BREAKING NEWS

राजधानी में फूटा कोरोना बम, 24 घंटे में आए 19,486 नये मामले और 141 कि हुई मौत◾पश्चिम बंगाल चुनाव : EC ने शाम सात से सुबह 10 बजे तक रैलियों, जनसभाओं पर लगाया प्रतिबंध ◾कोविड के बढ़ते मामलों को देखते हुए CICSE ने 10वीं,12वीं की परीक्षा टाली ◾ममता संविधान की रक्षा करने में विफल रहीं, केंद्रीय बलों पर लगा रही है आरोप : नड्डा ◾वीकेंड कर्फ्यू के दौरान ज्यादा अंतराल पर चलेंगी दिल्ली मेट्रो ट्रेनें, इन लाइन्स पर आधे घंटे का होगा इंतजार ◾भगोड़ा हीरा कारोबारी नीरव मोदी जल्द आएगा भारत, प्रत्यर्पण की मांग को ब्रिटेन सरकार ने दी मंजूरी◾अदार पूनावाला की अमेरिका से अपील, टीका उत्पादन बढ़ाने के लिए बाइडन हटाए कच्चे माल पर लगा निर्यात प्रतिबंध◾उत्तर प्रदेश में कोविड-19 की बेकाबू रफ़्तार, रिकॉर्ड 27,426 नये मामले, 103 और मरीजों की मौत ◾बंगाल में कोरोना मामलों में बढ़ोतरी के लिए BJP जिम्मेदार, बाहरी लोगों के आने पर रोक लगाए EC : ममता बनर्जी ◾बंगाल में समाज को बांटने का रचा जाता है षड्यंत्र, ममता जी सहित TMC के सभी नेता दलित विरोधी : नड्डा ◾देश में ऑक्सीजन सप्लाई को लेकर PM मोदी ने की समीक्षा, राज्यों के साथ सहयोग सुनिश्चित करने के दिए निर्देश◾बंगाल में पांचवें चरण में 45 सीटों पर कल होगा मतदान, सुरक्षा के मद्देनजर केन्द्रीय बलों की 853 कम्पनियां तैनात◾यूपी में हर रविवार को होगा कंप्लीट लॉकडाउन, बिना मास्क पकड़े जाने पर 1000 रू जुर्माना : CM योगी ◾अमित शाह ने राहुल को बताया ‘पर्यटक राजनेता’, कहा- दीदी मतुआ समुदाय को नहीं देगी नागरिकता◾डॉ. हर्षवर्धन ने AIIMS का किया दौरा, कहा- कोरोना जंग जीतने के लिए किसी चीज की नहीं है कमी ◾कोरोना से जंग जीतने के लिए केंद्र ने निकाला उपाय, राज्यों को UK मॉडल पर काम करने की दी सलाह ◾केंद्र की कोरोना रणनीति पर राहुल का तंज, 'तुगलकी लॉकडाउन लगाओ-घंटी बजाओ-प्रभु के गुण गाओ'◾रणदीप सुरजेवाला और जिग्नेश मेवाणी कोरोना पॉजिटिव, दिग्विजय सिंह भी हुए संक्रमित◾EC की आज सर्वदलीय बैठक, चुनावी रैलियों में कोविड नियमों के पालन पर होगी चर्चा◾देश में फिर टूटे कोरोना के सारे रिकॉर्ड, पिछले 24 घंटे में 2 लाख 16 हजार केस, 1185 लोगों की मौत ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

पंजाब : CM अरमिंदर सिंह बोले- जावड़ेकर दिल्ली हिंसा के लिए दूसरों पर दोष डालने की कर रहे हैं कोशिश

पंजाब के मुख्यमंत्री अरमिंदर सिंह ने बृहस्पतिवार को कहा कि केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर गणतंत्र दिवस पर दिल्ली में किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान भड़की हिंसा का दोष दूसरों पर डालने की “ हताश एवं अपमानपूर्ण“ कोशिश कर रहे हैं। सिंह ने आरोप लगाया कि किसानों को भाजपा के समर्थकों और कार्यकर्तों ने आम आदमी पार्टी (आप) के साथ मिलाकर भड़काया।

इसके बाद ट्रैक्टर परेड में अव्यवस्था फैल गई और प्रदर्शनकारियों का एक वर्ग दिल्ली पुलिस से हुए समझौते को तोड़कर हिंसा में शामिल हो गया। जावड़ेकर ने बुधवार को हिंसा के लिए कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराते हुए आरोप लगाया था कि भारत लालकिले पर तिरंगे का अपमान बर्दाश्त नहीं करेगा। उन्होंने दावा किया था कि कांग्रेस ने आंदोलन के दौरान किसानों को भड़काने के लिए हमेशा काम किया है।

