BREAKING NEWS

दिल्ली में हुई हिंसा में मारे गए IB अफसर अंकित शर्मा के परिजनों ने शहीद का दर्जा देने की मांग◾CAA को लेकर अमित शाह का ममता और कांग्रेस पर करारा वार - 'अरे इतना झूठ क्यों बोलते हो'◾निर्भया मामला : फांसी के सजा को उम्रकैद में बदलने के लिए दोषी पवन ने दी याचिका ◾कांग्रेस के अलावा 6 अन्य विपक्षी ने भी राष्ट्रपति कोविंद को लिखा पत्र, दिल्ली हिंसा के आरोपियों पर दर्ज हो FIR◾दिल्ली हिंसा : मरने वालों की संख्या बढ़कर हुई 41, पीड़ितों से मिलने पहुंचे LG अनिल बैजल ◾रविशंकर प्रसाद का कांग्रेस पर वार, बोले- राजधर्म का उपदेश न दें सोनिया◾प्रधानमंत्री मोदी के आगमन से पहले छावनी में तब्दील हुआ प्रयागराज, जानिये 'विश्व रिकार्ड' बनाने का पूरा कार्यक्रम ◾ ताहिर हुसैन के कारखाने में पहुंची दिल्ली फोरेंसिक टीम, जुटाए हिंसा से जुड़े सबूत◾जानिये कौन है IB अफसर की हत्या के आरोपी ताहिर हुसैन, 20 साल पहले अमरोहा से मजदूरी करने आया था दिल्ली ◾एसएन श्रीवास्तव नियुक्त किये गए दिल्ली के नए पुलिस कमिश्नर, कल संभालेंगे पदभार ◾जुमे की नमाज़ के बाद जामिया में मार्च , दिल्ली पुलिस के लिए चुनौती भरा दिन◾CAA को लेकर आज भुवनेश्वर में अमित शाह करेंगे जनसभा को सम्बोधित ◾CAA हिंसा : उत्तर-पूर्वी दिल्ली में अब हालात सामान्य, जुम्मे के मद्देनजर सुरक्षा का पुख्ता इंतजाम कायम◾CAA को लेकर BJP अध्यक्ष जेपी नड्डा बोले - कांग्रेस जो नहीं कर सकी, PM मोदी ने कर दिखाया◾Coronavirus : चीन में 44 और लोगों के मौत की पुष्टि, दक्षिण कोरिया में 2,000 से अधिक लोग पाए गए संक्रमित ◾भारत ने तुर्की को उसके आंतरिक मामलों पर टिप्पणी करने से बचने की सलाह दी◾राष्ट्रपति कोविंद 28 फरवरी से 2 मार्च तक झारखंड और छत्तीसगढ़ के दौरे पर रहेंगे◾संजय राउत ने BJP पर साधा निशाना , कहा - दिल्ली हिंसा में जल रही थी तो केंद्र सरकार क्या कर रही थी ?◾PM मोदी 29 फरवरी को बुंदेलखंड एक्स्प्रेस-वे की रखेंगे नींव◾दिल्ली हिंसा : SIT ने शुरू की जांच, मीडिया और चश्मदीदों से मांगे 7 दिन में सबूत◾

सिद्धरमैया ने किया दावा, कहा- येदियुरप्पा को मुख्यमंत्री बनाने में नहीं थी भाजपा की दिलचस्पी

कांग्रेस नेता और कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धरमैया ने सोमवार यानि आज एक दावा किया कि मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा एक ‘‘अवांछित बच्चे’’ की तरह हैं क्योंकि उनकी पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व की इसमें कोई दिलचस्पी नहीं थी कि वह इस शीर्ष पद पर आसीन हों। सिद्धरमैया ने आरोप लगाया कि येदियुरप्पा पीछे के दरवाजे से जनादेश के बिना सत्ता में आये हैं। 

