BREAKING NEWS

अखिलेश ने बीजेपी पर साधा निशाना - BJP से सावधान रहें, वोट की खातिर उसने कृषि कानून वापस लिए◾कांग्रेस का दावा - हम फिर से बनाएंगे सरकार◾बंगाल चुनाव बाद हिंसा: भाजपा कार्यकर्ता की मौत मामले में CBI ने सात लोगों को किया गिरफ्तार ◾दिल्ली कोविड : बीते 24 घंटों में आए 4,044 नए मामले, कल के मुकाबले कम हुई मौतें ◾वी.अनंत नागेश्वरन ने संभाला देश के नए मुख्य आर्थिक सलाहकार का पद, आम बजट से पहले केंद्र सरकार ने किया ऐलान◾मिसाइल आपूर्ति करने वाले देशों के प्रतिष्ठित क्लब में शामिल हुआ भारत, इस देश को देगा शक्तिशाली ब्रह्मोस ◾मुजफ्फरनगर: साझा प्रेस वार्ता में अखिलेश और जयंत चौधरी ने दिखाई अपनी ताकत, जानिए क्या बोले दोनों नेता◾केस दर्ज होने के बाद श्वेता तिवारी ने मांगी माफी, तोड़-मरोड़कर दिखाया जा रहा बयान, जानें पूरा मामला◾यूक्रेन मुद्दे पर बढ़ते तनाव के बीच रूस के विदेश मंत्री बोले- मास्को युद्ध शुरू नहीं करेगा ◾UP चुनाव: लखीमपुर, पीलीभीत BJP के लिए बने मुसीबत का सबब, पार्टी हो रही अंदरूनी मन-मुटाव का शिकार ◾कर्नाटक के पूर्व CM बीएस येदियुरप्पा की नातिन ने की आत्महत्या, पुलिस जांच में जुटी◾नवजोत सिंह सिद्धू की बहन ने पूर्व कांग्रेस प्रमुख को बताया 'क्रूर इंसान', कहा- पैसों की खातिर मां को छोड़ा...◾गोवा: विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस को लगा झटका, पूर्व CM प्रतापसिंह राणे ने इलेक्शन नहीं लड़ने का लिया फैसला◾यूपी : चुनाव प्रचार के लिए 31 जनवरी को अमित शाह देंगे आजम के गढ़ में दस्तक, घर-घर मांगेगे वोट ◾भय्यू महाराज खुदकुशी मामला: एक महिला समेत तीन सहयोगियों को 6 साल की सश्रम कारावास की सजा◾कोविड टीकाकरण : देश में एक करोड़ से अधिक लोगों को लगी एहतियाती खुराक, सरकार ने दी जानकारी ◾BJP ने SP की लिस्ट को बताया माफियाओं की सूची, कानून-व्यवस्था और विकास पर अखिलेश को दी चुनौती ◾दिल्ली : विवेक विहार गैंगरेप मामले में 9 महिलाओं समेत अब तक 11 गिरफ्तार◾खुलकर आई धनखड़ Vs TMC की लड़ाई, पार्टी लाएगी राज्यपाल के खिलाफ प्रस्ताव, अन्य दलों से मांगेगी सहयोग ◾यूपी: 'लाल टोपी वाले गुंडे' वाले बयान का सपा उठा रही चुनावी फायदा, कार्यकर्ताओं के लिए बना स्टेटस सिम्बल ◾

कर्नाटक : नेतृत्व बदलाव को लेकर चल रही अटकलों के बीच येदियुरप्पा ने मुख्यमंत्री पद से दिया इस्तीफा

पिछले कुछ समय से कर्नाटक की राजनीति में जारी उठापटक के बीच एक बार फिर सियासी हलचल तेज हुई है। कर्नाटक में नेतृत्व में बदलाव को लेकर चल रही अटकलों के बीच मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया।येदियुरप्पा ने भावुक होते हुए कहा कि दोपहर के भोज के बाद राज्यपाल को इस्तीफा सौपेंगे।

ये इस्तीफा तब हुआ है, जब आज ही कर्नाटक की बीजेपी सरकार को दो साल पूरे हुए हैं। अपने इस्तीफे का ऐलान करते हुए येदियुरप्पा ने कहा कि उन्हें कर्नाटक के लोगों के लिए काफी काम करना है। हम सभी को मेहनत के साथ काम करना चाहिए। उन्होंने कहा कि वह हमेशा अग्निपरीक्षा से गुजरे हैं।

येदियुरप्पा ने नम आंखों से यह घोषणा करते हुए कहा, मैं इस पद से इस्तीफा दे रहा हूं। मैं दोपहर के भोजन के बाद राज्यपाल थावरचंद गहलोत से मिल रहा हूं और अपना इस्तीफा सौंप रहा हूं। उन्होंने कहा, मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह को धन्यवाद देता हूं कि उन्होंने मुझे 75 साल की उम्र के बाद भी पद पर बने रहने दिया। मैं भविष्य में पार्टी निर्माण गतिविधियों में शामिल रहूंगा।

कर्नाटक में सत्ता परिवर्तन की उलटी गिनती नजदीक आने के साथ, भाजपा के शीर्ष नेता पार्टी के मौजूदा राष्ट्रीय महासचिव (संगठन) बी.एल. संतोष को कर्नाटक के मुख्यमंत्री बी.एस. येदियुरप्पा का उत्तराधिकारी माना जा रहा है। सत्तारूढ़ भाजपा का एक हिस्सा येदियुरप्पा को मुख्यमंत्री पद से हटाने की कोशिश कर रहा था।

बता दें कि इससे पहले उन्होंने कहा था कि ‘‘जब तक दिल्ली में आलाकमान को मुझ पर यकीन है तब तक मैं मुख्यमंत्री रहूंगा। जिस दिन वे कहेंगे कि वे मुझे नहीं चाहते तो मैं इस्तीफा दे दूंगा और राज्य के विकास के लिए दिन और रात काम करुंगा।’’ उन्होंने कहा, ‘‘मुझे कोई भ्रम नहीं है। उन्होंने (आलाकमान) मुझे एक अवसर दिया है, मैं अपनी क्षमताओं से बढ़कर कुछ अच्छा करने के लिए इस मौके का इस्तेमाल करने की कोशिश कर रहा हूं। बाकी आलाकमान पर है।’’

वहीं मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा ने रविवार को कहा कि वह इस पद पर बने रहेंगे या नहीं, कल तक पता चल जाएगा। कर्नाटक के सबसे प्रभावशाली लिंगायत नेता और राज्य में दो दशक से भाजपा का चेहरा रहे 78 वर्षीय येदियुरप्पा ने रविवार शाम को कहा कि उन्हें अब तक केंद्रीय नेतृत्व से ‘संदेश ’ नहीं मिला है कि इस पद पर बने रहना है या हटना है। उन्होंने भरोसा जताया कि सोमवार सुबह तक इस संबंध में जानकारी मिल सकती है।

सुरजेवाला समेत कई कांग्रेसी नेता हिरासत में, कहा- किसान विरोधी और पूंजीपतियों के हित में है तीनों कानून