BREAKING NEWS

CAA-NRC दोनों अलग, किसी को चिंता करने की जरूरत नहीं : उद्धव ठाकरे◾संजय सिंह का बड़ा बयान, बोले-अमित शाह के तहत बिगड़ रही है कानून और व्यवस्था की स्थिति ◾बिहार : प्रशांत किशोर बोले- नीतीश कुमार मेरे पिता के समान◾लापता नहीं हुआ आतंकी मसूद अजहर, कड़ी सुरक्षा के बीच परिवार के साथ पाक में ही छिपा बैठा है◾विदेश मंत्री जयशंकर ने यूरोपीय संघ के नेताओं से की मुलाकात, विभिन्न मुद्दों पर की बात◾कोरोना वायरस से चीन में 1,868 लोगों की मौत, लगातार बढ़ रही मरने वालों की संख्या ◾मुख्यमंत्री केजरीवाल बोले- दिल्ली में जल्द ही दूर होगी बसों की कमी◾स्मृति ईरानी ने राहुल गांधी को बोला-'बेगानी शादी में अब्दुल्ला दीवाना'◾केंद्र सरकार को कम से कम अब हमसे बात करनी चाहिए: शाहीन बाग प्रदर्शनकारी ◾केजरीवाल ने जल विभाग सत्येंन्द्र जैन को दिया, राय को मिला पर्यावरण विभाग ◾कश्मीर पर टिप्पणी करने वाली ब्रिटिश सांसद का भारत ने किया वीजा रद्द, दुबई लौटा दिया गया◾हर्षवर्धन ने वुहान से लाए गए भारतीयों से की मुलाकात, आईटीबीपी के शिविर से 200 लोगों को मिली छुट्टी ◾ जामिया प्रदर्शन: अदालत ने शरजील इमाम को एक दिन की पुलिस हिरासत में भेजा ◾दिल्ली सरकार होली के बाद अपना बजट पेश करेगी : सिसोदिया ◾झारखंड विकास मोर्चा का भाजपा में विलय मरांडी का पुनः गृह प्रवेश : अमित शाह ◾दोषियों के खिलाफ नए डेथ वारंट पर निर्भया की मां ने कहा - उम्मीद है आदेश का पालन होगा ◾सीएए के खिलाफ विरोध प्रदर्शन राजनीतिक दुर्भावना से प्रेरित : रविशंकर प्रसाद ◾शाहीन बाग पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा - प्रदर्शन करने का हक़ है पर दूसरों के लिए परेशानी पैदा करके नहीं ◾निर्भया मामले में कोर्ट ने जारी किया नया डेथ वारंट , 3 मार्च को दी जाएगी फांसी◾महिला सैन्य अधिकारियों पर कोर्ट का फैसला केंद्र सरकार को करारा जवाब : प्रियंका गांधी वाड्रा◾

असम में इंटरनेट बंद रहने से छात्र परीक्षा के लिए आवेदन करने से चूके

गुवाहाटी विश्वविद्यालय में स्नातक के छात्र रूप ज्योति सरमा को प्रतियोगी परीक्षा के लिए आवेदन करना था लेकिन शहर में इंटरनेट बंद रहने के कारण वह अंतिम तिथि को भी आवेदन नहीं कर पाए। गणेशगुरी इलाके में किराए के मकान में रह रहे 24 वर्षीय सरमा पास के बारपेटा जिले के रहने वाले हैं और ऐसी परीक्षाओं की तैयारी के लिए उन्हें ऑनलाइन ट्यूटोरियल पर निर्भर रहना पड़ता है। 

उन्होंने अफसोस जाहिर करते हुए कहा, "इंटरनेट पर पाबंदी के दौरान हम छात्रों को काफी मुश्किल का सामना करना पड़ा।" उन्होंने बताया, "मुझे एक परीक्षा के लिए आवेदन करना था लेकिन मैं अंतिम दिन भी आवेदन करने से चूक गया।" सरमा बृहस्पतिवार को एईआई मैदान में प्रदर्शन कर रहे युवाओं के समूह में शामिल थे जहां ऑल असम स्टूडेंट्स यूनियन के नेता एवं कलाकारों ने 11 दिसंबर को असम में लागू इंटरनेट पाबंदी की निंदा की थी।  

असम में मोबाइल इंटरनेट सेवा शुक्रवार सुबह बहाल हो गई। इंटरनेट बंद को चुनौती देते हुए गुवाहाटी उच्च न्यायालय में जनहित याचिकाएं दायर की गई थीं। अधिकारियों ने बताया कि विवादित नागरिकता संशोधन अधिनियम के विरोध में हिंसक प्रदर्शनों के मद्देनजर कानून व्यवस्था बनाए रखने और अफवाहों को फैलने से रोकने के लिए इंटरनेट पर पाबंदी लगाई गई थी। पाबंदी के कारण कई लोगों को इलेक्ट्रोनिक रूप से पैसे के हस्तांतरण में परेशानी आई। 

नागरिकता कानून: असम में स्थिति शांतिपूर्ण, डिब्रूगढ़ में कर्फ्यू में ढील

सरमा ने कहा कि उनके माता पिता ने इंटरनेट बंद होने से पहले ही उन्हें पैसे भेज दिए थे लेकिन उनके अधिकतर दोस्त इस मामले में खुशकिस्मत नहीं रहे। उन्होंने बताया, "मेरे दोस्तों को गुवाहाटी से अपने-अपने घर जाना पड़ा क्योंकि उनके पास पैसे कम पड़ गए थे और एटीएम में भी पैसे नहीं थे।" 

इंटरनेट पाबंदी और कर्फ्यू का सिर्फ शिक्षा पर ही असर नहीं पड़ा बल्कि ऑनलाइन कैब सेवा की गैरमौजूदगी में लोगों को आने-जाने के लिए ऑटो रिक्शा चालकों को अधिक पैसे देने पड़े। मंगलवार को कर्फ्यू हटा लिया गया। गुवाहाटी कॉलेज के छात्र 19 वर्षीय ध्रुवज्योति बर्मन ने कहा, "गुवाहाटी में ऑटोरिक्शा महंगी सेवा है। इंटरनेट पाबंदी के दौरान उन्होंने कैब से भी अधिक कीमत वसूली। इन ड्राइवरों को भी कर्फ्यू जैसी स्थिति में हमारी ही तरह मुश्किल का सामना करना पड़ा।" 

बर्मन ने मजाकिया अंदाज में कहा, इंटरनेट पाबंदी कई माता-पिता के लिए राहत लेकर आई क्योंकि काफी तादाद में छात्रों को ऑनलाइन गेम्स जैसे कि पबजी और टिकटॉक जैसे सोशल मीडिया की लत होती है। चिन्मय डेका के लिए इंटरनेट नहीं होने का मतलब "सुकून भरी नींद" लेना है।