सिद्धरमैया ने कहा, ‘‘वह पीछे के दरवाजे से जनादेश के बिना और लोकतंत्र के सिद्धांतों के खिलाफ सत्ता में आये। उनके पास जनादेश नहीं था क्योंकि सामान्य बहुमत के लिए जरूरी 113 विधायकों में से उनके पास मात्र 105 विधायक हैं।’’ उन्होंने यहां कांग्रेस कार्यालय में कहा कि यदि वह जनादेश के साथ मुख्यमंत्री बने होते तो पार्टी को कोई आपत्ति नहीं होती। 

पाक सीमा पर समुद्र में संदिग्ध बोट मिलीं, आतंकी हमले की आशंका

कांग्रेस नेता ने दावा किया, ‘‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के उलट येदियुरप्पा जनादेश के बिना मुख्यमंत्री बने हैं...मुझे नहीं पता कि वह कितने समय तक मुख्यमंत्री रहेंगे..येदयुरप्पा एक अवांछित बच्चे की तरह हैं, भाजपा की उन्हें मुख्यमंत्री बनाने में दिलचस्पी नहीं थी...।’’ सिद्धरमैया ने हाल में कई मौकों पर येदियुरप्पा सरकार के गिरने की भविष्यवाणी की है, जिससे कर्नाटक में मध्यावधि चुनाव होगा। 

कांग्रेस..जदएस सरकार गिरने के बाद येदियुरप्पा को 26 जुलाई को मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलायी गई थी और उसके बाद उन्होंने 29 जुलाई को विधानसभा में बहुमत साबित किया था। विश्वासमत के दौरान कांग्रेस...जदएस के 17 विधायकों के अनुपस्थित रहने के चलते एच डी कुमारस्वामी नीत गठबंधन सरकार गिर गई थी और उससे भाजपा के सत्ता में आने में मदद मिली थी। 

NRC की अंतिम सूची में कुछ त्रुटियां, सरकार को इन्हें दूर कर आगे बढ़ना चाहिए : RSS

कांग्रेस विधायक दल के नेता सिद्धरमैया ने येदियुरप्पा पर सत्ता में आने के बाद अधिकारियों के स्थानांतरण और बदले की राजनीति में लिप्त होने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा, ‘‘क्या उन्होंने कुछ और किया है? लोग बाढ़ से प्रभावित हैं, इसके बावजूद कोई उचित राहत उन्हें नहीं दी गई है।’’ सिद्धरमैया ने कहा कि जो ऐसी राजनीति कर रहे हैं लोग उन्हें एक सबक सिखाएंगे। सिद्धरमैया ने कहा कि वह पांच वर्ष तक मुख्यमंत्री रहे लेकिन कभी ऐसी चीजों में लिप्त नहीं हुए। 

उन्होंने कहा कि यद्यपि यदि कोई अनियमितता या भ्रष्टाचार है तो इसकी जांच होनी चाहिए और दोषियों को सजा होनी चाहिए। राज्य सरकार ने हाल में कृषि भाग्य योजना में 921 करोड़ रुपये की कथित अनियमितता की जांच का आदेश दिया है जब सिद्धरमैया मुख्यमंत्री थे। सिद्धरमैया ने भाजपा प्रदेश अध्यक्ष नलिन कुमार कतील पर भी निशाना साधा।

कतील ने कथित रूप से आरोप लगाया है कि कांग्रेस के वरिष्ठ नेता डी के शिवकुमार के खिलाफ मामले दर्ज होने के पीछे पूर्व मुख्यमंत्री हैं क्योंकि पार्टी में उनकी बढ़त उन्हें अच्छी नहीं लग रही थी। सिद्धरमैया ने कहा, ‘‘आयकर विभाग और प्रवर्तन निदेशालय किसके नियंत्रण में हैं?...राजनीतिक द्वेष के चलते ऐसे बयान दिये जा रहे हैं जिसका इरादा परेशानी उत्पन्न करना है। मुझे नहीं पता कि भाजपा ने ऐसे व्यक्ति को (प्रदेश) पार्टी अध्यक्ष क्यों बनाया जिसे मूलभूत ज्ञान या समझ नहीं है और जो देश और राज्यों की राजनीति नहीं जानता।’’ उन्होंने ईवीएम की जगह मतपत्र पर जोर दिया और कहा कि सभी दलों को इसके लिए संघर्ष करना होगा।