BREAKING NEWS

शीना बोरा मर्डर केस में इंद्राणी मुखर्जी हुई जेल से रिहा, जानें कैसे और क्यों कराई थी अपनी ही बेटी की हत्या ?◾गुजरात में चुनाव जीतने के लिए नरेश पटेल को उतार सकती है कांग्रेस, सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद होगा एलान ◾कांग्रेस का मोदी सरकार पर तीखा वार, कहा- चीन मसले पर देश को अंधेरे में न रखे केंद्र◾Maharashtra News: राज ठाकरे का ऐलान- नहीं करेंगे 5 जून को अयोध्या का दौरा, जानें- इसके पीछे की वजह◾ RR vs CSK: MS Dhoni ने टॉस जीतकर चुनी बल्लेबाजी, यहां देखें दोनों टीमों की प्लेइंगXI◾CM शिवराज चौहान बोले- आंगनवाड़ी के बच्चों के लिए मागूंगा खिलौने, जानें- क्यों कही ये बात◾ ज्ञानवापी की लड़ाई! वाराणसी कोर्ट में ही होगी सुनवाई, SC ने जिला जज को ट्रांसफर किया केस◾Delhi News: झंडेवालान साइकिल मार्केट में आग से मचा हाहाकार!10 दुकाने हुई खाक, दमकल की गाड़ियां मौके पर मौजूद◾डिजिटल हुई UP विधानसभा... नजारा देख अखिलेश के उड़े होश! बोले- आया तो लगा कोई IT सेंटर हो ◾ जेल चले गुरू......पटियाला कोर्ट में सिद्धू ने किया सरेंडर, 34 साल पुराने केस में हुई 1 साल की सजा◾स्टार प्रचारक थे पटेल... पार्टी ने दिया था हेलीकॉप्टर, कांग्रेस छोड़ने पर मेवानी ने कसा हार्दिक पर तंज ◾कन्नड भाषा का कनाडा में हुआ बोल-बाला, सांसद आर्य ने अपनी मातृ भाषा में दिया भाषण, वीडियों हुआ वायरल◾हिंदू पक्ष ने दाखिल किया लिखित जवाब, SC ने कहा- जिला न्यायाधीश ही सुने ज्ञानवापी मस्जिद का मामला ◾हैदराबाद एनकाउंटर को SC के जांच आयोग ने बताया फर्जी, तेलंगाना HC को सौंपा गया मामला ◾नड्डा बोले- जनता ने मोदी सरकार पर किया अटूट विश्वास, 5G की स्पीड से हुआ विकास, गहलोत पर भी साधा निशाना◾SC ने दिल्ली HC के फैसले से हटाई रोक, आवारा कुत्तों को खाना खिलाने के मामले में सुनाया यह फैसला ◾चीन को करारी भाषा में प्रतिक्रिया देना जरूरी, नरम नजरिए से नहीं चलेगा काम : राहुल◾ Flight Emergency Landing: यात्रियों की अटकी सांस! उड़ान भरते ही हवा में बंद हुआ विमान का इंजन◾कल से दो दिवसीय अरुणाचल प्रदेश के दौरे पर जाएंगे गृह मंत्री शाह, विकास परियोजनाओं का करेंगे उद्घाटन ◾ATM Cash Withdrawal : बदल गया ATM से कैश निकालने का तरीका, RBI ने लागू किया ये नियम ◾

किसान पराली से न केवल कमाई की आशा कर सकते हैं बल्कि हाइड्रोजन के उत्पादन में भी मदद कर सकते है

मानसून की वापसी की आधिकारिक तौर पर उलटी गिनती शुरू होने के साथ ही खराब वायु गुणवत्ता वाले दिनों की आशंका शुरू हो गई है। प्रदूषण का कारण बनने वाले कई स्रोतों में पंजाब और हरियाणा के किसानों द्वारा 'पराली' (पराली जलाना) है। अब, किसान इस कृषि-कचरे से न केवल कमाई करने की आशा कर सकते हैं, बल्कि हाइड्रोजन के उत्पादन में भी मदद कर सकते हैं। पुणे के शोधकर्ताओं ने कृषि अवशेषों से हाइड्रोजन के सीधे उत्पादन के लिए एक अनूठी तकनीक विकसित की है। 

