BREAKING NEWS

निगमबोध घाट पर होगा पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली का अंतिम संस्कार◾भाजपा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए मुख्य संकटमोचक थे अरुण जेटली◾PM मोदी को बहरीन ने 'द किंग हमाद ऑर्डर ऑफ द रेनेसां' से नवाजा, खलीफा के साथ हुई द्विपक्षीय वार्ता◾मोदी ने जेटली को दी श्रद्धांजलि, सत्ता में आने के बाद गरीबों का कल्याण किया : प्रधानमंत्री मोदी◾जेटली के आवास पर तीन घंटे से अधिक समय तक रुके रहे अमित शाह ◾भाजपा को हर कठिनाई से उबारने वाले शख्स थे अरुण जेटली◾राहुल और अन्य विपक्षी नेता श्रीनगर हवाईअड्डे पर रोके गये, सभी को भेजा वापिस ◾अरूण जेटली का पार्थिव शरीर उनके आवास पर लाया गया, भाजपा और विपक्षी नेताओं ने दी श्रद्धांजलि ◾वरिष्ठ नेता अरुण जेटली के निधन पर प्रधानमंत्री ने कहा : मैंने मूल्यवान मित्र खो दिया ◾क्रिेकेटरों ने पूर्व केन्द्रीय मंत्री अरूण जेटली के निधन पर शोक व्यक्त किया ◾पूर्व केन्द्रीय मंत्री अरुण जेटली का निधन : राजनीतिक खेमे में दुख की लहर◾प्रधानमंत्री मोदी द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत बनाने के लिए UAE पहुंचे ◾बिहार के विवादास्पद विधायक अनंत सिंह ने दिल्ली की अदालत में आत्मसमर्पण किया ◾सत्य और न्याय की स्थापना के लिए हुआ श्रीकृष्ण का अवतार : योगी◾अर्थव्यवस्था की रफ्तार बढ़ाने के लिए कई उपायों की घोषणा, एफपीआई पर ऊंचा कर अधिभार वापस ◾आईएनएक्स मीडिया मामला : चिदम्बरम ने उच्चतम न्यायालय में नयी अर्जी लगायी ◾विपक्ष के 9 नेताओं के साथ राहुल गांधी कल करेंगे कश्मीर का दौरा ◾TOP 20 NEWS 23 August : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾अर्थव्यवस्था की बिगड़ी हालत पर निर्मला सीतारमण बोली- भारत की आर्थिक स्थिति बेहतर◾सरकार के आर्थिक सलाहकारों ने भी माना कि संकट में है अर्थव्यवस्था : राहुल गांधी◾

पंजाब

पंजाब के आठ सीमावर्ती गांवों में आवागमन सुविधा के लिए याचिका : उच्च न्यायालय ने केंद्र का रुख पूछा

नयी दिल्ली : दिल्ली उच्च न्यायालय ने पाकिस्तान से लगी अंतरराष्ट्रीय सीमा और रावी तथा उज्ज नदी के बीच घिरे पंजाब के आठ गांवों में आवागमन की समुचित व्यवस्था की मांग वाली एक याचिका पर केंद्र से जवाब मांगा है। याचिका में कहा गया है कि करीब 5000 की आबादी वाले गांव बाकी राज्य से वर्तमान में दो अस्थायी पीपा पुलों के जरिए जुड़े हैं और मानसून के दौरान इसे हटा दिया जाता है। 

मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति डी एन पटेल और न्यायमूर्ति सी हरि शंकर की पीठ ने केंद्र सरकार के वकील से याचिका में उठाए गए मुद्दे पर सरकार से निर्देश लेने को कहा। याचिका में कहा गया है कि केंद्रीय परिवहन मंत्रालय से मंजूरी के बावजूद गांवों को जोड़ने के लिए राज्य सरकार पुल नहीं बनवा रही है । अदालत ने केंद्र सरकार के वकील जसमीत सिंह से कहा, ‘‘मामले के महत्व को देखते हुए आप निर्देश लें।’’ इसके बाद अदालत ने मामले की अगली सुनवाई की तारीख 27 अगस्त को निर्धारित कर दी। 

अदालत वकील विमल वधावन और पंजाब के गुरदासपुर और पठानकोट जिले में स्थित आठ गांवों के कुछ पूर्व और मौजूदा सरपंचों की ओर से दायर संयुक्त याचिका पर सुनवाई कर रही थी। याचिका में कहा गया है कि बारिश के दिनों में लोगों को नौका से यात्रा करनी पड़ती है। आवाजाही का बेहतर जरिया नहीं होने से फसल की ढुलाई में भी दिक्कत आती है।