सिंह ने जावड़ेकर के आरोपों पर पलटवार करते हुए कहा, “ भाजपा और आप के कार्यकर्ता एवं समर्थक लालकिले पर निशान साहिब का ध्वज फहराते हुए कैमरे में कैद हुए हैं न कि कांग्रेस के सदस्य।“ सिंह ने आरोप लगाया कि आप के सदस्य अमरिक मिकी वहां देखे गए थे जहां हिंसा हो रही थी।

मुख्यमंत्री की टिप्पणी ऐसे समय में आई है जब दिल्ली पुलिस ने लाल किले की घटना के लिए एक प्राथमिकी में अभिनेता दीप सिद्धू का नाम शामिल किया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस का एक भी नेता या सदस्य लाल किले पर हिंसा में शामिल नहीं दिखा। उन्होंने कहा कि किसान भी हिंसा के लिए जिम्मेदार नहीं हैं क्योंकि हिंसा “असामाजिक “ तत्वों ने की जिन्होंने ट्रैक्टर परेड में घुसपैठ की थी।

सिंह ने कहा कि केंद्र को राजनीतिक दल या किसी तीसरे देश की संभावित भूमिका का पता लगाने के लिए स्वतंत्र और निष्पक्ष जांच करवानी चाहिए ताकि दोषियों को सजा मिल सके और वास्तविक किसानों को बेवजह परेशान न किया जाए। उन्होंने कहा कि भाजपा नेता भी हिंसा में तीसरे देश का हाथ होने का आरोप लगा रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी पर हिंसा भड़काने का आरोप लगाने के लिए जावड़ेकर को आड़े हाथो लिया।

उन्होंने कहा, “ क्या कांग्रेस नेता (गांधी) ने किसी से लाल किले पर चढ़ने के लिए कहा था? उन्होंने नहीं कहा। भाजपा और आप के सदस्यों ने ऐसा किया था।“ सिंह ने कहा कि गांधी ने तत्काल हिंसा की निंदा की और साफ किया कि इससे संकट हल नहीं होगा।

उन्होंने कहा, “ ये आरोप हिंसा में भाजपा की भूमिका ढकने के सिवाए कुछ नहीं है और केंद्र सरकार स्थिति का प्रबंधन करने में पूरी तरह से नाकाम रही है जो उसने काले कृषि कानूनों को एक तरफा तरीके से लागू कर बनाई है।“ केंद्रीय मंत्री ने कहा था कि विपक्षी पार्टी अपनी जिम्मेदारी से भाग नहीं सकती है क्योंकि वह पंजाब में सत्ता में है। साथ में यह भी कहा था कि राज्य सरकार को एहतियाती उपाय के तहत आपराधिक तत्वों को गिरफ्तार करना चाहिए था।

सिंह ने कहा कि ट्रैक्टर परेड की इजाजत दिल्ली पुलिस ने आधिकारिक रूप से दी थी और परेड में शामिल होने से किसानों को रोकने के लिए पंजाब सरकार के पास कोई कारण नहीं था। मुख्यमंत्री ने कहा, “मैं शांतिपूर्ण किसानों को राष्ट्रीय राजधानी जाकर विरोध करने के अपने लोकतांत्रिक अधिकार का प्रयोग करने से कैसे रोक सकता था।

उन्होंने कहा कि अगर दिल्ली की सीमाओं पर किसानों की आवाजाही पर कोई प्रतिबंध था तो केंद्र सरकार को जिसका जावड़ेकर हिस्सा हैं, हरियाणा की भाजपा सरकार को निर्देश देकर किसानों को रास्ते में रुकवा देना चाहिए था। उन्होंने कहा कि हिंसा के लिए पंजाब सरकार या कांग्रेस पर दोष मढ़ना साफ तौर पर भाजपा नेतृत्व द्वारा “ ध्यान भटकाने का हथकंडा“ है।

सिंह ने कहा जब किसानों ने पंजाब में रेल की पटरियों को बाधित किया हुआ था तो उन्होंने प्रधानमंत्री समेत कई मंत्रियों से संपर्क किया था और संकट हल करने की गुजारिश की थी लेकिन किसी ने उनकी सुनी थी।