BREAKING NEWS

राज्यसभा में पूर्वोत्तर की सभी पार्टियों ने नागरिकता विधेयक के पक्ष में वोट किया : गोयल ◾येचुरी ने सरकार पर लगाया आरोप कहा- भाजपा CAB के जरिए द्विराष्ट्र के सिद्धांत को फिर से जिंदा करने की कोशिश कर रही है ◾नागरिकता विधेयक के खिलाफ जारी प्रदर्शनों के बीच मुख्यमंत्री के घर पर किया गया पथराव ◾नागरिकता संशोधन विधेयक को निकट भविष्य में अदालत में चुनौती दी जाएगी : सिंघवी ◾नागरिकता विधेयक को संसद की मंजूरी मिलने पर भाजपा ने खुशी जताई ◾सुप्रीम कोर्ट में खारिज हो जाएगा CAB : चिदंबरम ◾नागरिकता विधेयक पारित होना संवैधानिक इतिहास का काला दिन : सोनिया गांधी◾मोदी सरकार की बड़ी जीत, नागरिकता संशोधन बिल राज्यसभा में हुआ पास◾ राज्यसभा में अमित शाह बोले- CAB मुसलमानों को नुकसान पहुंचाने वाला नहीं◾कांग्रेस का दावा- ‘भारत बचाओ रैली’ मोदी सरकार के अस्त की शुरुआत ◾राज्यसभा में शिवसेना का भाजपा पर कटाक्ष, कहा- आप जिस स्कूल में पढ़ रहे हो, हम वहां के हेडमास्टर हैं◾CM उद्धव ठाकरे बोले- महाराष्ट्र को GST मुआवजा सहित कुल 15,558 करोड़ रुपये का बकाया जल्द जारी करे केन्द्र◾TOP 20 NEWS 11 December : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾कपिल सिब्बल ने राज्यसभा में कहा- विभाजन के लिए कांग्रेस को जिम्मेदार बताने पर माफी मांगें अमित शाह◾नागरिकता विधेयक के खिलाफ असम में भड़की हिंसा, पुलिस ने चलाई रबड़ की गोलियां◾चिदंबरम ने CAB को बताया 'हिन्दुत्व का एजेंडा', कानूनी परीक्षण में नहीं टिकने का जताया भरोसा◾इसरो ने किया डिफेंस सैटेलाइट रीसैट-2BR1 लॉन्च, सेना की बढ़ेगी ताकत ◾हैदराबाद एनकाउंटर: सुप्रीम कोर्ट ने जांच के लिए पूर्व न्यायाधीश को नियुक्त करने का रखा प्रस्ताव ◾पाकिस्तान : हाफिज सईद के खिलाफ आतंकवाद वित्तपोषण के आरोप तय◾मनमोहन सिंह की सलाह पर लाया गया है नागरिकता संशोधन विधेयक : भाजपा◾

पंजाब

दिल्ली में रविदास मंदिर गिराए जाने के विरोध में आज पंजाब बंद, दिल्ली- अंबाला हाईवे भी किया जाम

 punjab 2

नई दिल्ली के तुगलकाबाद में गुरु रविदास का मंदिर गिराए जाने के विरोध के दलित समुदाय के लोगों के विरोध और धरना- प्रदर्शन के कारण पंजाब में आम जनजीवन बाधित हुआ। अधिकारियों ने बताया कि प्रदर्शनकारियों ने जालंधर-दिल्ली राष्ट्रीय राजमार्ग सहित कुछ मार्गों को बाधित किया जिसके कारण भारी जाम लग गया। 

प्रदर्शनकारियों ने ‘गुरु रविदास जयंती समारोह समिति’ के बैनर तले 13 अगस्त को बंद का आह्वान किया था साथ ही स्वतंत्रता दिवस को ‘काला दिवस’ के रूप में मनाने की घोषणा की थी। राज्य में पिछले कुछ दिनों से प्रदर्शन चल रहे हैं। दलित समुदाय के लोगों ने मंगलवार को जालंधर सहित अनेक स्थानों पर विरोध रैलियां निकालीं। यहां शिक्षण संस्थान बंद हैं। इसके अलावा लुधियाना, फगवाड़ा, नवांशहर, बरनाला, फिरोजपुर, बठिंडा, अमृतसर, मोगा, दिल्ली ,अंबाला और फाजिल्का में भी रैलियां निकाली गईं। 

बीजेपी के विजय रथ को रोकने के लिए TMC-कांग्रेस मिला सकती है हाथ

जालंधर में एक प्रदर्शनकारी ने कहा, ‘‘अगर हमारी मांगें नहीं मांनी गईं तो हम अपना प्रदर्शन तेज करेंगे। हम रेल मार्ग भी बाधित करने के लिए बाध्य हो जाएंगे।’’ प्रदर्शनों को देखते हुए राज्य भर में सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं। इस बीच कांग्रेस, भाजपा और आकाली दल के नेताओं ने कहा है कि वे मुद्दे को हल करने में मदद करेंगे। माना जाता है जिस मंदिर को ढहाया गया है उस स्थान पर 1509 में गुरु रविदास गए थे। 

पंजाब कांग्रेस प्रमुख सुनील जाखड़ ने रविदास समुदाय के प्रति पार्टी का समर्थन व्यक्त किया है। जाखड़ ने प्रदर्शनकारियों से अपील की  उनके प्रदर्शनों से आम आदमी पर विपरीत असर नहीं पड़ना चाहिए। वाणिज्य और उद्योग राज्यमंत्री सोम प्रकाश ने मंदिर ढहाए जाने की घटना को दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया। उन्होंने कहा कि वह मामले को सुलझाने के लिए और मंदिर के लिए दोबारा भूमि आवंटित किए जाने के लिए दिल्ली के उपराज्यपाल से और जरूरत पड़ने पर प्रधानमंत्री से मुलाकात करेंगे। 

राहुल का राज्यपाल मालिक को जवाब, कहा- जम्मू-कश्मीर जाएंगे, विमान की जरूरत नहीं

शिरोमणि आकाली दल के अध्यक्ष एवं लोकसभा सांसद सुखबीर सिंह बादल ने भी मंदिर ढहाए जाने की आलोचना की और कहा कि उनकी पार्टी अपने खर्च पर मंदिर का दोबारा निर्माण कराने के लिए तैयार है। दिल्ली के समाज कल्याण मंत्री राजेन्द्र पाल गौतम ने प्रधानमंत्री से हस्तक्षेप करने और यह सुनिश्चित करने का अनुरोध किया कि यह भूमि समुदाय को वापस दी जाए ताकि वे वहां दोबारा प्रार्थना स्थल बना सकें। 

गौरतलब है कि आम आदमी पार्टी (आप) के मंत्री ने सोमवार को संवाददाता सम्मेलन में आरोप लगाया था कि दिल्ली विकास प्राधिकरण (डीडीए) ने पुलिस बल की उपस्थिति में शनिवार की सुबह ‘मंदिर’ गिरा दिया। हालांकि डीडीए ने सोमवार को अपने एक बयान में ‘मंदिर’ शब्द का इस्तेमाल नहीं किया और कहा कि ‘उच्चतम न्यायालय के आदेश के अनुसार ढांचा हटा दिया गया है।’’ डीडीए ने कहा कि उच्चतम न्यायालय ने ‘गुरु रविदास जयंती समारोह समिति बनाम भारत सरकार’ के मामले में नौ अगस्त को टिप्पणी की थी कि वन क्षेत्र को खाली नहीं करके समिति ने अदालत के पहले के आदेश का ‘‘गंभीर उल्लंघन’’ किया है।