BREAKING NEWS

अनुभवहीनता और गलत नीतियों के कारण देश में आर्थिक मंदी - कमलनाथ◾वायुसेना प्रमुख ने अभिनंदन की शीघ्र रिहाई का श्रेय राष्ट्रीय नेतृत्व को दिया ◾न तो कोई भाषा थोपिए और न ही किसी भाषा का विरोध कीजिए : उपराष्ट्रपति का लोगों से अनुरोध◾अनुच्छेद 370 फैसला : केंद्र के कदम से श्रीनगर में आम आदमी दिल से खुश - केंद्रीय मंत्री◾TOP 20 NEWS 20 September : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾राहुल का प्रधानमंत्री पर तंज, कहा- ‘हाउडी मोदी’ कार्यक्रम ‘आर्थिक बदहाली’ को नहीं छिपा सकता◾रेप के अलावा चिन्मयानंद ने कबूले सभी आरोप, कहा-किए पर हूं शर्मिंदा◾डराने की सियासत का जरिया है NRC, यूपी में कार्रवाई की गई तो सबसे पहले योगी को छोड़ना पड़ेगा प्रदेश : अखिलेश यादव◾नीतीश कुमार ने विधानसभा चुनाव में NDA की बड़ी जीत का किया दावा, कहा- गठबंधन में दरार पैदा करने वालों का होगा बुरा हाल◾कॉरपोरेट कर में कटौती ‘ऐतिहासिक कदम’, मेक इन इंडिया में आयेगा उछाल, बढ़ेगा निवेश : PM मोदी◾PM मोदी और मंगोलियाई राष्ट्रपति ने उलनबटोर स्थित भगवान बुद्ध की मूर्ति का किया अनावरण◾कांग्रेस नेता ने कारपोरेट कर में कटौती का किया स्वागत, निवेश की स्थिति बेहतर होने पर जताया संदेह◾वित्त मंत्री की घोषणा से झूमा शेयर बाजार, सेंसेक्स 1900 अंक उछला◾पीड़िता की आत्मदाह की धमकी और जनता के दबाव में हुई चिन्मयानंद की गिरफ्तारी : प्रियंका गांधी ◾यौन शोषण के आरोप में 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजे गए चिन्मयानंद, 3 और गिरफ्तार◾सरकार ने घरेलू कंपनियों के लिए कॉरपोरेट कर की दर घटाकर की 25.17 प्रतिशत : वित्तमंत्री◾कश्मीर मुद्दे को उठाकर पाकिस्तान नीचे गिरेगा, तो हम ऊंचा उठेंगे : सैयद अकबरुद्दीन ◾शाहजहांपुर यौन शोषण केस में आरोपी स्वामी चिन्मयानंद गिरफ्तार◾अमेरिका : व्हाइट हाउस के नजदीक गोलीबारी में 1 की मौत, 5 घायल◾LIC का पैसा घाटे वाली कंपनियों में लगा रही है मोदी सरकार : प्रियंका गांधी ◾

अन्य राज्य

सिद्धरमैया ने किया दावा, कहा- येदियुरप्पा को मुख्यमंत्री बनाने में नहीं थी भाजपा की दिलचस्पी

कांग्रेस नेता और कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धरमैया ने सोमवार यानि आज एक दावा किया कि मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा एक ‘‘अवांछित बच्चे’’ की तरह हैं क्योंकि उनकी पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व की इसमें कोई दिलचस्पी नहीं थी कि वह इस शीर्ष पद पर आसीन हों। सिद्धरमैया ने आरोप लगाया कि येदियुरप्पा पीछे के दरवाजे से जनादेश के बिना सत्ता में आये हैं। 

सिद्धरमैया ने कहा, ‘‘वह पीछे के दरवाजे से जनादेश के बिना और लोकतंत्र के सिद्धांतों के खिलाफ सत्ता में आये। उनके पास जनादेश नहीं था क्योंकि सामान्य बहुमत के लिए जरूरी 113 विधायकों में से उनके पास मात्र 105 विधायक हैं।’’ उन्होंने यहां कांग्रेस कार्यालय में कहा कि यदि वह जनादेश के साथ मुख्यमंत्री बने होते तो पार्टी को कोई आपत्ति नहीं होती। 

