BREAKING NEWS

Petrol-Diesel Price : नहीं थम रही महंगाई, पेट्रोल-डीजल के दामों में आज फिर हुई 35 पैसे की बढ़ोतरी◾दुनियाभर में जारी है कोरोना महामारी का कहर, संक्रमितों का आंकड़ा 24.19 करोड़ से अधिक ◾उत्तराखंड बारिश : रेस्क्यू ऑपरेशन अभी भी जारी, मरने वालों की संख्या बढ़कर 52 हुई◾हिरासत में मृत सफाई कर्मचारी के परिजनों से प्रियंका गांधी ने की मुलाकात◾नोएडा में लगे पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे, सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल; जान‍िए क्‍या है मामला◾J-K: शोपियां के बाद कुलगाम में भी 2 आतंकी ढेर, बिहार के दो मजदूरों की हत्या में थे शामिल◾चीन के बढ़ते दुस्साहस को मिलेगा करारा जवाब, भारतीय सेना ने अरूणाचल प्रदेश में LAC के पास तैनात किए बोफोर्स तोप ◾येदियुरप्पा की कर्नाटक BJP चीफ को सलाह, बोले- राहुल गांधी के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी करने से बचें ◾पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों पर PM मोदी की तेल कंपनियों के साथ बैठक, क्या कीमतों पर पड़ेगा असर?◾यूपी: कोरोना कर्फ्यू को किया गया समाप्त, सरकार ने कोविड-19 की स्थिति में सुधार के मद्देनजर लिया फैसला◾ पाकिस्तान के पीएम इमरान पर दूसरे देशों के प्रमुखों से मिले उपहार को बेचने का आरोप◾जीतन राम मांझी का बड़ा आरोप, बोले- फर्जी जाति के प्रमाणपत्र पर पांच सांसद लोकसभा के लिए चुने गए ◾पंजाब: डिप्टी CM रंधावा का अमरिंदर पर हमला, बोले- कैप्टन अवसरवादी है, जनता को धोखा दिया◾क्रूज ड्रग्स मामला: आर्यन खान की जमानत याचिका बॉम्बे हाईकोर्ट में दाखिल, क्या अब मिलेगी बेल? ◾अमरिंदर को भाजपा का खुला समर्थन, दुष्यंत गौतम बोले- राष्ट्र को सर्वोपरि रखने वालों के साथ गठबंधन को तैयार ◾SP-SBSP ने मिलाया हाथ, क्या योगी शासन के अंत की हो रही शुरुआत, राजभर बोले- अबकी बार BJP साफ ◾यूपी: सफाई कर्मी की पुलिस कस्टडी में हुई मौत, परिवार से मिलने आगरा जा रहीं प्रियंका को पुलिस ने लिया हिरासत में◾अखिलेश के तंज पर PM मोदी का पलटवार, कहा- ‘समाजवाद’ से ‘परिवारवाद’ के रास्ते पर उतर आई है सपा ◾आर्यन खान को लगा झटका, जमानत याचिका हुई खारिज, अब क्या करेंगे शाहरुख खान ?◾अभिधम्म दिवस पर बोले PM मोदी- तिरंगे पर जो ‘धम्म चक्र’ है, वह देश को आगे ले जाने की शक्ति है◾

गैर BJP शासित राज्यों के राज्यपालों को शिवसेना ने बताया 'दुष्ट हाथी', कहा- पैरों तले कुचल रहे हैं लोकतंत्र

शिवसेना ने बृहस्पतिवार को महाराष्ट्र सहित गैर भाजपा शासित राज्यों के राज्यपालों की तुलना ‘‘दुष्ट हाथी’’ से की और आरोप लगाया कि वे ‘‘अपने पैरों तले लोकतांत्रिक संविधान, कानून और राजनीतिक संस्कृति को कुचल रहे हैं।’’ महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी का नाम लिए बगैर पार्टी ने अपने मुखपत्र ‘सामना’ में यह आरोप भी लगाया कि केंद्र उन राज्यों की सरकारों को अस्थिर करने के लिए राज्यपालों का इस्तेमाल कर रहा है जहां भाजपा की सरकार नहीं है।

उल्लेखनीय है कि शिवसेना नीत महा विकास आघाडी (एमवीए) सरकार का राज्यपाल कोश्यारी के साथ असहज संबंध है। कोश्यारी अन्य मुद्दों के अलावा राज्य सरकार के कोटा से 12 विधान पार्षदों की नियुक्ति को मंजूरी देने में विलंब करने के मुद्दे पर भी प्रदेश सरकार के निशाने पर हैं। शिवसेना ने कहा, ‘‘गैर भाजपा शासित राज्यों के राज्यपाल दुष्ट हाथी की तरह हैं और उनके महावत नयी दिल्ली में बैठे हुए हैं। इस तरह के हाथी लोकतांत्रिक प्रक्रियाओं, कानूनों, राजनीतिक संस्कृति को अपने पैरों तले कुचल रहे हैं और नए मानक गढ़ रहे हैं।’’

संपादकीय में सवाल किया गया कि यह कितना उचित है कि राज्यपाल गैर भाजपा दलों की राज्य सरकारों को अस्थिर करने के लिए अपनी पूरी ताकत का इस्तेमाल कर रहे हैं। शिवसेना ने कहा कि इस तरह के प्रयास से देश की एकता प्रभावित हो रही है और यह आग से खेलने जैसा है। इसने कहा कि याद रखा जाना चाहिए कि इस तरह का काम करने से अपना ही हाथ जल जाता है और इस तरह के काम के लिए राज्यपाल के पद का इस्तेमाल किए जाने से संवैधानिक ढांचा ध्वस्त हो रहा है।

महंत नरेन्‍द्र गिरि की मौत के बाद कमरे का वीडियो आया सामने, जांच के लिए प्रयागराज पहुंची CBI