BREAKING NEWS

लापता लड़के का पता लगाने के लिए भारतीय सेना ने हॉटलाइन पर चीन से किया संपर्क, PLA से मांगी मदद ◾UP विधानसभा चुनाव : कांग्रेस ने जारी की उम्मीदवारों की दूसरी लिस्ट, महिलाओं को 40% टिकट ◾BJP की बड़ी सेंधमारी, मुलायम के साढू प्रमोद गुप्ता ने थामा कमल, बोले- अखिलेश ने नेताजी को बना रखा बंधक◾NEET Case: SC ने कहा- पिछड़ेपन को दूर करने के लिए आरक्षण जरूरी, हाई स्‍कोर योग्‍यता का मानदंड नहीं ◾दिल्ली में सर्दी-बारिश का डबल अटैक, 21 से 23 जनवरी तक हल्की बारिश की संभावना, दृश्यता में आई कमी ◾नीलाम हुई गरीब किसान की जमीन..., राकेश टिकैत ने की परिवार से मुलाकात, प्रशासन ने उठाया यह कदम ◾BJP सांसद वरुण गांधी ने विकास के दावों पर उठाए सवाल, कहा-चुनावी राज्यों में बढ़ी बेरोजगारी ◾'सुरक्षा जहां, बेटीयां वहां', BJP ने अपर्णा यादव और संघमित्रा मौर्य को बनाया नई पोस्टर गर्ल◾चीनी सेना ने सीमा से भारतीय युवक को किया अगवा, राहुल बोले-PM की बुज़दिल चुप्पी ही उनका बयान◾कांग्रेस की पोस्टर गर्ल प्रियंका आज ज्वाइन कर सकती हैं BJP, टिकट नहीं मिलने से हैं नाराज◾Today's Corona Update : कोरोना के नए मामलों ने तोड़ा 8 महीने का रिकॉर्ड, 24 घंटे में 3 लाख से ज्यादा मामले हुए दर्ज◾वैश्विक स्तर पर नहीं थम रहा कोरोना का कहर, 33.71 करोड़ पहुंचा संक्रमितों का आंकड़ा◾असम-मेघालय सीमा विवाद को लेकर अमित शाह से आज मिलेंगे मेघालय CM संगमा और असम सीएम हिमंत◾देश में अब तक कोविड रोधी टीके की 159.54 करोड़ से ज्यादा दी गई खुराक , स्वास्थ्य मंत्रालय ने दी जानकारी ◾जल्द ही बाजार में भी मिल सकेंगी Covishield और Covaxin , सरकार ने लिया ये बड़ा फैसला◾चीनी सेना ने सीमा से भारतीय युवक का किया अपहरण , MP तापिर गाओ ने मोदी सरकार से लगाई मदद की गुहार◾ विदेश मंत्री एस जयशंकर ने फिनलैंड के विदेश मंत्री के साथ अफगानिस्तान समेत कई मुद्दों पर की चर्चा◾PM मोदी और मारीशस के पीएम पी जगन्नाथ 20 जनवरी को परियोजनाओं का करेंगे उद्घाटन◾कोविड-19 : राजधानी में 24 घंटो में कोरोना के 13,785 नए मामले सामने आये, 35 लोगो की हुई मौत◾CDS जनरल बिपिन रावत के छोटे भाई कर्नल विजय रावत हुए भाजपा में शामिल, उत्तराखंड से लड़ सकते हैं चुनाव ◾

पंजाब की सियासत गर्माई : नवजोत सिद्धू के खिलाफ लगे पोस्टर, सियासत छोडऩे पर उठाए सवाल

