BREAKING NEWS

खुशखबरी! दिल्ली में कोरोना पाबंदियों में मिली राहत, वीकेंड कर्फ्यू और ऑड-ईवन सिस्टम से मिला निजात ◾ मैं कोई चवन्नी नहीं, जो पलट जाऊं.....BJP के ऑफर पर जयंत चौधरी का जवाब◾उत्तराखंड : उपाध्याय ने कांग्रेस को दिया बड़ा झटका, 40 साल पुराना रिश्ता तोड़कर भाजपा में हुए शामिल◾सरकार की नीतियां देश पर पड़ रही भारी, मायावती बोलीं- युवाओं से ‘पकौड़े बिकवाने की सोच’ बदले BJP ◾ न्यायालय का BJP विधायक नितेश राणे को गिरफ्तारी से 10 दिन का संरक्षण, इस दौरान करना होगा समर्पण ◾अयोध्या की जगह मथुरा शिफ्ट हो रहा UP चुनाव का मुद्दा? बांके बिहारी की शरण में शाह, जानें पूरा कार्यक्रम ◾यूपी चुनाव : सीएम योगी ने 'सैफई महोत्सव' को लेकर SP पर साधा निशाना, ट्वीट कर कही यह बात ◾प्रमोशन में भगवान पर बयान देकर फंसी श्वेता, नरोत्तम मिश्रा ने दिए जांच के निर्देश, जानें क्या है पूरा मामला ◾दिल्ली : गैंगरेप के बाद महिला के साथ अभद्रता, काटे बाल, चेहरा काला कर इलाके में घुमाया◾UP चुनाव: प्रचार अभियान में कांग्रेस को क्यों होगी बुलेट प्रूफ जैकेट की जरूरत? मदद के लिए उन्नाव भेजी टीम ◾राहुल ने ट्विटर के CEO को लिखा पत्र, कहा- सरकार के दबाव में कार्य कर रही कंपनी, फॉलोअर्स किए कम ◾'टीपू सुल्तान स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स' को लेकर विवाद, राउत बोले-नया इतिहास मत लिखो◾उत्तराखंड चुनाव से पूर्व कांग्रेस को एक और बड़ा झटका! BJP में शामिल हुए पूर्व अध्यक्ष किशोर उपाध्याय ◾Today's Corona Update : नए मरीजों की संख्या से ज्यादा रिकवरी रेट, एक्टिव केस में भी दर्ज हुई गिरावट◾World Corona Update : नहीं थम रहा कोरोना संक्रमण का कहर, वैश्विक स्तर पर 36.18 करोड़ हुआ आंकड़ा ◾पंजाब चुनाव : राहुल प्रचार अभियान का फूंकने बिगुल, 117 उम्मीदवारों संग स्वर्ण मंदिर में टेकेंगे मत्था ◾UP विधानसभा चुनाव : प्रचार के लिए आज मैदान में उतरेंगे BJP के दिग्गज, घर-घर देंगे दस्तक◾उत्तराखंड : कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष किशोर उपाध्याय थाम सकते हैं BJP का दामन◾UP चुनाव : CM योगी आदित्यनाथ बृहस्पतिवार को बिजनौर में करेंगे जनसंपर्क◾उप्र चुनाव के लिए कांग्रेस ने तीसरी सूची में 89 और उम्मीदवार घोषित किए, महिलाओं को 40 प्रतिशत टिकट◾

किसान आंदोलन के समर्थन में अपने पुरस्कार लौटाने के लिये दिल्ली रवाना हुए पूर्व खिलाड़ी

पंजाब के कई पूर्व खिलाड़ी तीन कृषि सुधार कानूनों का विरोध कर रहे किसानों के समर्थन में अपने पुरस्कार लौटाने के लिये शनिवार को दिल्ली के लिये रवाना हो गए हैं। इनमें पद्मश्री तथा अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित पूर्व खिलाड़ी भी शामिल हैं। 

ये पूर्व खिलाड़ी शनिवार को दिल्ली के सिंघू बॉर्डर पहुंचकर प्रदर्शनकारी किसानों से मिलेंगे और रविवार को राष्ट्रपति को अपने पुरस्कार लौटाएंगें। पंजाब और हरियाणा के किसान हाल ही में लागू किये गए कृषि कानूनों को निरस्त करने की मांग कर रहे हैं। वे पिछले नौ दिन से दिल्ली की सीमाओं पर डटे हुए हैं। 

पद्मश्री तथा अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित पूर्व पहलवान करतार सिंह ने कहा, ''हम आज दिल्ली के लिये रवाना हो गए हैं और किसानों के प्रदर्शन में शामिल होंगे।'' उन्होंने कहा, ''स्वास्थ्य तथा अन्य कारणों के चलते हमारे साथ नहीं जा रहे सज्जन सिंह चीमा जैसे कई पूर्व खिलाड़ियों ने हमें अपने पुरस्कार दे दिये हैं।'' 

खेल से जुड़ी इन हस्तियों ने कहा कि उन्होंने पुरस्कार वापसी के लिये राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से समय मांगा है। पूर्व हॉकी खिलाड़ी राजबीर कौर ने कहा, ''यदि राष्ट्रपति से मिलने का समय नहीं दिया जाता है, तो हम रविवार को अपने पुरस्कार राष्ट्रपति भवन के बाहर रख आएंगे।'' 

पहले सरकार कृषि कानूनों को वापस लें, तब ही किसानों का आंदोलन समाप्त होगा : किसान सभा

दिल्ली के लिये रवाना हुए अन्य पूर्व खिलाड़ियों में ध्यानचंद पुरस्कार से सम्मानित हॉकी ओलंपियन गुरमेल सिंह, अर्जुन पुरस्कार विजेता कबड्डी खिलाड़ी हरदीप सिंह तथा अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित भारोत्तोलक तारा सिंह शामिल हैं। 

इससे पहले शुक्रवार को पूर्व राष्ट्रीय मुक्केबाजी कोच गुरबख्श सिंह संधू, पद्मश्री से सम्मानित मुक्केबाज कौर सिंह तथा अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित मुक्केबाज जयपाल सिंह ने अपने पुरस्कार लौटाने का ऐलान किया था। गुरबख्श सिंह संधू के कार्यकाल के दौरान भारत ने मुक्केबाजी में पहला ओलंपिक पदक जीता था। 

दरअसल, केन्द्र सरकार ने सितंबर में तीन कृषि कानूनों को मंजूरी दी थी। सरकार का कहना है कि इन कानूनों का मकसद बिचौलियों को खत्म करके किसानों को देश में कहीं भी अपनी फसल बेचने की अनुमति देकर कृषि क्षेत्र में ''सुधार'' लाना है। 

किसानों को चिंता है कि इन कानूनों से उनकी सुरक्षा कवच मानी जानी वाली न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) व्यवस्था और मंडियां खत्म हो जाएंगी। सरकार का कहना है कि एमएसपी जारी रहेगी और नए कानूनों से किसानों को अपनी फसल बेचने के और विकल्प उपलब्ध होंगे। 

सरकार और किसानों के बीच इस मुद्दे पर वार्ता जारी है। इस बीच किसानों ने आठ दिसंबर को भारत बंद का भी आह्वान किया है।