BREAKING NEWS

मोदी-शी की अनौपचारिक शिखर बैठक से पहले अगले महीने चीन का दौरा करेंगे जयशंकर ◾दीक्षित के बाद दिल्ली कांग्रेस के सामने नया नेता तलाशने की चुनौती ◾अन्य राजनेताओं से हटकर था शीला दीक्षित का व्यक्तित्व ◾जम्मू कश्मीर मुद्दे के अंतिम समाधान तक बना रहेगा अनुच्छेद 370 : फारुक अब्दुल्ला ◾दिल्ली की सूरत बदलने वाली शिल्पकार थीं शीला ◾शीला दीक्षित के आवास पहुंचे PM मोदी, उनके निधन पर जताया शोक ◾शीला दीक्षित कांग्रेस की प्रिय बेटी थीं : राहुल गांधी ◾जीवनी : पंजाब में जन्मी, दिल्ली से पढाई कर यूपी की बहू बनी शीला, फिर बनी दिल्ली की मुख्यमंत्री◾शीला दीक्षित ने दिल्ली एवं देश के विकास में दिया योगदान : प्रियंका◾शीला दीक्षित के निधन पर दिल्ली में 2 दिन का राजकीय शोक◾Top 20 News 20 July - आज की 20 सबसे बड़ी ख़बरें◾राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने शीला दीक्षित के निधन पर जताया दुख ◾दिल्ली की पूर्व सीएम शीला दीक्षित का निधन, PM मोदी सहित कई नेताओं ने जताया दुख◾दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित का 81 साल की उम्र में निधन◾लाशों पर राजनीति करना कांग्रेस की पुरानी परंपरा : स्वतंत्र देव सिंह◾प्रियंका की हिरासत पर पंजाब के CM अमरिंदर सिंह ने जताया विरोध◾सोनभद्र हत्याकांड : पीड़ित परिवार से मुलाकात के बाद प्रियंका गांधी ने खत्म किया धरना ◾हम हथकंडों से डरने वाले नहीं, दलितों और आदिवासियों के लिए लड़ाई जारी रहेगी : राहुल◾कांग्रेस ने योगी सरकार पर साधा निशाना, कहा - उप्र में ''जंगल राज'' सोनभद्र में हुई संस्थागत हत्याएं◾IMA पोंजी घोटाला : ईडी को मिली मंसूर खान की ट्रांजिट रिमांड◾

पंजाब

मुजफ्फरपुर में बच्चों की मौत पर जवाब दे सरकार : लक्ष्मीकांता चावला

भारतीय जनता पार्टी की वरिष्ठ नेता और पंजाब की पूर्व मंत्री लक्ष्मीकांता चावला ने आज कहा कि बिहार के मुजफ्फरपुर  जिले समेत कुछ अन्य जिलों में चमकी बुखार (एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम) से पीड़ित 100 से ज्यादा बच्चों की मौत पर सरकार को जवाब देना ही होगा। उन्होंने यहां जारी बयान में कहा कि बिहार सरकार बच्चों का इलाज तो करवा नहीं पाई और अब पीड़ितों के घावों पर नमक छिड़कते हुए उनके बच्चों की मौत का मुआवजा देना शुरू कर दिया है। 

उन्होंने कहा कि सरकार जानती है कि किसी की गोद सूनी होने का घर के दीपक बुझने का मुआवजा नहीं होता। लक्ष्मीकांता चावला ने कहा कि अगर सरकार मुआवजे के नाम पर दिए जाने वाले करोड़ रुपये बच्चों के इलाज पर खर्च करती, हवाई जहाज से उन्हें दिल्ली, पटना या अमेरिका तक भी ले जाती तब भी इतनी बड़ी रकम खर्च न होती और हो सकता था कि ये बच्चे बच जाते। 

उन्होंने यह भी कहा कि सरकार को यह भी जवाब देना होगा कि जब कोई बड़ मंत्री या नेता बीमार होता है तब उसे अमेरिका ही भेजा जाता है और इलाज के लिए एयरलिफ्ट भी करते हैं। इन बच्चों के इलाज के लिए सरकार ने गंभीरता क्यों नहीं दिखाई? 

लक्ष्मीकांता चावला ने कहा कि सवाल केंद, सरकार से भी है, जैसे ही बीमार से लाइलाज चमकी बुखार के कहर के समाचार मिले तो सरकार क्यों हरकत में नहीं आई? क्यों विशेषज्ञ डॉक्टरों की टीम बिहार नहीं भेजी गई? उन्होंने कहा कि बिहार सरकार यह याद रखे कि रोती चीखती माताओं का दर्द और बेबसी में मरते गरीब बच्चों की पुकार देश और बिहार सरकार को कभी चैन से सोने नहीं देगी।