 हाइड्रोजन ईंधन-सेल इलेक्ट्रिक वाहनों को बढ़ावा

यह नवाचार हाइड्रोजन उपलब्धता की चुनौती पर काबू पाकर पर्यावरण के अनुकूल हाइड्रोजन ईंधन-सेल इलेक्ट्रिक वाहनों को बढ़ावा दे सकता है। भारत ने अपने राष्ट्रीय स्तर पर निर्धारित योगदान (एनडीसी) के हिस्से के रूप में विश्व समुदाय से जिन कई कदमों का वादा किया है, उनमें से वैश्विक तापमान वृद्धि को प्रतिबंधित करने के लिए कार्बन उत्सर्जन को सीमित करने के लिए की जाने वाली कार्रवाई में भारत ने 2030 तक 450 गीगावाट अक्षय ऊर्जा का लक्ष्य निर्धारित किया है।

हर जगह शोधकर्ता अक्षय ऊर्जा समाधान की दिशा में काम कर रहे हैं, जो सीमित कार्बन पदचिह्न् के साथ टिकाऊ होना चाहिए। इसे प्राप्त करने के सबसे किफायती तरीकों में से एक सस्ते, प्रचुर मात्रा में और नवीकरणीय स्रोत से हाइड्रोजन का उत्पादन करना है। कृषि अपशिष्ट, जिसे निपटान के लिए एक बड़ी चुनौती का सामना करना पड़ता है, हाइड्रोजन उत्पादन के स्रोतों में से एक हो सकता है और यह ऊर्जा उत्पादन और अपशिष्ट निपटान की दोहरी समस्या को हल कर सकता है।

माइक्रोबियल कंसोर्टियम का उपयोग

भारत सरकार के विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग (डीएसटी) के एक स्वायत्त संस्थान, अघरकर अनुसंधान संस्थान (एआरआई), पुणे के शोधकर्ताओं की एक टीम ने केपीआईटी टेक्नोलॉजीज के सेंटिएंट लैब्स के सहयोग से प्रयोगशाला स्तर पर प्रौद्योगिकी विकसित की है। एआरआई के निदेशक डॉ प्रशांत ढाकेफलकर ने कहा, "हमारी तकनीक आज इस्तेमाल की जाने वाली पारंपरिक अवायवीय पाचन प्रक्रियाओं की तुलना में 25 प्रतिशत अधिक कुशल है। दो चरणों की प्रक्रिया बायोमास के पूर्व-उपचार को समाप्त करती है। इस प्रकार प्रक्रिया को किफायती और पर्यावरण के अनुकूल बनाती है। 

यह प्रक्रिया एक पाचन उत्पन्न करती है जो समृद्ध है पोषक तत्व, जिनका उपयोग जैविक उर्वरक के रूप में किया जा सकता है।" प्रौद्योगिकी के डेवलपर्स ने समझाया कि हाइड्रोजन ईंधन उत्पादन प्रक्रिया में एक विशेष रूप से विकसित माइक्रोबियल कंसोर्टियम का उपयोग शामिल है जो सेल्यूलोज के बायोडिग्रेडेशन की सुविधा प्रदान करता है और हेमिकेलुलोज-समृद्ध कृषि अवशेष, जैसे कि धान, गेहूं, या मक्का के बायोमास, बिना थर्मो-केमिकलया एंजाइमी पूर्व उपचार करना है। डेवलपर्स ने कहा, "प्रक्रिया पहले चरण में हाइड्रोजन और दूसरे में मीथेन उत्पन्न करती है। इस प्रक्रिया में उत्पन्न मीथेन का उपयोग अतिरिक्त हाइड्रोजन उत्पन्न करने के लिए भी किया जा सकता है।

अनुपयोगी कृषि अवशेषों से हाइड्रोजन पैदा

सेंटिएंट लैब्स के अध्यक्ष रवि पंडित ने कहा, "अनुपयोगी कृषि अवशेषों से हाइड्रोजन पैदा करने की यह सफलता हमें ऊर्जा संसाधनों पर आत्मनिर्भर बनने में मदद करेगी। इससे किसान समुदाय को राजस्व का एक बड़ा प्रवाह भी मिलेगा।"

विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय की ओर से गुरुवार को जारी एक विज्ञप्ति में कहा गया है कि वैज्ञानिकों, महाराष्ट्र एसोसिएशन फॉर कल्टीवेशन ऑफ साइंस (एमएसीएस-एआरआई) के डॉ एसएस डागर और प्रणव क्षीरसागर और केपीआईटी-सेंटिएंट के कौस्तुभ पाठक ने इस प्रक्रिया के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। साथ ही, आईपीआर की सुरक्षा के लिए एक भारतीय पेटेंट आवेदन दायर किया गया है।