BREAKING NEWS

अयोध्या पर AIMPLB की बैठक आज, इकबाल अंसारी करेंगे बहिष्कार◾झारखंड विधानसभा चुनाव: कांग्रेस ने रांची में भाजपा से मुकाबला करने के लिए झामुमो को किया आगे◾महा गतिरोध : सोनिया-पवार की मुलाकात अब सोमवार को होगी ◾शीतकालीन सत्र के बेहतर परिणामों वाला होने की उम्मीद : मोदी◾मुसलमानों को बाबरी मस्जिद के बदले कोई जमीन नहीं लेनी चाहिये - मुस्लिम पक्षकार◾GST रिटर्न दाखिल करने की प्रक्रिया को सरल बनाने को लेकर वित्त मंत्री ने की बैठकें ◾भारत ने अग्नि-2 बैलिस्टिक मिसाइल का किया सफल परीक्षण◾विपक्ष में बैठेंगे शिवसेना के सांसद ◾आसियान रक्षा मंत्रियों की बैठक में हिस्सा लेने बैंकाक पहुंचे रक्षा मंत्री राजनाथ◾किसानों की आवाज को कुचलना चाहती है भाजपा सरकार : अखिलेश◾उत्तरी कश्मीर में पांच संदिग्ध आतंकवादी गिरफ्तार ◾‘शिवसेना राजग की बैठक में भाग नहीं लेगी’ ◾TOP 20 NEWS 16 November : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾रामलीला मैदान में मोदी सरकार की ‘जनविरोधी नीतियों’ के खिलाफ विपक्ष करेगी बड़ी रैली ◾झारखंड विधानसभा चुनाव : भाजपा ने तीन उम्मीदवारों की चौथी सूची की जारी◾सबरीमला मंदिर के कपाट खुले, पुलिस ने 10 महिलाओं को वापस भेजा◾राफेल पर CM अरविंद केजरीवाल का प्रकाश जावड़ेकर को जवाब, ट्वीट कर कही ये बात ◾दिल्ली: राफेल डील में SC से क्लीन चिट के बाद AAP कार्यालय के पास भाजपा का प्रदर्शन◾नवाब मलिक ने फड़णवीस पर साधा निशाना, कहा- हार चुके सेनापति को अपनी हार स्वीकार करनी चाहिए◾गोवा में मिग 29 K लडाकू विमान दुर्घटनाग्रस्त, दोनों पायलट सुरक्षित◾

पंजाब

मुजफ्फरपुर में बच्चों की मौत पर जवाब दे सरकार : लक्ष्मीकांता चावला

भारतीय जनता पार्टी की वरिष्ठ नेता और पंजाब की पूर्व मंत्री लक्ष्मीकांता चावला ने आज कहा कि बिहार के मुजफ्फरपुर  जिले समेत कुछ अन्य जिलों में चमकी बुखार (एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम) से पीड़ित 100 से ज्यादा बच्चों की मौत पर सरकार को जवाब देना ही होगा। उन्होंने यहां जारी बयान में कहा कि बिहार सरकार बच्चों का इलाज तो करवा नहीं पाई और अब पीड़ितों के घावों पर नमक छिड़कते हुए उनके बच्चों की मौत का मुआवजा देना शुरू कर दिया है। 

उन्होंने कहा कि सरकार जानती है कि किसी की गोद सूनी होने का घर के दीपक बुझने का मुआवजा नहीं होता। लक्ष्मीकांता चावला ने कहा कि अगर सरकार मुआवजे के नाम पर दिए जाने वाले करोड़ रुपये बच्चों के इलाज पर खर्च करती, हवाई जहाज से उन्हें दिल्ली, पटना या अमेरिका तक भी ले जाती तब भी इतनी बड़ी रकम खर्च न होती और हो सकता था कि ये बच्चे बच जाते। 

उन्होंने यह भी कहा कि सरकार को यह भी जवाब देना होगा कि जब कोई बड़ मंत्री या नेता बीमार होता है तब उसे अमेरिका ही भेजा जाता है और इलाज के लिए एयरलिफ्ट भी करते हैं। इन बच्चों के इलाज के लिए सरकार ने गंभीरता क्यों नहीं दिखाई? 

लक्ष्मीकांता चावला ने कहा कि सवाल केंद, सरकार से भी है, जैसे ही बीमार से लाइलाज चमकी बुखार के कहर के समाचार मिले तो सरकार क्यों हरकत में नहीं आई? क्यों विशेषज्ञ डॉक्टरों की टीम बिहार नहीं भेजी गई? उन्होंने कहा कि बिहार सरकार यह याद रखे कि रोती चीखती माताओं का दर्द और बेबसी में मरते गरीब बच्चों की पुकार देश और बिहार सरकार को कभी चैन से सोने नहीं देगी।