BREAKING NEWS

बापू की तुलना राखी सांवत से करने पर विवादों में घिरे UP विधानसभा अध्यक्ष, देर रात ट्वीट कर देनी पड़ी सफाई ◾विश्व में कोरोना के मामलों का आंकड़ा 22.84 करोड़ से अधिक, अबतक 46.9 लाख से ज्यादा लोगों की हुई मौत◾तालिबान ने फिर से जारी किया नया फरमान, महिला कर्मचारियों को घर पर ही रहने का दिया आदेश ◾पंजाब : चरणजीत सिंह चन्नी आज लेंगे मुख्यमंत्री पद की शपथ, कई नेता समारोह में होंगे शामिल ◾पंजाब में दलित मुख्यमंत्री बनाने के साथ कांग्रेस का लक्ष्य यूपी और उत्तराखंड◾सऊदी विदेश मंत्री के साथ अफगानिस्तान पर विचारों का ‘बहुत उपयोगी’ आदान प्रदान हुआ - जयशंकर◾BJP ने चन्नी को पंजाब का मुख्यमंत्री चुनने पर कांग्रेस पर निशाना साधा◾कांग्रेस नेताओं को पंजाब की उथल-पुथल के अन्य जगहों पर भी असर होने की आशंका◾RSS चीफ ने प्रशासन में संघ के हस्तक्षेप के आरोपों को किया खारिज ◾CSK vs MI : गायकवाड़ और गेंदबाजों ने सुपरकिंग्स को दिलाई जीत◾आईपीएल 2021 के बाद आरसीबी की कप्तानी छोड़ेंगे कोहली◾चरणजीत सिंह चन्नी को मुख्यमंत्री चुने जाने पर बीजेपी ने कांग्रेस पर तंज कसते हुए कहा- बहुत बढ़िया राहुल ◾चरणजीत सिंह चन्नी को राहुल और अमरिंदर ने दी बधाई, बोले- उम्मीद करता हूं कि पंजाब को सुरक्षित रख सकेंगे◾UP : सलमान खुर्शीद बोले- आगामी चुनाव में जनता नफरत और बंटवारे की राजनीति करने वालों को घर बिठाएगी◾पंजाब के राज्यपाल से मिले चरणजीत सिंह चन्नी, कल सुबह 11 बजे लेंगे मुख्यमंत्री पद की शपथ◾चरणजीत चन्नी होंगे पंजाब के नए मुख्यमंत्री, रंधावा ने हाईकमान के फैसले का किया स्वागत◾महबूबा मुफ्ती ने भाजपा पर साधा निशाना, कहा- वोट लेने के लिए पाकिस्तान का करती है इस्तेमाल ◾आतंकियों की नापाक साजिश होगी नाकाम, ड्रोन के लिए काल बनेगी ‘पंप एक्शन गन’! सरकार ने सुरक्षा बलों को दिए निर्देश◾TMC में शामिल होने के बाद बाबुल सुप्रियो ने रखी दिल की बात, बोले- जिंदगी ने मेरे लिए नया रास्ता खोल दिया है ◾सिद्धू पर लगे एंटीनेशनल के आरोपों पर BJP का सवाल, सोनिया और राहुल चुप क्यों हैं?◾

जबरन वसूली के आरोपों को उल्फा ने सिरे से नकारा, भारतीय सेना पर लगाया बड़ा आरोप

यूनाइटेड लिबरेशन फ्रंट ऑफ असम (उल्फा) ने सुरक्षा अधिकारियों के हवाले से मीडिया को दी गई रिपोटरें का खंडन किया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि पिछले महीने संघर्ष विराम की एकतरफा घोषणा के बावजूद उसके कार्यकर्ता बड़े पैमाने पर जबरन वसूली में लगे रहे। मंगलवार को उल्फा के प्रवक्ता लेफ्टिनेंट रुमेल असोम के एक बयान में कहा गया है, उल्फा की ओर से, मैं जबरन वसूली के लिए हम पर आरोप लगाने वाली मीडिया रिपोर्टों का जोरदार खंडन करता हूं।

चूंकि हमने इस साल 15 मई को एकतरफा युद्धविराम की घोषणा की थी, हमारी किसी भी इकाई ने व्यापारियों, नागरिकों या किसी और से कोई पैसा नहीं लिया है। इस आशय के सभी आरोप झूठे और दुर्भावनापूर्ण हैं। रुमेल असोम ने कहा, इस तरह की अफवाहें फैलाने के लिए भारतीय सेना और असम पुलिस जिम्मेदार हैं। 

हमारे नेतृत्व ने एकतरफा युद्धविराम की घोषणा की, क्योंकि वे शांति और विश्वास का माहौल बनाना चाहते थे। रुमेल असोम ने कहा, ऐसे माहौल के बिना, संघर्ष को सुलझाने के लिए कोई सार्थक चर्चा संभव नहीं होगी। लेकिन सेना और राज्य पुलिस का संघर्ष को जारी रखने में निहित स्वार्थ है, इसलिए वे अफवाहें फैला रहे हैं और भ्रम पैदा कर रहे हैं।

असोम ने कहा, सुरक्षा प्रतिष्ठान इस धारणा के तहत हो सकते हैं कि आर्थिक रूप से कमजोर उल्फा बातचीत के लिए बैठेगा और दिल्ली द्वारा उन्हें दी गई हर चीज को स्वीकार करेगा। उन्होंने कहा, उल्फा असम के हितों के साथ कभी सौदेबाजी नहीं करेगा। वह लड़ेगा लेकिन वह शांति को एक मौका देना चाहता था। इसे कमजोरी के रूप में नहीं पढ़ा जाना चाहिए। उन्होंने कहा, हम आर्थिक रूप से कमजोर हैं या नहीं, यह हमारे राजनीतिक रुख से कोई लेना-देना नहीं है।

उल्फा सुप्रीमो परेश बरुआ ने 15 मई को एकतरफा युद्धविराम की घोषणा की थी। सुरक्षा प्रतिष्ठान, सेना और असम पुलिस, दोनों ने प्रस्ताव के बारे में कुछ अधिकारियों के साथ आपत्ति व्यक्त करते हुए कहा कि विद्रोही समूह उल्फा रैंकों में मौतों, परित्याग और पतन के कारण एक कठिन स्थिति से बाहर निकलने की कोशिश कर रहा था। असम के एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा, उल्फा के कई वरिष्ठ नेताओं ने आत्मसमर्पण कर दिया है या मुठभेड़ों में मारे गए हैं। परेश बरुआ ने पहले भी ऐसी परिस्थितियों में शांति की बात कही है।