BREAKING NEWS

अयोध्या पहुंचे शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे, 18 सांसदों के साथ करेंगे रामलला के दर्शन◾आज फिर घटे डीजल और पेट्रोल के दाम, जाने अपने राज्य का भाव !◾ICC World Cup 2019 : भारत-पाक मैच को लेकर सट्टा बाजार 100 करोड़ के पार ◾नीति आयोग की बैठक में केजरीवाल ने उठाया दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा देने का मुद्दा ◾ममता की अपील के बावजूद डॉक्टरों की हड़ताल जारी◾अखाड़ा परिषद ने अयोध्या में भव्य राम मंदिर बनाने की फिर से की मांग◾राज्यसभा की 6 सीटों के लिये 5 जुलाई को होगा उपचुनाव ◾Modi सरकार कृषि क्षेत्र में ढांचागत सुधार के लिए गठित करेगी उच्च स्तरीय कार्यबल◾सिख श्रद्धालुओं का पाक दौरा : रेलवे ने कहा, अटारी में पाकिस्तानी ट्रेन के लिये इजाजत नहीं ◾ममता ने फिर की बंगाल के डॉक्टरों से हड़ताल समाप्त करने की अपील ◾भाजपा ने अखिलेश पर साधा निशाना, कहा- योगी से शासन की सीख लें◾TOP 20 News -15 June : आज की 20 सबसे बड़ी ख़बरें ◾एक्यूट इंसेफलाइटिस सिंड्रोम से अब तक 83 बच्चें की मौत ◾ममता, चंद्रशेखर राव और अमरिंदर सिंह नहीं लेंगे नीति आयोग की बैठक में हिस्सा ◾केरल के मुख्यमंत्री ने मोदी से की मुलाकात, तिरुवनंतपुरम हवाईअड्डे के निजीकरण का उठाया मुद्दा ◾हिंसा से चिकित्सकों को बचाने के लिए विशेष कानून लाने पर विचार किया जाए : हर्षवर्द्धन ◾राज्यों के संयुक्त प्रयास से 2024 तक 5,000 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनेगा भारत : PM मोदी ◾केंद्र ने राजनीतिक हिंसा और डॉक्टरों की हड़ताल पर बंगाल सरकार से मांगी अलग-अलग रिपोर्ट◾अपने दूसरे कार्यकाल में पहली बार 30 जून को PM मोदी करेंगे ‘मन की बात’, मांगे सुझाव◾नक्सलवाद से नए सिरे से निपटने के लिए बनाई जाए नीति : कांग्रेस◾

अन्य राज्य

त्रिपुरा सरकार उग्रवादियों के खिलाफ कायम 322 मामले वापस लेगी

त्रिपुरा की भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की सरकार ने आत्मसमर्पण कर चुके उग्रवादियों के 322 मामले वापस लेने का फैसला किया है। आत्मसमर्पण करने वाले 249 उग्रवादियों पर 322 मामले दर्ज हैं जिन्हें वापस लेने की याचिका गृह मंत्रालय ने न्यायालय में दाखिल की है। एक अधिकारी के अनुसार आत्मसमर्पण कर चुके उग्रवादियों पर राज्य के अलग-अलग जिलों में कई मामले दर्ज थे, जिनमें गोमती जिले के 49 उग्रवादियों पर 57 मामले और खोवाई जिले के 58 उग्रवादियों पर 74 मामले दर्ज थे।

इसी तरह धलाई जिले में आत्मसमर्पण कर चुके उग्रवादियों पर 73 मामले दर्ज थे। उन्होंने कहा कि अभियोग पक्ष की ओर से आपराधिक प्रक्रिया संहिता (सीआरपीसी) की धारा 321 के तहत इन मामलों को वापस लेने का फैसला किया गया है, यह फैसला समुदायों और लोगों के बीच शांति स्थापित करने और अच्छे संबंध बनाने के इरादे से लिया गया है। महिलाओं के खिलाफ किये गये आपराधिक मामले को हालांकि वापस लेने संबधी याचिका इस सूची में शामिल नहीं है।