BREAKING NEWS

हर घर तिरंगा अभियान पर खुशी की लहर, केजरीवाल बोले- जनता से ध्वज फहराने का किया आग्रह◾Rajasthan News : ग्रामीण महिलाओं के प्रशिक्षण के लिए ‘कंप्यूटर सखी’ की पहल शुरू◾Jammu -Kashmir News : सरकार ने हिज्बुल प्रमुख सैयद सलाहुद्दीन के बेटे सहित 4 कर्मचारियों को किया बर्खास्त◾उत्तर प्रदेश : 66 लाख महिलाओं को रोजगार मुहैया कराकर UP में अपने आधार को मजबूत करेगी योगी सरकार ◾ आजादी अमृत महोत्सव : RSS ने सोशल मीडिया अकाउंट पर प्रोफाइल तस्वीर भगवा झंडे को बदलकर राष्ट्रीय ध्वज कर दिया ◾ Bihar News : ‘महागठबंधन’ समन्वय समिति का गठन कर सकता है ताकि NDA जैसा न हो हाल◾अमेरिका : वेंटिलेटर पर मशहूर लेखक सलमान रुश्दी, न्यूयॉर्क में हुआ था जानलेवा हमला◾उत्तर प्रदेश: मिशन वन ट्रिलियन डॉलर हासिल करने के लिए शहरों को विकास केंद्रों के रूप में किया जाएगा विकसित ◾सीएम बिस्वा सरमा ने बॉलीवुड अभिनेता आमिर खान से की असम दौरा रद्द करने की अपील ◾ Himachal Pradesh : पुरानी पेंशन योजना की मांग को लेकर विधानसभा के बाहर कर्मचारी प्रदर्शन करेंगे ◾भारत में कोविड-19 के करीब 16 हजार नए मामले, 68 और मरीजों की मौत◾दिल्ली में शुक्रवार को कोरोना वायरस संक्रमण के सामने आए 2,136 नए मामले ◾आज का राशिफल (13 अगस्त 2022)◾लेखक सलमान रुश्दी पर अमेरिका के न्यूयॉर्क शहर में जानलेवा हमला◾यूपी ATS को मिली बड़ी कामयाबी, सहारनपुर से आंतकी को दबोचा, जानें पूरा मामला◾Education Minister: धर्मेन्द्र प्रधान युवाओं को लेकर बोले- अपने अधिकारों के बारे में रहना चाहिए जागरुक ◾Congress: राहुल गांधी बोले- चीन से तिरंगा आयात करने की वजह बताएं मोदी ◾GO FIRST फ्लाइट Emergency लैंडिंग, बेंगलुरु से मालदीव के लिए हुई थी रवाना, जानें स्थिति ◾Draupadi Murmu: मुख्यमंत्री पटनायक की पहल- राष्ट्रपति मुर्मू के गृह जिले में परियोजनाओं का उद्घाटन ◾सिसोदिया का केंद्र पर हमला, देश में दो तरह के मॉडल- एक दोस्ती मॉडल और दूसरा कल्याणकारी मॉडल◾

किसान आंदोलन को आज एक साल पूरा, सीएम चन्नी बोले- अन्नदाताओं का अहिंसक संघर्ष वीरता की अनूठी गाथा है

केंद्र के तीन नए कृषि कानूनों के विरोध में शुरू हुए किसान आंदोलन को एक साल पूरे होने के बाद पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने किसान आंदोलन के एक साल पूरे होने पर शुक्रवार को कहा कि केवल कठोर कृषि कानूनों को निरस्त करने के लिए ही नहीं, बल्कि लोकतंत्र एवं मानवाधिकारों के मूल्यों को बरकरार रखने के लिए किसानों का अहिंसक संघर्ष वीरता, संयम और प्रतिबद्धता की अनूठी गाथा है।

चन्नी ने कहा कि वह एक साल से दिल्ली की सीमाओं पर बैठे किसानों की अदम्य भावना को सलाम करते हैं। किसान पिछले एक साल से दिल्ली के सिंघु, टिकरी और गाजीपुर बॉर्डर पर डेरा डाले हुए हैं। तीन कृषि कानूनों के खिलाफ यह आंदोलन पिछले साल 26-27 नवंबर को ‘‘दिल्ली चलो’’ कार्यक्रम के साथ शुरू हुआ था। केंद्र ने तीनों कानूनों को निरस्त करने की हाल में घोषणा की है।

चन्नी का ट्वीट 

चन्नी ने ट्वीट किया, ‘‘केवल कठोर कानूनों को निरस्त करने के लिए ही नहीं, बल्कि लोकतंत्र एवं मानवाधिकारों के मूल्यों को बरकरार रखने के लिए उनका अहिंसक संघर्ष वीरता, संयम और प्रतिबद्धता की अनूठी गाथा है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘मैं मोदी सरकार द्वारा लागू किए गए काले कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली में पिछले साल इसी दिन से प्रदर्शन कर रहे किसानों की अदम्य भावना को सलाम करता हूं।’’

किसान नेताओं ने तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने के लिए केंद्रीय मंत्रिमंडल द्वारा बुधवार को एक विधेयक को मंजूरी दिए जाने को मात्र ‘‘औपचारिकता’’ करार देते हुए कहा है कि अब वे चाहते हैं कि सरकार उनकी अन्य लंबित मांगों, विशेषकर कृषि उपजों के ‘न्यूनतम समर्थन मूल्य’ (एमएसपी) की कानूनी गारंटी को पूरा करे।

नरेंद्र मोदी द्वारा कृषि कानून वापस लिए गए

उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने की घोषणा करने के कुछ दिनों के बाद कृषि कानून निरस्तीकरण विधेयक-2021 को मंजूरी दी गई है और अब इसे 29 नवंबर को शुरू हो रहे संसद सत्र के दौरान लोकसभा में पारित करने के लिए पेश किया जाएगा। प्रदर्शन कर रहे किसान संगठनों के साझा मंच ‘संयुक्त किसान मोर्चा’ (एसकेएम) की 27 नवंबर को सिंघु बॉर्डर पर बैठक होगी, जिसमें यह फैसला लिया जाएगा कि संगठनों को आगे क्या कदम उठाना है।