BREAKING NEWS

महाराष्ट्र में फड़णवीस सरकार के शासनकाल में हुए भ्रष्टाचार को सामने लाने का वक्त आ गया: कांग्रेस◾PM मोदी ने अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेंद्र गिरि के निधन पर जताया शोक, कहा- संत समाज की धाराओं को जोड़ने में निभाई बड़ी भूमिका◾अब इस राज्य में भी विधानसभा का चुनाव लड़ेगी 'AAP', केजरीवाल ने सियासी पिच पर लगाया छक्का!◾UP: अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि का संदिग्ध परिस्थितियों में निधन, पुलिस को मिला सुसाइड नोट◾पंजाब कांग्रेस के घमासान के बाद छत्तीसगढ़ में भी सत्ता को लेकर हलचल, दिल्ली पहुंचे टी एस सिंहदेव ◾पोर्नोग्राफी केस में राज कुंद्रा को मिली जमानत, कहा- बिना सबूत मुझे बनाया गया बलि का बकरा ◾पंजाब के नए नवेले CM चन्नी पर 'मी टू' के आरोप, NCW अध्यक्ष ने की कांग्रेस से यह मांग◾भाजपा का तंज - अगर कांग्रेस पंजाब चुनाव सिद्धू के नेतृत्व में लड़ेगी तो क्या चन्नी सिर्फ 'नाइट वॉचमैन' हैं◾रावत के बयान पर कांग्रेस की सफाई- CM के तौर पर चन्नी और PCC अध्यक्ष के रूप में सिद्धू होंगे चेहरा ◾ममता दीदी के साथ मुलाकात बहुत संगीतमय रही, उनका हर शब्द मेरे लिए संगीत जैसा रहा - बाबुल सुप्रियो ◾'चन्नी' को CM बनाने पर BJP का तंज- दलित वोटों की डकैती करना कांग्रेस की पुरानी आदत ◾बंगाल राज्यसभा उपचुनाव : BJP नहीं उतारेगी उम्मीदवार, सुष्मिता के निर्विरोध चुने जाने की संभावना◾पीएम मोदी दलितों के नाम पर वोट मांगते हैं, लेकिन देश में किसी दलित को सीएम नहीं बनाया : रणदीप सुरजेवाला ◾रूसी यूनिवर्सिटी में बंदूकधारी छात्रों ने की गोलीबारी, अंधाधुंध फायरिंग में आठ लोगों की मौत◾CM बनते ही एक्शन में आए चरणजीत सिंह चन्नी, कहा- तीनों कृषि कानूनों को निरस्त करे केंद्र सरकार ◾जावेद अख्तर मानहानि केस में बड़ा ट्विस्ट, मुंबई कोर्ट में पेश हुईं कंगना, कहा-अदालत से उठ गया विश्वास ◾मायावती का वार- पंजाब में दलित CM बनाना चुनावी हथकंडा, हार को लेकर घबरायी हुई है कांग्रेस ◾कोलकाता में भारी बारिश से जनजीवन प्रभावित, जलजमाव से जगह-जगह लगा ट्रैफिक जाम ◾UP में घमासान, ओवैसी और अखिलेश पर तंज कसने के लिए BJP ने बनाया 'अब्बा जान' कार्टून◾पंजाब कांग्रेस में नई कलह शुरू, सिद्धू की अगुवाई में चुनाव लड़ने के रावत के बयान पर भड़के जाखड़◾

कोटकपुरा पुलिस गोलीबारी केस में SIT के सामने पेश हुए सुखबीर सिंह बादल, चार घंटे तक की पूछताछ

2015 के कोटकपुरा पुलिस गोलीबारी घटना की जांच कर रहे विशेष जांच दल (एसआईटी) के समक्ष शिरोमणि अकाली दल (शिअद) प्रमुख सुखबीर सिंह बादल शनिवार को पेश हुए। एसआईटी ने सुखबीर सिंह बादल से करीब चार घंटे तक पूछताछ की। शिअद ने एसआईटी जांच को ‘दुर्भावनापूर्ण’ करार दिया है।

एसआईटी द्वारा तलब किए जाने के बाद सुखबीर सिंह बादल पूर्वाह्न करीब 11 बजे सेक्टर 32 स्थित पंजाब पुलिस अधिकारी संस्थान पहुंचे। सुखबीर 2015 में हुई इस घटना के समय प्रदेश के उप मुख्यमंत्री थे और उनके पास गृह विभाग की भी जिम्मेदारी थी यह मामला धार्मिक ग्रंथ की कथित बेअदबी से जुड़ा है और इसको लेकर लोग फरीदकोट में प्रदर्शन कर रहे थे, तभी उन पर पुलिस ने गोलियां चलाई थी।

बादल के समर्थन में बिक्रम सिंह मजीठिया, बलविंदर सिंह भुंदर, एन के शर्मा और दलजीत सिंह चीमा समेत कई अन्य वरिष्ठ नेता पंजाब पुलिस अधिकारी संस्थान पहंचे। पूछताछ के बाद बादल अपराह्न तीन बजकर 10 मिनट पर संस्थान से बाहर निकले और उन्होंने अपने वाहन से कार्यकर्ताओं का हाथ हिलाकर अभिवादन किया।

बादल ने ट्वीट किया, ‘‘ इतना ज्यादा आदर और सम्मान देने के लिए मैं पार्टी कार्यकर्ताओं का आभारी हूँ।’’ अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (सतर्कता ब्यूरो) एल के यादव के नेतृत्व में मंगलवार को एसआईटी ने शिरोमणि अकाली दल के शीर्ष नेता और पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल से करीब ढाई घंटे तक पूछताछ की थी।

पंजाब सरकार ने पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट से निर्देश मिलने के बाद इस घटना की जांच के लिए नई एसआईटी गठित की। यह नई टीम कोटकपुरा घटना के मामले में 14 अक्टूबर, 2015 और सात अगस्त, 2018 को दर्ज दो प्राथमिकी की जांच कर रही है। पुलिस ने इसी तरह के अन्य प्रदर्शन में फरीदकोट के बहबल कलां में गोलियां चलाई थी, जिसमें दो लोगों की मौत हो गई थी और इस मामले में अलग से जांच जारी है।

इसी बीच अकाली दल के नेता महेशिंदर सिंह ग्रेवाल ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘यह एक दुर्भावनापूर्ण जांच है।’’ कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू ने शनिवार को सुखबीर सिंह बादल की निंदा करते हुए कहा कि एसआईटी की नई टीम ‘पंजाब की आत्मा को न्याय दिलाने के करीब’ है।

सिंह ने ट्वीट किया, ‘‘गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी के छह साल हो गये आपके शासन के दो साल में न्याय नहीं हुआ इसके बाद 4.5 साल में भी न्याय नहीं हुआ आज नई एसआईटी टीम पंजाब की आत्मा को न्याय दिलाने के क़रीब है और आप राजनीतिक हस्तक्षेप का रोना रोते हैं। राजनीतिक हस्तक्षेप तो वह था, जिसकी वजह से छह साल में न्याय नहीं मिला।’’