पाक सीमा पर समुद्र में संदिग्ध बोट मिलीं, आतंकी हमले की आशंका

कांग्रेस नेता ने दावा किया, ‘‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के उलट येदियुरप्पा जनादेश के बिना मुख्यमंत्री बने हैं...मुझे नहीं पता कि वह कितने समय तक मुख्यमंत्री रहेंगे..येदयुरप्पा एक अवांछित बच्चे की तरह हैं, भाजपा की उन्हें मुख्यमंत्री बनाने में दिलचस्पी नहीं थी...।’’ सिद्धरमैया ने हाल में कई मौकों पर येदियुरप्पा सरकार के गिरने की भविष्यवाणी की है, जिससे कर्नाटक में मध्यावधि चुनाव होगा। 

कांग्रेस..जदएस सरकार गिरने के बाद येदियुरप्पा को 26 जुलाई को मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलायी गई थी और उसके बाद उन्होंने 29 जुलाई को विधानसभा में बहुमत साबित किया था। विश्वासमत के दौरान कांग्रेस...जदएस के 17 विधायकों के अनुपस्थित रहने के चलते एच डी कुमारस्वामी नीत गठबंधन सरकार गिर गई थी और उससे भाजपा के सत्ता में आने में मदद मिली थी। 

NRC की अंतिम सूची में कुछ त्रुटियां, सरकार को इन्हें दूर कर आगे बढ़ना चाहिए : RSS

कांग्रेस विधायक दल के नेता सिद्धरमैया ने येदियुरप्पा पर सत्ता में आने के बाद अधिकारियों के स्थानांतरण और बदले की राजनीति में लिप्त होने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा, ‘‘क्या उन्होंने कुछ और किया है? लोग बाढ़ से प्रभावित हैं, इसके बावजूद कोई उचित राहत उन्हें नहीं दी गई है।’’ सिद्धरमैया ने कहा कि जो ऐसी राजनीति कर रहे हैं लोग उन्हें एक सबक सिखाएंगे। सिद्धरमैया ने कहा कि वह पांच वर्ष तक मुख्यमंत्री रहे लेकिन कभी ऐसी चीजों में लिप्त नहीं हुए। 

उन्होंने कहा कि यद्यपि यदि कोई अनियमितता या भ्रष्टाचार है तो इसकी जांच होनी चाहिए और दोषियों को सजा होनी चाहिए। राज्य सरकार ने हाल में कृषि भाग्य योजना में 921 करोड़ रुपये की कथित अनियमितता की जांच का आदेश दिया है जब सिद्धरमैया मुख्यमंत्री थे। सिद्धरमैया ने भाजपा प्रदेश अध्यक्ष नलिन कुमार कतील पर भी निशाना साधा।

कतील ने कथित रूप से आरोप लगाया है कि कांग्रेस के वरिष्ठ नेता डी के शिवकुमार के खिलाफ मामले दर्ज होने के पीछे पूर्व मुख्यमंत्री हैं क्योंकि पार्टी में उनकी बढ़त उन्हें अच्छी नहीं लग रही थी। सिद्धरमैया ने कहा, ‘‘आयकर विभाग और प्रवर्तन निदेशालय किसके नियंत्रण में हैं?...राजनीतिक द्वेष के चलते ऐसे बयान दिये जा रहे हैं जिसका इरादा परेशानी उत्पन्न करना है। मुझे नहीं पता कि भाजपा ने ऐसे व्यक्ति को (प्रदेश) पार्टी अध्यक्ष क्यों बनाया जिसे मूलभूत ज्ञान या समझ नहीं है और जो देश और राज्यों की राजनीति नहीं जानता।’’ उन्होंने ईवीएम की जगह मतपत्र पर जोर दिया और कहा कि सभी दलों को इसके लिए संघर्ष करना होगा।