BREAKING NEWS

कोरोना संकट पर मोदी सरकार का बड़ा फैसला, नई योजनाओं पर मार्च 2021 तक लगी रोक◾गुजरात में कांग्रेस को तीसरा झटका, एक और विधायक ने दिया इस्तीफा◾दिल्ली मेट्रो में हुई कोरोना की एंट्री, 20 कर्मचारियों में संक्रमण की पुष्टि◾'विश्व पर्यावरण दिवस' पर PM मोदी का खास सन्देश, कहा- जैव विविधता को संरक्षित रखने का संकल्प दोहराएं◾उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ में ट्रक और स्कॉर्पियो की भीषण टक्कर, 9 लोगों की मौत◾World Corona : दुनिया में पॉजिटिव मामलों की संख्या 66 लाख के पार, अब तक करीब 4 लाख लोगों की मौत ◾कोविड-19 : देश में 10 हजार के करीब नए मरीजों की पुष्टि, संक्रमितों का आंकड़ा 2 लाख 27 हजार के करीब ◾Coronavirus : अमेरिका में संक्रमितों का आंकड़ा 19 लाख के करीब, अब तक एक लाख से अधिक लोगों की मौत ◾अदालती आदेश का अनुपालन नहीं करने पर CM केजरीवाल के खिलाफ कोर्ट में अवमानना याचिका दायर ◾महाराष्ट्र : निसर्ग तूफान पर मुख्यमंत्री ठाकरे ने की समीक्षा बैठक, दो दिन में नुकसान की रिपोर्ट पूरी करने के दिए निर्देश ◾वंदे भारत मिशन के शुरू होने से अबतक विदेश में फंसे 1.07 लाख से ज्यादा भारतीय स्वदेश वापस आए : विदेश मंत्रालय ◾दिल्ली : पटेल नगर से आप विधायक राजकुमार आनंद कोरोना पॉजिटिव, खुद को किया होम क्वारनटीन◾केंद्र सरकार ने जारी किया राज्यों का जीएसटी मुआवजा, दिए 36,400 करोड़ रुपये◾महाराष्ट्र में बीते 24 घंटे में कोरोना के 2,932 नए मामले, संक्रमितों का आंकड़ा 77 हजार के पार, अकेले मुंबई में 44 हजार से ज्यादा केस◾INX मीडिया मामले में पी चिदंबरम को बड़ी राहत, SC ने खारिज की जमानत पर सीबीआई की पुनर्विचार याचिका◾देशभर में कोरोना के 1,06,737 सक्रिय मामले, रिकवरी दर 47.99 फीसदी हुई : स्वास्थ्य मंत्रालय ◾फिल्ममेकर बासु चटर्जी के निधन पर राष्ट्रपति कोविंद और पीएम मोदी ने जताया शोक ◾ विजय माल्या का प्रत्यर्पण जल्द होने की संभावना कम, ब्रिटेन सरकार ने कानूनी मुद्दे का दिया हवाला ◾मोदी-मॉरिसन ऑनलाइन शिखर बैठक के बाद भारत, ऑस्ट्रेलिया ने महत्वपूर्ण रक्षा समझौते किये ◾केंद्र ने 2200 से अधिक विदेशी जमातियों को किया ब्लैक लिस्ट, 10 साल तक भारत यात्रा पर रहेगा बैन◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

एनआईटी मामले में राज्य सरकार को फटकार

नैनीताल : उत्तराखंड में राष्ट्रीय प्रौद्यागिकी संस्थान (एनआईटी) के गठन के मामले में राज्य और केन्द्र सरकार बेहद लचीला रवैया अपना रहे हैं। राष्ट्रीय महत्व के इस संस्थान के गठन के मामले में दोनों सरकारों में आपसी सामंजस्य की कमी नजर आ रही है। उच्च न्यायालय ने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए मंगलवार को राज्य सरकार को फटकार लगायी। अदालत ने इस मामले में केन्द्र और राज्य सरकार के साथ-साथ एनआईटी उत्तराखंड से सोमवार तक पुन: जवाब पेश करने को कहा है। सोमवार को इस मामले में फिर सुनवाई होगी। 

मुख्य न्यायाधीश रमेश रंगनाथन और न्यायमूर्ति आलोक कुमार वर्मा की युगलपीठ में याचिकाकर्ता जसबीरसिंह की जनहित याचिका पर सुनवाई हुई। याचिकाकर्ता अभिजय नेगी ने बताया कि एनआईटी के श्रीनगर स्थित अस्थायी कैम्पस को लेकर राज्य सरकार की ओर से एक रिपोर्ट अदालत में पेश की गयी। राज्य सरकार की ओर से अस्थायी कैम्पस की जर्जर व्यवस्थाओं को सुधारने के लिये 52 करोड़ और 72 करोड़ रुपये के दो प्रस्ताव सौंपे गये हैं लेकिन रिपोर्ट में समय सीमा को लेकर कोई उल्लेख नहीं किया गया है। 

इसलिये अदालत ने राज्य सरकार के रवैये पर नाराजगी व्यक्त की। राज्य सरकार की ओर से अदालत को यह भी बताया गया कि केन्द्र सरकार को भी रिपोर्ट भेज दी गयी है लेकिन केन्द्र सरकार के अधिवक्ता इस मामले में कोई उपयुक्त जवाब नहीं दे पाये। उन्होंने अदालत से समय की मांग की। श्री नेगी ने बताया कि एनआईटी उत्तराखंड की ओर से भी इस मामले में अपना रूख अभी तक स्पष्ट नहीं किया गया है।