BREAKING NEWS

दिल्ली : आग की त्रासदी के बाद अस्पताल में भयावह दास्तां ◾दिल्ली अग्निकांड : दमकलकर्मी ने इमारत में फंसे 11 लोगों को बचाया ◾दिल्ली अग्निकांड : इमारत का पिछले हफ्ते हुआ था सर्वेक्षण, ऊपरी मंजिलों पर ताला लगा हुआ था - अधिकारिक सूत्र◾नागरिकता संशोधन विधेयक सोमवार को लोकसभा में पेश करेंगे शाह◾प्रियंका गांधी वाड्रा ने UP में त्वरित सुनवायी अदालत के गठन में देरी पर सवाल उठाया ◾भाजपा ने अपने सांसदों के लिए व्हिप किया जारी , 11 दिसंबर तक सदन में रहें मौजूद ◾तिरुवनंतपुरम टी-20 : शिवम के अर्धशतक पर भारी सिमंस की पारी, विंडीज ने की बराबरी◾मोदी ने पूर्वोत्तर राज्यों, जम्मू-कश्मीर व लद्दाख को सर्वोच्च प्राथमिकता दी : जितेंद्र सिंह ◾PM मोदी ने महिलाओं को सुरक्षित महसूस कराने में प्रभावी पुलिसिंग की भूमिका पर जोर दिया ◾भाजपा 2022 के मुंबई नगर निकाय चुनाव अकेले लड़ेगी ◾देश में आग की नौ बड़ी घटनाएं ◾भाजपा पर सवाल उठाने वाली कांग्रेस पहले 70 साल का हिसाब दे : स्मृति इरानी◾PM मोदी ने पुणे के अस्पताल में अरुण शौरी से मुलाकात की◾दिल्ली अनाज मंडी हादसा में फैक्ट्री मालिक हिरासत में◾TOP 20 NEWS 8 DEC : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾PM मोदी ने दक्षेस चार्टर दिवस पर सदस्य देशों के लोगों को दी बधाई ◾संसद में नागरिकता विधेयक का पारित होना गांधी के विचारों पर जिन्ना के विचारों की होगी जीत : शशि थरूर◾अनाज मंडी हादसे के लिए दिल्ली सरकार और MCD जिम्मेदार: सुभाष चोपड़ा◾दिल्ली आग: PM मोदी ने की मृतक के परिवारों के लिए 2 लाख रुपये मुआवजे की घोषणा◾दिल्ली आग: दिल्ली पुलिस ने फैक्ट्री मालिक के खिलाफ दर्ज किया मामला◾

अन्य राज्य

बीमा कंपनियों के खिलाफ शिवसेना का विरोध मार्च ‘नौटंकी’ है : वडेट्टीवार

 vijay

महाराष्ट्र विधानसभा में विपक्ष के नेता विजय वडेट्टीवार ने फसल बीमा कंपनियों के खिलाफ अगले सप्ताह विरोध मार्च निकालने की घोषणा करने के लिए शनिवार को शिवसेना की आलोचना की। वडेट्टीवार ने इसे विधानसभा चुनावों से पहले की ‘‘नौटंकी’’ बताते हुए कहा कि शिवसेना विपक्ष की भूमिका निभाने की कोशिश कर रही है जबकि वह राज्य में भाजपा के नेतृत्व वाले सत्तारूढ़ गठबंधन में शामिल है। 

उन्होंने एक बयान में कहा, ‘‘सरकार में होने के बावजूद शिवसेना विपक्ष की भूमिका क्यों निभाना चाहती है? शिवसेना के मंत्री मंत्रिमंडल बैठकों में चुप रहते हैं और फिर किसानों के मुद्दों को उठाने के लिए बाहर मोर्चा निकालने की बात करते हैं। यह कुछ नहीं महज नौटंकी है।’’ उन्होंने कहा कि सत्तारूढ़ पार्टी को जनहित के कामों को तेज करने की लिए आधिकारिक तंत्र को निर्देश देने की जरुरत है। 

न्यूनतम मजदूरी दर बढ़ाने की अपने ही परामर्श समूह की सिफारिश को सरकार नकार रही है : येचुरी

वडेट्टीवार ने कहा, ‘‘अगर कंपनियां शीघ्रता से फसल बीमा के दावों की पूर्ति नहीं कर रही है तो उनसे सरकार के स्तर प रनिपटा जा सकता है। लेकिन चूंकि शिवसेना यह नहीं कर सकती तो वह विरोध मोर्चा जैसे हथकंडे अपना रही है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘अगर शिवसेना को किसानों की फिक्र होती तो पार्टी सरकार से समर्थन वापस ले लेती।’’ शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने इस सप्ताह कहा था कि उनकी पार्टी किसानों के दावों का तेजी से निपटारा करने के लिए बीमा कंपनियों के खिलाफ 17 जुलाई को विरोध मार्च निकालेगी।