BREAKING NEWS

कांग्रेस को गुजरात निकाय चुनाव में लगा झटका, हारने वालों में एक विधायक समेत सात नेताओं के बेटे भी शामिल ◾चुनाव से पहले ममता बनर्जी को एक और बड़ा झटका, TMC नेता जितेंद्र तिवारी भाजपा में हुए शामिल ◾निजी क्षेत्र की नौकरियों में हरियाणा वासियों को मिलेगा 75 फीसदी कोटा, सरकार जल्द जारी करेगी नोटिफिकेशन◾संयुक्त किसान मोर्चा का ऐलान, चुनाव वाले राज्यों में टीमें भेजकर लोगों से भाजपा को हराने की करेंगे अपील◾कंगना रनौत का तीखा तंज : मेरे खिलाफ वारंट जारी करवाने में जावेद चाचा ने ली सरकार की मदद ◾असम चुनाव में कांग्रेस नीत महागठबंधन भाजपा का करेगा अंतिम संस्कार : बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट ◾प्रियंका गांधी का मोदी सरकार पर हमला - केंद्र की नीतियां सिर्फ अमीर लोगों को फायदा पहुंचाने के लिए है◾UNHRC में भारत ने फिर पाकिस्तान को किया बेनकाब, आतंकवादी बनाने का अड्डा करार दिया ◾मालदा रैली में बोले योगी-घुसपैठियों को बाहर करने की बात पर तिलमिला जाती है बंगाल सरकार◾असम में बोलीं प्रियंका-सत्ता में आने पर रद्द करेंगे CAA, सरकारी नौकरी तथा मुफ्त बिजली का भी वादा◾मोदी सरकार ने बिना सोचे समझे लिए फैसले, इस वजह से भारत में बेरोजगारी चरम पर है : मनमोहन सिंह ◾गुजरात निकाय चुनावों के शुरूआती नतीजों में BJP बनी हुई है सबसे बड़ी पार्टी◾कांग्रेस vs कांग्रेस : ISF के साथ गठबंधन पर आनंद शर्मा के सवालों पर अधीर रंजन का 'पलटवार'◾पीएम मोदी की तारीफ करने पर गुलाम नबी आजाद के खिलाफ कांग्रेस में मचा घमासान, फूंका पुतला◾BJP ने साधा कांग्रेस पर निशाना, कहा- पार्टी का न ही कोई ईमान न ही विचारधारा, डूब चुका जहाज ◾मैरीटाइम इंडिया समिट 2021 : PM मोदी बोले-समुद्री अर्थव्यवस्था को बढ़ाने में बड़ी सफलता हासिल करेगा भारत◾गुजरात निकाय चुनावों की मतगणना जारी, बीजेपी को बढ़त, कांग्रेस पीछे ◾प्रियंका के असम दौरे का दूसरा दिन, चाय बागानों में मजदूरों के साथ तोड़ी चाय की पत्तियां◾Today's Corona Update : देश में पिछले 24 घंटे में 12 हज़ार से ज्यादा लोग हुए संक्रमित, 91 लोगों ने गंवाई जान◾खंडवा से BJP सांसद नंदकुमार सिंह चौहान का निधन, PM मोदी ने जताया दुख◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

हरियाणा से लगी सीमाओं के पास पंजाब के किसान इकट्ठा होना शुरू, भारी सुरक्षा बल तैनात

पंजाब के किसानों ने केन्द्र के कृषि संबंधी कानूनों के खिलाफ अपने प्रस्तावित जुलूस के लिए अपने ट्रैक्टर-ट्रेलर के साथ हरियाणा की सीमाओं के पास इकट्ठा होना शुरू कर दिया है। हरियाणा के अधिकारियों ने पंजाब की ओर से आने वाली सड़कों पर उनके जुलूस को रोकने के लिए सुरक्षा कर्मी तैनात किए हैं। 

अधिकारियों ने बताया कि हरियाणा पुलिस ने पंजाब से लगने वाली सड़कों पर अवरोधक भी लगाए हैं। यातायात मार्ग में भी परिवर्तन किया जाएगा। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने मंगलवार को कहा था कि 26 और 27 नवम्बर को पंजाब से लगती राज्य की सीमा सील रहेगी। 

‘ऑल-इंडिया किसान संघर्ष कोर्डिनेशन कमिटी’ , राष्ट्रीय किसान महासंघ और भारतीय किसान यूनियन के विभिन्न धड़ों ने केन्द्र पर हाल के तीन कृषि कानूनों को वापस लेने का दबाव बनाने के लिए 26-27 नवम्बर को ‘दिल्ली चलो’ का आह्वान किया था। 

किसान संगठनों ने कहा है कि उन्हें राष्ट्रीय राजधानी जाते हुए, उन्हें जहां कहीं भी रोका गया, वे वहीं धरने पर बैठ जाएंगे। 

भारतीय किसान यूनियन (एकता उगराहन) के महासचिव सुखदेव सिंह कोकरी कलां ने बुधवार को कहा कि वे 26 नवम्बर को दिल्ली की ओर मार्च करने को तैयार हैं। उन्होंने कहा, ‘‘ हमारे कुछ सदस्य ट्रैक्टर-ट्रेलर से हरियाणा सीमा के पास खनौरी गांव पहुंच चुके हैं।’’ 

पंजाब में एक दिसंबर से नाइट कर्फ्यू, कोरोना प्रोटोकॉल का पालन नहीं करने पर 1000 का जुर्माना

कोकरी कलां ने कहा कि वे प्रदर्शन में शामिल होने वाले किसानों के लिए भोजन और जरूरी चीजों का इंतजाम कर रहे हैं। 

बीकेयू (एकता उगराहन) ने दावा किया है कि उससे जुड़े दो लाख से अधिक किसान खनौरी और डबवाली से हरियाणा में दाखिल होंगे। किसान अपने मार्च के लिए राशन, सब्जियां, लकड़ी और अन्य आवश्यक सामान लाए हैं। मौसम के सर्द होने के मद्देनजर, वे रजाई, कंबल भी लाए हैं और उन्होंने अपनी ट्रॉलियों को तिरपाल से ढंक दिया है। 

कोकरी कलां ने कहा, ‘‘ हम लड़ाई के लिए तैयार हैं, जो लंबी चल सकती है।’’ मोगा, फाजिल्का, बठिंडा और अन्य क्षेत्रों से 30 संगठनों के साथ जुड़े किसान संगरूर के महलान चौक पहुंच रहे हैं। इस बीच, शिरोमणि अकाली दल के प्रमुख सुखबीर सिंह बादल ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से किसानों की चिंताओं पर गौर करने की अपील की। 

उन्होंने ट्वीट किया कि सरकार और किसानों के बीच संघर्ष पंजाब और देश को ‘‘अराजकता’’ की ओर धकेल रहा है। बादल ने प्रधानमंत्री से उनकी शिकायतों पर फिर गौर करने और पंजाब को ‘‘संकट में ना डालने’’ की अपील की।