BREAKING NEWS

मनमोहन ने की Modi सरकार की आलोचना, कहा - सरकार आर्थिक मंदी को स्वीकार नहीं कर रही है◾अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की भारत यात्रा के मद्देनजर J&K में सुरक्षा बल सतर्क◾राम मंदिर का मॉडल वही रहेगा, थोड़ा बदलाव किया जाएगा : नृत्यगोपाल दास ◾मुंबई के कई बड़े होटलों को बम से उड़ाने की धमकी, ई-मेल भेजने वाला लश्कर-ए-तैयबा का सदस्य◾‘हिंदू आतंकवाद’ की साजिश वाली बात को मारिया ने 12 साल तक क्यों नहीं किया सार्वजनिक - कांग्रेस◾सरकार को अयोध्या में मस्जिद के लिए ट्रस्ट और धन उपलब्ध कराना चाहिए - शरद पवार◾संसदीय क्षेत्र वाराणसी में फलों फूलों की प्रदर्शनी देख PM मोदी हुए अभिभूत, साझा की तस्वीरें !◾दुनिया भर में कोरोना वायरस का प्रकोप, विश्व में अब तक 75,000 से अधिक लोग वायरस से संक्रमित◾आर्मी हेडक्वार्टर को साउथ ब्लॉक से दिल्ली कैंट ले जाया जाएगा : सूत्र◾INDO-US के बीच व्यापार समझौता ‘अटका’ नहीं है : डोनाल्ड ट्रंप ने कहा - जल्दबाजी में यह नहीं किया जाना चाहिये◾कन्हैया ने BJP पर साधा निशाना , कहा - CAA से गरीबों एवं कमजोर वर्गों की नागरिकता खत्म करना चाहती है Modi सरकार◾महंत नृत्य गोपाल दास बने श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष , नृपेंद्र मिश्रा को निर्माण समिति की कमान◾पंजाब में 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले सिद्धू के AAP में जाने की अटकलें , भगवंत बोले- कोई वार्ता नहीं हुई◾पंजाब में 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले नवजोत सिद्धू AAP में जाने की अटकलें , भगवंत बोले- कोई वार्ता नहीं हुई◾प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अगले माह जाएंगे बांग्लादेश दौरे पर◾विनायक दामोदर सावरकर पर बड़े विमर्श की तैयारी, अमित शाह संभालेंगे कमान◾अगले 5 साल में खोले जाएंगे 10,000 नए एफपीओ, मंत्रिमंडल ने दी योजना को मंजूरी◾केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में 22वें विधि आयोग के गठन को मंजूरी दी◾देश विरोधी नारों के मामले को लेकर केजरीवाल बोले - कन्हैया के चार्जशीट पर निर्णय के लिए विधि विभाग से कहेंगे◾प्रियंका गांधी राज्यसभा की सदस्य बननी चाहिए - अविनाश पांडे◾

पंजाब की मिट्टी को दिया साकार रूप, मनजीत सिंह ने गौरी लंकेश का बुत बनाकर दी श्रद्धांजलि

लुधियाना  : 'अगर मैं चुप रहा, तो मर जावांगा, अगर मैं बोला तो मार दिया जावांगा ' । पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान के एक शायर का उपरोक्त शेर गौरी लंकेश पर पूरा उतरता है। चुप रहकर मरने से गौरी लंकेश ने बोलकर मरने को तरजीह दी। पिछले हफते की एक शाम बंगलूर में बेखौफ लेखनी ओर बेजुबान की मालिक कन्नड़ और अंग्रेजी भाषाओं की प्रसिद्ध पत्रकार गौरी लंकेश को उसके घर के बाहर ही गोलियां मारकर मार दिया गया। 55 वर्षीय गौरी, 'लंकेश पत्रिका ' सप्ताहिक की संपादक थी। वह गुजरात के दंगों के बारे में खोजी पत्रकार राणा अयूब द्वारा लिखित किताब गुजरात फाइलस को कन्नड़ भाषा में अनुवाद करने के बाद चर्चा में आई थी। वह कन्नड़ भाषा के साहित्यकार और र्निपक्ष पत्रकार लंकेश की बेटी थी। पिता की मौत के बाद विरासत को गौरी ने आगे बढ़ाया और वह भी पिता की तरह विद्रोही सुर वाली बेखौफ पत्रकार के तौर पर प्रसिद्ध हुई।

उसने सियासतदानों के खिलाफ जमकर मोर्चा लिया और भ्रष्ट नेताओं और अपराधी तत्वों को नंगा करने का बीड़ा उठा रखा था। शायद इसी कारण गौरी को सच की कीमत अदा करनी पड़ी और वह भी विद्वान नरेंद्र दाभोलकर, गोबिंद पंसारे और एमएम कुलबुरगी आदि की श्रेणी में आ गई।

आज पूरे देश में गौरी के कत्ल को लेकर सियासत शुरू हुई है। कांग्रेस, भारतीय जनता पार्टी, संघ परिवार समेत दूसरी सियासी पार्टियां एक-दूसरे के विरूद्ध बयानबाजी में मशगूल है। कही ज्ञापन देकर प्रदर्शन किए जा रहे है तो कही बुद्धिजीव और पत्रकार मोमबत्तियां जलाकर इंसाफ की दुहाई मांग रहे है। ऐसे में पंजाब एक गांव में किसान परिवार से संबंधित मूर्तिकार ने अपनी कल्पना और उंगलियों के माध्यम से गीली मिटटी को उकेरा और तैयार कर दी एक और गौरी लंकेश जो अब बोली या तब बोली बस देखकर यही लगता है कि वह सब बोली...।

- सुनीलराय कामरेड