त्रिपुरा की भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की सरकार ने आत्मसमर्पण कर चुके उग्रवादियों के 322 मामले वापस लेने का फैसला किया है। आत्मसमर्पण करने वाले 249 उग्रवादियों पर 322 मामले दर्ज हैं जिन्हें वापस लेने की याचिका गृह मंत्रालय ने न्यायालय में दाखिल की है। एक अधिकारी के अनुसार आत्मसमर्पण कर चुके उग्रवादियों पर राज्य के अलग-अलग जिलों में कई मामले दर्ज थे, जिनमें गोमती जिले के 49 उग्रवादियों पर 57 मामले और खोवाई जिले के 58 उग्रवादियों पर 74 मामले दर्ज थे।

इसी तरह धलाई जिले में आत्मसमर्पण कर चुके उग्रवादियों पर 73 मामले दर्ज थे। उन्होंने कहा कि अभियोग पक्ष की ओर से आपराधिक प्रक्रिया संहिता (सीआरपीसी) की धारा 321 के तहत इन मामलों को वापस लेने का फैसला किया गया है, यह फैसला समुदायों और लोगों के बीच शांति स्थापित करने और अच्छे संबंध बनाने के इरादे से लिया गया है। महिलाओं के खिलाफ किये गये आपराधिक मामले को हालांकि वापस लेने संबधी याचिका इस सूची में शामिल नहीं है।