BREAKING NEWS

गोवा चुनाव 2022: BJP ने जारी की उम्मीदवारों की दूसरी सूची, जानें किसे कहा से मिला टिकट◾बिहार: गया में नाराज छात्रों ने ट्रेन की बोगी में लगाई आग, श्रमजीवी एक्सप्रेस पर किया पथराव◾गणतंत्र दिवस 2022: अग्रिम मोर्चे के कर्मी, मजदूर और ऑटो ड्राइवर बने स्पेशल गेस्ट, मिला बड़ा सम्मान◾गणतंत्र दिवस परेड: राजपथ पर 75 विमानों का शानदार फ्लाईपास्ट, वायुसेना की शक्ति देख दर्शक हुए दंग ◾गणतंत्र दिवस 2022: परेड में वायुसेना की झांकी का हिस्सा बनीं देश की पहली महिला राफेल विमान पायलट◾गणतंत्र दिवस 2022: परेड में होवित्जर तोप से लेकर वॉरफेयर की दिखी झलक, राजपथ बना शक्तिपथ◾गणतंत्र दिवस समारोह: PM मोदी उत्तराखंड की टोपी और मणिपुरी स्टोल में आए नजर, दिया ये संकेत◾यूपी: रायबरेली में जहरीली शराब पीने से चार की मौत, 6 लोगों की हालत नाजुक◾RPN सिंह के भाजपा में शामिल होने पर शशि थरूर का कटाक्ष, बोले- छोड़कर जा रहे हैं घर अपना, उधर भी सब अपने हैं◾दिल्ली में ठंड का कहर जारी, फिलहाल बारिश होने के आसार नहीं: आईएमडी◾RRB-NTPC Exam: परीक्षार्थियों के विरोध प्रदर्शन के बाद रेलवे ने भर्ती परीक्षा पर लगाई रोक, जांच के लिए बनाई समिति◾विधानसभा चुनाव तक चलेगी हिंदू-मुसलमानको लेकर तीखी बयानबाजी: राकेश टिकैत◾World Corona: दुनियाभर में जारी है कोरोना का कोहराम, संक्रमित मरीजों का आंकड़ा पहुंचा 35.79 करोड़ के पार◾Corona Update: देश में तीसरी लहर का सितम जारी, संक्रमण के 2 लाख 85 हजार से अधिक नए केस, 665 लोगों की मौत ◾दिल्ली: गणतंत्र दिवस समारोह के मद्देनजर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम, 27,000 से अधिक पुलिसकर्मी तैनात◾गणतंत्र दिवस पर पीएम मोदी समेत कई नेताओं ने दी देशवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं◾PM मोदी असली नायकों का सम्मान करने के लिए प्रतिबद्ध : केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने पद्म पुरस्कार पर कहा ◾बुद्धदेव को पद्म पुरस्कार देने की घोषणा से पहले उनकी पत्नी को इसके बारे में सूचित किया गया था : सूत्र ◾प्रधानमंत्री ने पद्म पुरस्कार विजेताओं को दी बधाई ◾गणतंत्र दिवस : 189 वीरता पदक सहित 939 पुलिस पदक दिये जाने की घोषणा ◾

सिद्धू ने साधा कांग्रेस पर निशाना, कहा- चुनाव से पहले ‘लॉलीपॉप ‘ देने वाले नेताओं को नहीं विकास को दें वोट

पंजाब कांग्रेस में जारी अंदरूनी कलह अभी अमरिंदर सिंह के पार्टी छोड़ने के बाद भी थमा नहीं है। कांग्रेस के लिए मुश्किलों का सबब बने हुए  नवजोत सिंह सिद्धू ने राज्य में अपनी ही पार्टी के नेतृत्व वाली सरकार पर फिर सवाल उठाये हैं और सीधे हमले किए हैं। सिद्धू ने चुनावों से ठीक पहले "लॉलीपॉप" की पेशकश करने वाले राजनेताओं पर हमला किया और जनता से केवल पंजाब के कल्याण के एजेंडे पर मतदान करने का आग्रह किया। उनका यह बयान ऐसे दिन आया है जब पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने घरेलू क्षेत्र के लिए बिजली दरों में 3 रुपये प्रति यूनिट की कमी करने और सरकारी कर्मचारियों के लिए महंगाई भत्ता बढ़ाने की घोषणा की है। 

सिद्धू ने उठाए कांग्रेस पर सवाल, जनता से की विकास के एजेंडे पर वोट देने की अपील 

हिंदू महासभा की एक सभा को संबोधित करते हुए, नवजोत सिंह सिद्धू ने आश्चर्य जताया कि क्या कोई राज्य के कल्याण के बारे में बात करेगा। उन्होंने कहा, "वे (राजनेता) लॉलीपॉप देते हैं... यह मुफ्त है, जो मुफ़्त है, जो पिछले दो महीनों में (अगले साल की शुरुआत में होने वाले पंजाब विधानसभा चुनाव से पहले) हुआ।" क्रिकेटर से नेता बने नवजोत सिंह सिद्धू ने लोगों से लॉलीपॉप देने वाले उन राजनेताओं से यह सवाल करने को कहा कि वे ऐसे वादों को कैसे पूरा करेंगे। पंजाब के पुनरुद्धार और कल्याण के लिए एक रोडमैप पर जोर देते हुए, उन्होंने लोगों से कहा कि "लॉलीपॉप" के लिए नहीं, बल्कि विकास के एजेंडे पर अपना वोट डालें।

मेरा उद्देश्य जनता का राजनेताओं के प्रति विश्वास बढ़ाना है : सिद्धू 

सिद्धू ने कहा, "आपके मन में एक सवाल होना चाहिए कि क्या इरादा केवल सरकार बनाने या झूठ बोलकर सत्ता में आने, 500 वादे करने या राज्य का कल्याण करने का है।" उन्होंने कहा कि राजनीति एक पेशा बन गया है और यह अब एक मिशन नहीं है। कांग्रेस नेता ने कहा, "मेरा उद्देश्य लोगों का विश्वास वापस लाना है, जो एक राजनेता से दूर हो गया है," आजकल माता-पिता नहीं चाहते कि उनके बच्चे इन दिनों राजनेता बनें। उन्होंने कहा कि वह मर जाएंगे लेकिन पंजाब के हितों को कभी नहीं बेचेंगे। सिद्धू ने कहा कि पंजाब पर 5 लाख करोड़ रुपये का बकाया है और इसके लिए उन्होंने पिछले 25-30 वर्षों में राज्य पर शासन करने वाली सरकारों को दोषी ठहराया।

सिद्धू के लिए यह है  'धर्म युद्ध' (सिद्धांतों की लड़ाई) 

नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा कि नगर समितियों और सरकारी विश्राम गृहों को गिरवी रखा गया है, यह कर्ज राज्य के लोगों को चुकाना है। "जहां भी समझौते की बात होती है, सिद्धू पद को फेंक देते हैं ताकि आपका विश्वास न टूटे। मेरे लिए, यह एक 'धर्म युद्ध' (सिद्धांतों की लड़ाई) है और मैं इस 'धर्म युद्ध' में पराजित नहीं हो सकता।” कांग्रेस नेता ने उन लोगों पर भी निशाना साधा जो कहते हैं कि राज्य का खजाना भरा हुआ है। उन्होंने कहा, 'अगर ऐसा है तो ईटीटी (प्राथमिक शिक्षक प्रशिक्षण) शिक्षकों को वेतन के रूप में 50,000 रुपये दें और यह (पैसा) संविदा शिक्षकों को दें।'