकांत गिरफ्तार, पुलिस को विकास दुबे के घर पर मिली AK-47◾भगवान राम को नेपाली बताने वाले बयान पर भड़के सिंघवी, बोले-ओली का बिगड़ गया है मानसिक संतुलन◾देश में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 9 लाख के पार, अब तक 24 हजार के करीब लोगों ने गंवाई जान ◾दुनियाभर में कोरोना का कहर, वैश्विक महामारी से संक्रमितों की संख्या 1 करोड़ 30 लाख से अधिक हुई ◾राहुल ने किया ट्वीट- इस हफ्ते हमारे देश में आंकड़ा 10,00,000 पार कर जाएगा◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

राज ठाकरे का CM योगी पर पलटवार, कहा- राज्य सरकार की अनुमति के बगैर प्रवासियों को नहीं देंगे महाराष्ट्र में प्रवेश

प्रवासी मजदूरों के मुद्दों पर सियासी घमासान थमने का नाम नहीं ले रहा है। इस बीच उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने घोषणा किया कि जो भी राज्य चाहता है कि प्रदेश के प्रवासी कामगार उनके यहां वापस आएं उन्हें राज्य सरकार से इजाजत लेनी होगी। जिसके बाद यूपी सरकार और महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) के प्रमुख राज ठाकरे आमने-सामने आ गए हैं।

योगी के इस बयान का पलटवार करते हुए राज ठाकरे ने कहा कि सीएम योगी को यह बात भी ध्यान रखनी होगी कि प्रवासी मजदूरों को अब महाराष्ट्र आने से पहले राज्य सरकार, पुलिस और प्रशासन से इजाजत लेना अनिवार्य होगा। ऐसा ना करने पर किसी भी प्रवासी को महाराष्ट्र में आने की अनुमति नहीं मिलेगी।

वहीं मनसे प्रमुख ने महाराष्ट्र सरकार से अपील करते हुए कहा कि इस मुद्दे पर को गंभीरता से ध्यान देना चाहिए और पुलिस स्टेशन में प्रवासी मजदूरों के रिकॉर्ड बनानी चाहिए। उन्होंने कहा कि प्रवासी को अपनी डिटेल्स, आईडी प्रूफ आदि थाने में जमा करना होगा। जब यह कार्रवाई पूरी हो जाती है उसके बाद ही किसी मजदूर को महाराष्ट्र में प्रवेश मिलेगी। 

प्रवासी मजदूरों को लेकर योगी की की थी यह घोषणा 

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को कहा कि जो भी राज्य चाहता है कि प्रदेश के प्रवासी कामगार उनके यहां वापस आएं, उन्हें राज्य सरकार से इसकी इजाजत लेनी होगी और उन कामगारों के सामाजिक, कानूनी और आर्थिक अधिकार सुनिश्चित करने होंगे। 

योगी ने इस बात पर दुख जताया कि कोरोना वायरस के कारण लगाए गए लॉकडाउन के दौरान कई राज्यों ने प्रवासी कामगारों का उचित तरीके से ध्यान नहीं रखा। उन्होंने कहा, ‘‘ये कामगार हमारे सबसे बड़े संसाधन हैं और हम उन्हें उत्तर प्रदेश में रोजगार देंगे। राज्य सरकार उन्हें रोजगार मुहैया करवाने के लिए एक आयोग गठित करेगी।’’ 

पीयूष गोयल की राज्य सरकारों से अपील, अधिक संख्या में 'श्रमिक स्पेशल ट्रेनों' के संचालन की दें अनुमति

योगी ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से संबद्ध प्रकाशनों ‘पांचजन्य’ और ‘ऑर्गेनाइजर’ से बातचीत में कहा, ‘‘वे हमारे लोग हैं...अगर कुछ राज्य उन्हें वापस बुलाना चाहते हैं तो उन्हें राज्य सरकार से इजाजत लेनी होगी।’’ उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश पहुंचे प्रवासी कामगारों से मिली प्रतिक्रिया से यह समझ में आया कि सबसे ज्यादा ध्यान और महत्व उनके अधिकारों की रक्षा पर देने की जरूरत है। उन्होंने यह भी कहा कि सभी प्रवासी कामगारों का पंजीयन किया जा रहा है और उनके कौशल का लेखा-जोखा रखा जा रहा है।

आयोग के बारे में उन्होंने कहा कि प्रवासी कामगारों के अधिकारों से जुड़े कई कारकों को देखने के लिए यह प्रस्तावित है। उनका शोषण रोकना और उन्हें सामाजिक, आर्थिक तथा कानूनी मदद मुहैया करवाने के लिए आधिकारिक रूपरेखा प्रदान करना इसका काम होगा। उन्होंने कहा, ‘‘बीमा, सामाजिक सुरक्षा, पुन: रोजगार सहायता, बेरोजगारी भत्ते का प्रावधान आदि पर आयोग विचार करेगा।’’