लुधियाना-एसएस नगर : देश में 17वी लोकसभा चुनावों के दौरान कांग्रेस के धुरूंधर स्टार प्रचारक के तौर पर पंजाब के कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू को भले ही देश की सियासत में एक उभरता हुआ नायक कहा जाता रहा है किंतु पंजाब में अपने ही घर सिद्धू के खिलाफ अकसर उंगलियां उठती रही है और अब नवजोत सिंह सिद्धू से पूछा जा रहा है कि वह सियासत को कब अलविदा करेंगे। दरअसल सिद्धू के उस बयान को पोस्टरों पर छापकर सवाल पूछे जा रहे है जिसमें सिद्धू ने लोकसभा चुनावों के दौरान मंच पर सार्वजनिक तौर पर बयान दिया था कि अगर राहुल गांधी अमेठी से चुनाव हार गए तो वह सिद्धू सियासत छोड़ देंगे।

मोहाली में कई जगहों पर उनके खिलाफ पोस्टर लगाए गए हैं। इससे सनसनी फैल गई है। पोस्टरों में सिद्धू से सवाल किए गए हैं कि इस्तीफा कब दोगे और राजनीति कब छोड़ रहे हो। सिद्धू ने मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह द्वारा अपना विभाग बदले जाने के बाद से नया कार्यभार नहीं संभाला है। सिद्धू के खिलाफ मोहाली और आसपास के जगहों पर सार्वजनिक स्थानों पर पोस्टर लगाए गए हैं। पोस्टर लगाने वालों ने सिद्धू से पूछा है कि वह इस्तीफा कब दे रहे हैं।  सिद्धू के खिलाफ पोस्टर लगाए जाने की सूचना मिलते ही हरकत में आए नगर निगम ने पोस्टर उतरवाने शुरू कर दिए।

पुलिस प्रशासन यह पता लगाने में जुटा है कि आखिर इन पोस्टरों के पीछे किसका हाथ है। मोहाली के फेज तीन में पेट्रोल पंप के पास कुछ लोगों ने शुक्रवार सुबह खाली पड़े बोर्डों पर पंजाब के कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू के विरूद्ध पोस्टर लगे देखे। अंग्रेजी तथा पंजाबी भाषा में लगे इन पोस्टरों पर नवजोत सिंह सिद्धू की भाषण देते हुए एक फोटो लगाई गई है।

इन पोस्टरों में सिद्धू द्वारा हाल ही में लोकसभा चुनाव के दौरान अमेठी में चुनावी जनसभा के दौरान दिए गए बयान का हवाला दिया गया है। बता दें कि सिद्धू ने वहां कहा था, यदि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी अमेठी से हार गए तो मैं राजनीति छोड़ दूंगा। राहुल गांधी के स्मृति ईरानी से चुनाव हार जाने के बाद सिद्धू निशाने पर आ गए थे। पहले नेताओं ने बयानों से सिद्धू पर निशाना साधा, लेकिन अब पोस्टरों से उन पर हमला किया गया है। पोस्टरों में पूछा गया है कि आप राजनीति कब छोड़ रहे हैं। समय आ गया है कि आप अपने किए हुए ऐलान को पूरा करें। हम आपके इस्तीफा का इंतजार कर रहे हैं।

नवजोत सिंह सिद्धू पिछले कई दिनों से पंजाब की राजनीतिक परिदृश्य से गायब चल रहे हैं। सिद्धू और कैप्टन अमरिंदर सिंह में लंबे समय से आपसी खींतचान चल रही है। जिसका पटाक्षेप लोकसभा चुनाव के दौरान हो गया था। इसके बाद कैप्टन अमरिंदर सिंह ने अपने मंत्रियों के विभागों में फेरबदल कर दिया। फे रबदल के बाद नवजोत सिंह सिद्धू से स्थानीय निकाय विभाग वापस लेकर उन्हें बिजली मंत्रालय का जिम्मा सौंप दिया गया। नाराज सिद्धू ने आजतक अपने नए मंत्रालय का कार्यभार नहीं संभाला है। यही नहीं सिद्धू राहुल गांधी व प्रियंका गांधी से भी मुलाकात कर चुके हैं लेकिन चंडीगढ़ सचिवालय में अपने कार्यालय नहीं आए हैं। ऐसे में इन पोस्टरों ने सिद्धू के विरूद्ध चल रही चर्चाओं को हवा दे दी है।

- सुनीलराय कामरेड