BREAKING NEWS

उत्तराखंड चुनाव से पूर्व कांग्रेस को एक और बड़ा झटका! BJP में शामिल हुए पूर्व अध्यक्ष किशोर उपाध्याय ◾Today's Corona Update : नए मरीजों की संख्या से ज्यादा रिकवरी रेट, एक्टिव केस में भी दर्ज हुई गिरावट◾World Corona Update : नहीं थम रहा कोरोना संक्रमण का कहर, वैश्विक स्तर पर 36.18 करोड़ हुआ आंकड़ा ◾पंजाब चुनाव : राहुल प्रचार अभियान का फूंकने बिगुल, 117 उम्मीदवारों संग स्वर्ण मंदिर में टेकेंगे मत्था ◾UP विधानसभा चुनाव : प्रचार के लिए आज मैदान में उतरेंगे BJP के दिग्गज, घर-घर देंगे दस्तक◾उत्तराखंड : कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष किशोर उपाध्याय थाम सकते हैं BJP का दामन◾UP चुनाव : CM योगी आदित्यनाथ बृहस्पतिवार को बिजनौर में करेंगे जनसंपर्क◾उप्र चुनाव के लिए कांग्रेस ने तीसरी सूची में 89 और उम्मीदवार घोषित किए, महिलाओं को 40 प्रतिशत टिकट◾गृह मंत्री अमित शाह ने की पश्चिमी उत्तर प्रदेश के जाट नेताओं के साथ बैठक, ये है भाजपा का प्लान ◾उम्मीदवारों के प्रदर्शन पर रेल मंत्री बोले : ‘अपनी संपत्ति’ को नष्ट न करें, शिकायतों का करेंगे समाधान ◾गोवा चुनाव 2022: BJP ने जारी की उम्मीदवारों की दूसरी सूची, जानें किसे कहा से मिला टिकट◾बिहार: गया में नाराज छात्रों ने ट्रेन की बोगी में लगाई आग, श्रमजीवी एक्सप्रेस पर किया पथराव◾गणतंत्र दिवस 2022: अग्रिम मोर्चे के कर्मी, मजदूर और ऑटो ड्राइवर बने स्पेशल गेस्ट, मिला बड़ा सम्मान◾गणतंत्र दिवस परेड: राजपथ पर 75 विमानों का शानदार फ्लाईपास्ट, वायुसेना की शक्ति देख दर्शक हुए दंग ◾गणतंत्र दिवस 2022: परेड में वायुसेना की झांकी का हिस्सा बनीं देश की पहली महिला राफेल विमान पायलट◾गणतंत्र दिवस 2022: परेड में होवित्जर तोप से लेकर वॉरफेयर की दिखी झलक, राजपथ बना शक्तिपथ◾गणतंत्र दिवस समारोह: PM मोदी उत्तराखंड की टोपी और मणिपुरी स्टोल में आए नजर, दिया ये संकेत◾यूपी: रायबरेली में जहरीली शराब पीने से चार की मौत, 6 लोगों की हालत नाजुक◾RPN सिंह के भाजपा में शामिल होने पर शशि थरूर का कटाक्ष, बोले- छोड़कर जा रहे हैं घर अपना, उधर भी सब अपने हैं◾दिल्ली में ठंड का कहर जारी, फिलहाल बारिश होने के आसार नहीं: आईएमडी◾

डेरा प्रमुख को सजा मिलने से सिखों को मिला सुकून : गुरबचन सिंह

लुधियाना-अमृतसर  : डेरा सिरसा मामले में सीबीआई अदालत द्वारा डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को 20 साल की सजा सुनाए जाने पर प्रतिक्रिया प्रकट करते हुए श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार सिंह साहिब ज्ञानी गुरबचन सिंह ने कहा कि अदालत के इस फैसले से सिखों के दिलों को बड़ा सुकून मिला है और आम आवाम का अदालत के प्रति विश्वास और सम्मान बढ़ा है।

उन्होंने यह भी कहा कि डेरा मुखी तो शुरू से ही विवादों में रहा है। जत्थेदार ने अपनी बात को मीडिया में आगे बढाते हुए कहा कि कुछ सिख डेरा प्रमुख के झासे में आकर उनसे जुड़ गए थे परंतु अब उसका असली घिनौना दुष्कर्मी चेहरा सामने आ गया है। डेरे के साथ जुड़े सिखों के बारे में सिंह साहिब ने यह भीकहा कि जिन लोगों की मानसिकता कमजोर होती है, वो ही गुरू घर छोड़कर डेरों के साथ जुड़ते है। दूसरी तरफ ज्ञानी गुरबचन सिंह ने यह भी कहा कि जो सिख पुन: अपने गुरू घर से जुडऩा चाहता है, उनका वह तहदिल स्वागत करेंगे।

उन्होंने कहा कि सिखों के प्रचार और प्रसार के लिए विशेष मुहिम छेड़ी जाएंगी। अकाल तख्त के जत्थेदार ने पंजाब सरकार के पुख्ता प्रबंधों की प्रशंसा करते हुए कहा कि सरकार ने अपनी डयूटी ईमानदारी से निभाई है, जिस कारण पंजाब में कोई बड़ी हिंसा नहीं हुई। यहां जिक्रयोग है कि पटियाला गए शिरोमणि कमेटी के प्रधान प्रो. कृपाल सिंह बडूंगर ने भी इसी मुददे पर सीएम अमरेंद्र सिंह की प्रशंसा की है।

इसके अतिरिक्त न्याय प्रणाली पर मौजूदा प्रदर्शन के बारे में जत्थेदार ने यह भी कहा कि इस प्रकार सिखों को 1984 के कत्लेआम केसों में न्याय मिलने की आस बढ़ी है। स्मरण रहें कि जत्थेदार गुरबचन सिंह समेत अन्य सिख तख्तों के जत्थेदारों ने 24 सितम्बर 2015 को डेरा सिरसा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को बगैर मांगे माफी दे दी थी, इसके बाद सिख संगत के विरोध प्रदर्शन के कारण माफीनामा खारिज किया था, इसी कारण जत्थेदार गुरूबचन सिंह की काफी जग हंसाई हुई थी।

- सुनीलराय कामरेड