माकपा ने 11 अप्रैल को हुये पहले चरण के मतदान में पश्चिम बंगाल और त्रिपुरा में भारी पैमाने पर गड़बड़ी होने का आरोप लगाते हुये चुनाव आयोग से 464 मतदान केन्द्रों पर पुनर्मतदान कराने की मांग की है। माकपा के महासचिव सीताराम येचुरी की अगुवाई में पार्टी नेताओं के प्रतिनिधिमंडल ने सोमवार को चुनाव आयोग को सौंपे प्रतिवेदन में यह मांग पेश की है।

मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा से मुलाकात के बाद येचुरी ने संवाददाताओं को बताया कि उन्होंने पश्चिम बंगाल और त्रिपुरा में मतदान के दौरान हुयी गड़बड़ी वाले मतदान केन्द्रों की सूची एवं अन्य तथ्यों की विस्तार से जानकारी दी है। इसमें उन्हें बताया गया कि त्रिपुरा की पश्चिमी त्रिपुरा सीट पर सर्वाधिक गड़बड़ी वाले 464 मतदान केन्द्रों पर फिर से मतदान कराने और अगले चरण में गड़बड़ी की आशंका वाली पूर्वी त्रिपुरा सीट सहित पश्चिम बंगाल की सीटों पर स्वतंत्र एवं निष्पक्ष मतदान संपन्न कराने की मांग की है।

प्रतिनिधिमंडल में माकपा पोलित ब्यूरो के सदस्य नीलोत्पल बसु और पश्चिमी त्रिपुरा सीट से पार्टी प्रत्याशी शंकर प्रसाद दत्ता भी शामिल थे। उन्होंने आयोग से दोनों राज्यों में चुनाव आचार संहिता का भी भारी पैमाने पर उल्लंघन किये जाने की शिकायत करते हुये आचार संहिता का पालन सुनिश्चित कराने की भी मांग की है।