BREAKING NEWS

दिल्ली उच्च न्यायालय ने कालकाजी मंदिर से अतिक्रमण व अनधिकृत कब्जा हटाने का आदेश दिया◾योगी सरकार के नए मंत्रियों के विभागों का हुआ बंटवारा, जितिन को मिली प्राविधिक शिक्षा की जिम्मेदारी◾उत्तर प्रदेश : मुख्यमंत्री ने नवनियुक्त मंत्रियों को बांटे विभाग◾DRDO को मिली सफलता ‘आकाश प्राइम’ मिसाइल का किया सफल परीक्षण◾BSP के राष्ट्रीय महासचिव कुशवाहा ने की अखिलेश से मुलाकात, UP चुनाव से पहले थाम सकते है SP का दामन◾UNGA की आम चर्चा को संबोधित नहीं करेंगे अफगानिस्तान और म्यामां: संयुक्त राष्ट्र ◾वित्तीय संकट के चलते अभिभावकों का CBSE को लिखा पत्र, तीन लाख छात्रों की फीस माफ करने की मांग ◾भवानीपुर में दिलीप घोष से धक्का-मुक्की पर चुनाव आयोग सख्त, ममता सरकार से रिपोर्ट मांगी ◾भारत बंद के आह्वान को अभूतपूर्व और ऐतिहासिक प्रतिक्रिया मिली : संयुक्त किसान मोर्चा ◾गरीबों को किराया देने की घोषणा पर केजरीवाल सरकार का यू-टर्न, HC में कहा - वादा नहीं किया था ◾खत्म हुआ किसानों का भारत बंद, 10 घंटे बाद खुले दिल्ली-एनसीआर के सभी बॉर्डर ◾महंत नरेंद्र गिरि मौत मामला : 7 दिन की सीबीआई रिमांड में भेजे गए आनंद गिरी व दो अन्य ◾महिलाओं के बाद अब पुरुषों के लिए तालिबान का फरमान- दाढ़ी बनाना और ट्रिम करना गुनाह, लगाई रोक ◾नए संसद भवन का दौरा करने पर कांग्रेस ने मोदी को घेरा, कहा- काश! PM कोरोना की दूसरी लहर के दौरान किसी अस्पताल जाते ◾भवानीपुर उपचुनाव प्रचार के आखिरी दिन लहराईं बंदूकें, BJP का आरोप- TMC ने दिलीप घोष पर किया हमला ◾किसानों के 'भारत बंद' को लेकर देश में दिखी मिलीजुली प्रतिक्रिया, जानिए किन हिस्सों में जनजीवन हुआ बाधित ◾CM बिप्लब देब का विवादित बयान, बोले- अदालत की अवमानना से न डरें अधिकारी, पुलिस मेरे नियंत्रण में है◾पाकिस्तान: ग्वादर में जिन्ना की प्रतिमा को बम से उड़ाया, बलोच ने ली हमले की जिम्मेदारी ◾भारत बंद के दौरान सिंघू बॉर्डर पर किसान की हुई मौत, पुलिस ने हार्ट अटैक को बताई वजह ◾टिकैत ने सरकार पर लगाया धोखाधड़ी का आरोप, कहा- किसानों की बात सुनने के लिए मजबूर करेगा भारत बंद◾

सुवेंदु अधिकारी ने केंद्र सरकार को लिखी चिट्ठी, वैक्सीन फर्जीवाड़े की जांच केंद्रीय एजेंसियों से कराने की मांग

पश्चिम बंगाल विधानसभा में विपक्ष के नेता सुवेंदु अधिकारी ने कोलकाता के वैक्सीन फर्जीवाड़ा मामले पर केंद्र को चिट्ठी लिखकर इसकी जांच केंद्रीय एजेंसियों से कराए जाने की मांग की है। 

अधिकारी ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन को पत्र लिखकर कहा है कि टीएमसी सरकार के कार्यक्रमों की विशेषता वाले ट्रेडमार्क नीले और सफेद गुब्बारों से सजाए गए ये शिविर पहले ही एमहस्र्ट स्ट्रीट, सोनारपुर में आयोजित किए जा चुके हैं और इन शिविरों में सैकड़ों लोगों को पहले ही टीका लग चुका है। इसमें उन्होंने आगे लिखा, "जबकि कस्बा में वैक्सीन लेने वालों से आधार कार्ड की प्रतियां प्राप्त की गई थी, लेकिन इनमें से किसी को भी टीकाकरण का कोई प्रमाण पत्र नहीं मिला है। ये सब पुलिस और नागरिक अधिकारियों सहित स्थानीय प्रशासन की निगरानी में हुआ है।"

उन्होंने आगे लिखा, "कोलकाता नगर निगम के संयुक्त आयुक्त के रूप में कार्यरत देबांजन देब नामक एक व्यक्ति अपना परिचय एक आईएएस अधिकारी के रूप में देते हुए केएमसी के बैनर तले कोलकाता के केंद्र में स्थित कस्बा के वार्ड नंबर 107 में अवैध टीकाकरण शिविर को आयोजित कराया है।"अधिकारी ने इस बात का भी उल्लेख किया है कि कई आपत्तिजनक तस्वीरें पश्चिम बंगाल की सत्ताधारी पार्टी में आरोपी के प्रभाव का वर्णन करती है, जो पुलिस की जांच के दौरान सामने आई हैं। 

अधिकारी ने कहा, "कोलकाता के मेयर फिरहाद हकीम, पश्चिम बंगाल सरकार के मंत्री सुब्रत मुखर्जी, टीएमसी सांसद शांतनु सेन, टीएमसी विधायक देबाशीष कुमार और लवली मैत्रा, केएमसी पार्षद बैस्वानोर चटर्जी और अन्य प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से देबंजन देब की गतिविधियों का समर्थन करते हुए दिखाई दे रहे हैं।"अधिकारी ने आरोप लगाया है कि आरोपी को पहले पश्चिम बंगाल सरकार की फाइलों के साथ पोज देते या केएमसी के वार्ड 66 में पश्चिम बंगाल सरकार के दुआरे सरकार शिविरों की मेजबानी करते देखा गया है। 

कोलकाता पुलिस की जांच पर संदेह जताते हुए अधिकारी ने कहा, "ऐसी स्थिति में जब सत्तारूढ़ दल के कई प्रभावशाली नेताओं और सरकारी प्रतिनिधियों को आरोपी के करीब देखा जा रहा है, हमें कोलकाता पुलिस की निष्पक्ष जांच के बारे में गंभीर संदेह है, जो उस एक ही सरकार के निदेशरें का पालन करती है।"

उन्होंने अंत में यह लिखा, "मैं ईमानदारी से आपसे इस टीकाकरण धोखाधड़ी पर केंद्रीय एजेंसियों द्वारा गहन जांच का आदेश देने और दोषियों को दंडित करने का अनुरोध करता हूं। राज्य की सत्ताधारी पार्टी या सरकार के किसी भी दबाव के बिना केंद्रीय एजेंसियों द्वारा निष्पक्ष जांच पश्चिम बंगाल में संपूर्ण कोविड टीकाकरण प्रक्रिया की विश्वसनीयता बहाल करने के लिए समय की आवश्यकता है।"