BREAKING NEWS

Udaipur Murder Case: उदयपुर हत्याकांड के बाद अलर्ट पर यूपी पुलिस ◾Maharashtra News: हमारे पास 50 विधायकों का समर्थन......., एकनाथ शिंदे का बड़ा दावा◾ कन्हैयालाल की हत्या पर बोले औवेसी- घटना आतंकी कृत्य ◾उदयपुर में हत्या के मामले पर अनुराग ठाकुर बोले- गहलोत हमेशा अपनी जिम्मेदारी से बचते रहते है ◾Vice President Election: उपराष्ट्रपति चुनाव की रूपरेखा तैयार, 6 अगस्त को होगा मतदान, इस दिन भरा जाएगा नामांकन ◾ युवाओं को अग्निवीर बनने का चढ़ रहा जुनून, छह दिन में वायुसेना को प्राप्त हुए दो लाख से ज्यादा आवेदन ◾Kanhaiya Lal Murder: कन्हैया लाल का हुआ अंतिम संस्कार, उदयपुर हत्याकांड की जांच एनआईए को सौंपी गई ◾GST के दायरे में आएंगे खाद्य पदार्थ, राहुल बोले-PM का ‘गब्बर सिंह टैक्स’ बना ‘गृहस्थी सर्वनाश टैक्स’ ◾बिहार में ओवैसी को बड़ा झटका, AIMIM के चार विधायक RJD में शामिल ◾नवाब मलिक और अनिल देशमुख ने किया SC का रुख, शक्ति परीक्षण में भाग लेने की मांगी अनुमति◾मुकेश अंबानी को सुरक्षा देने के मामले में SC ने त्रिपुरा HC के फैसले पर लगाई रोक, जानिए क्या है मामला ◾कराह उठा हर कोई, राक्षस से ऊपर बढ़कर किया गया कन्हैयालाल का कत्ल, पोस्टमार्टम रिपोर्ट में बड़ा खुलासा ◾उदयपुर हत्याकांड को लेकर उमा भारती ने गहलोत सरकार को घेरा, प्रज्ञा बोली- कांग्रेस अभी भी जिंदा है देश शर्मिंदा है◾कन्हैयालाल मर्डर केस : राज्यवर्धन राठौर बोले-राजस्थान में कांग्रेस की नंपुसक सरकार◾ जीटीए चुनाव में तृणमूल कांग्रेस ने खोला खाता, एक सीट जीती , मतगणना जारी ◾'दोषियों को तुरंत ठोंक देना चाहिए', कन्हैयालाल की हत्या पर बोले प्रताप सिंह खाचरियावास◾असम में बाढ़ राहत कार्य के लिए शिवसेना के बागी विधायकों ने दिए 51 लाख रुपए, कल पेश करेंगे विश्वास मत ◾उदयपुर : NIA अपने हाथ में लेगी कन्हैया लाल हत्याकांड की जांच, गृह मंत्रालय का निर्देश◾उदयपुर हत्याकांड पर बोले CM गहलोत- यह कोई मामूली घटना नहीं, जांच के लिए गठित की SIT ◾नवीन कुमार जिंदल को मिली जान से मारने की धमकी, ईमेल में भेजा उदयपुर हत्याकांड का वीडियो◾

यस बैंक मामला : मुंबई में अनिल अंबानी ईडी के सामने पेश हुए

यस बैंक के संस्थापक राणा कपूर और अन्य के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग के मामले की जांच के संबंध में रिलायंस समूह के अध्यक्ष अनिल अंबानी आज प्रवर्तन निदेशालय के सामने पेश हुए। अनुमान है कि जांच एजेंसी धन शोधन निवारण अधिनियम (पीएमएलए) के तहत 60 वर्षीय अंबानी का बयान दर्ज करेगी। अंबानी सुबह करीब साढ़े नौ बजे ईडी के कार्यालय बल्लार्ड एस्टेट पहुंचे।

बताया जाता है कि अंबानी की नौ समूह कंपनियों ने यस बैंक से लगभग 12,800 करोड़ रुपये का ऋण लिया था, जिसकी कथित तौर पर वापसी नहीं हो रही है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने छह मार्च को एक में बताया था कि अनिल अंबानी, समूह, एस्सेल, आईएलएफएस, डीएचएफएल और वोडाफोन उन तनावग्रस्त कॉरपोरेट में हैं, जिन्हें यस बैंक ने कर्ज दिया था।

अंबानी को पहले सोमवार को पूछताछ के लिए बुलाया गया था, लेकिन उन्होंने व्यक्तिगत आधार पर उपस्थिति से छूट मांगी। ईडी ने फिर उन्हें 19 मार्च को पेश होने के लिए नया समन जारी किया। रिजर्व बैंक ने इस महीने की शुरुआत में यस बैंक पर रोक लगा दी थी और जमाकर्ताओं के लिए निकासी की 50,000 रुपये की सीमा तय की थी, जिसके बाद जांच एजेंसी ने कपूर, उनके परिवार और अन्य लोगों के खिलाफ कार्रवाई शुरू की है। ग्राहकों के लिए यस बैंक का सामान्य बैंकिंग परिचालन बुधवार को फिर से शुरू हो गया।

कोरोना वायरस का दुनिया भर में कहर जारी, अब तक गई 8,970 लोगों की जान

ईडी ने कपूर, उनके परिवार के सदस्यों और अन्य लोगों पर आरोप लगाया कि बैंक के माध्यम से दिए गए बड़े ऋण के बदले में उन्हें कथित रूप से लाभ मिला और ये ऋण बाद में गैर-निष्पादित आस्तियों (एनपीए) में बदल गए। रिलायंस समूह ने पिछले सप्ताह कहा था कि बैंक से लिया गया उसका कर्ज पूरी तरह सुरक्षित था और उसे सामान्य कारोबारी ढंग से लिया गया था। समूह ने एक बयान में कहा, ‘‘रिलायंस समूह यस बैंक लिमिटेड से ली गईं सभी उधारियों को अपनी परिसंपत्तियों की बिक्री के जरिए चुकाने के लिए प्रतिबद्ध है।’’

समूह ने कहा कि उसका ‘‘यस बैंक के पूर्व सीईओ राणा कपूर, या उनकी पत्नी या बेटियों, या राणा कपूर या उनके परिवार द्वारा नियंत्रित किसी भी संस्था से प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से संपर्क नहीं है।’’ इस बीच ईडी द्वारा पूछताछ के लिए बुलाए गए कुछ अन्य उद्योगपति तय तारीख पर नहीं पहुंचे। एस्सेल समूह के प्रवर्तक सुभाष चंद्रा बुधवार को एजेंसी के सामने यह कहते हुए पेश नहीं हुए कि संसद सत्र चल रहा है और जेट एयरवेज के संस्थापक नरेश गोयल एक परिवारिक सदस्य की बीमारी का हवाला देते हुए नहीं गए। चंद्रा संसद सदस्य हैं।

चंद्रा को जब इस सप्ताह समन मिला, तो उन्होंने कहा था कि वह जांच में सहयोग करेंगे। चंद्रा ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल के माध्यम से कहा, ‘‘एस्सेल ग्रुप ने कभी भी राणा कपूर या उनके परिवार के साथ या उनके द्वारा नियंत्रित किसी भी निजी संस्थाओं के साथ कोई लेनदेन नहीं किया है।’’ एस्सेल ग्रुप ने कथित रूप से यस बैंक के 8,400 करोड़ रुपये का ऋण नहीं चुकाया है, जबकि बताया जाता है कि जेट एयरवेज को 550 करोड़ रुपये चुकाने हैं।