BREAKING NEWS

CM नीतीश कुमार ने पटना में भारी बारिश से हुये जलजमाव की उच्चस्तरीय समीक्षा की ◾मोबाइल वैन के जरिए प्याज बेचने की दिल्ली सरकार की योजना बेहद सफल रही : केजरीवाल ◾रविशंकर प्रसाद बोले- अफवाह फैलाने वाले संदेशों के स्रोत तक हो एजेंसियों की पहुंच◾भारतीय मूल के अभिजीत बनर्जी को मिला अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार, PM ने ट्वीट कर दी बधाई◾TOP 20 NEWS 14 October : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾ PM नरेंद्र मोदी ने नीदरलैंड के राजा-रानी से वार्ता की ◾हरियाणा विधानसभा चुनाव : PM मोदी बोले- विपक्ष में दम तो कहे कि 370 वापस लाएंगे◾हरियाणा: राहुल का PM पर वार, बोले- अडानी और अंबानी के लाउडस्पीकर हैं मोदी◾अयोध्या विवाद : मुस्लिम पक्षकारों का आरोप-हिन्दु पक्ष से नहीं सिर्फ हमसे ही किए जा रहे है सवाल◾हुड्डा बोले- हरियाणा में कांग्रेस के पास है जबरदस्त समर्थन, बनाएंगे अगली सरकार◾उत्तर प्रदेश: मऊ में सिलेंडर ब्लास्ट से मरने वालो की संख्या हुई 12 ◾जम्मू-कश्मीर में पोस्टपेड मोबाइल फोन सेवा हुई बहाल, 72 दिन से ठप थी सेवा ◾ अजीत डोभाल बोले- FATF का पाकिस्तान पर गहरा दबाव◾NIA का बड़ा खुलासा, कहा-देश के 4 राज्यों में सक्रिय है बांग्लादेश का खूंखार आतंकी संगठन JMB ◾होशंगाबाद: कार हादसे में राष्ट्रीय स्तर के 4 हॉकी खिलाड़ियों की मौत, कमलनाथ और शिवराज ने जताया शोक◾हरियाणा में आज PM मोदी, शाह और राहुल गांधी भरेंगे हुंकार, इन जगहों पर करेंगे रैली◾राम जन्मभूमि विवाद : आज से सुप्रीम कोर्ट करेगा अयोध्या मामले की अंतिम दौर की सुनवाई ◾महाराष्ट्र में राहुल गांधी की मौजूदगी का मतलब है भाजपा की जीत : योगी आदित्यनाथ◾भारत-सियेरा लियोन के बीच छह समझौतों पर हस्ताक्षर◾प्रदूषण को लेकर केजरीवाल सरकार के खिलाफ मनोज तिवारी ने बांटे ‘मास्क’◾

पंजाब

बादलों को बचाने के लिए चुनाव आयोग की सहायता से बंद करवाई गई है जांच - कैप्टन सिद्धू

लुधियाना-अमृतसर : यूनाइटेड सिख मूवमेंट के महासचिव कैप्टन चन्नन सिंह सिद्धू ने कहा कि भारतीय चुनाव आयोग ने श्री गुरु ग्रंथ साहिब की बेअबदी की चल रही जांच को रोक व जांच अधिकारी कुंवर विजय प्रताप सिहं को जांच से हटा कर सिखों की भावनाओं के साथ खिलवाड़ करते हुए उनके न्याया हासिल करने के अधिकारों पर चुनाव अचार संहिता के नाम पर प्रहार किया है।

इस के खिलाफ उनका संगठन अमृतसर में 22 अप्रैल को एक रोष मार्च का आयोजन करेगा। जांच को बंद करवाए जाने के खिलाफ यह रोष मार्च जलियांवाला बाग से शुरू होगा और इस संबंध में ज्ञापन अमृतसर के डीसी को राष्ट्रपति के नाम सौंपा जाएगा। संगठन के अन्य सदस्य भी विभिन्न जिलों में 22 अप्रैल को ही रोष मार्च इस मुद्दों को लेकर आयोजित करेंगे। कैप्टन सिद्धू मीडिया के साथ बातचीत कर रहे थे।

कैप्टन सिद्धू ने कहा कि मामले के संबंध में पहले जस्टिस जोर सिंह कमिशन, इस के बाद जस्टिर रंजीत सिहं कमिशन और अब स्पेशल इनवेस्टीगेशन टीम मामल की जांच कर रही है। इतना लम्बा समय जांच के नाम पर खराब करने यही मतलब था कि बादल परिवार को इस जांच के सांय से बचाया जाए। मामले की जांच गांव जवाहर सिंह वाला से शुरू होनी चाहिए थी यहां से गुरु ग्रंथ साहिब का स्वरूप चोरी किया गया। इस को चोरी करवाने में कौन थे, किसी की शह पर यह कार्रवाई हुई। इस में बचाने वाले कौन कौन लोग थे।

जब घटना के बाद तत्कालीन एसजीपीसी ने सारे गांव की 75 प्रतिशत तलाशी ले ली थी तो फिर किस के कहने पर तलाशी अभियान बंद करवा दिया गया। यह भी स्पष्ट होने चाहिए था कि श्री गुरु ग्रंथ साहिब के अंग फाड़ कर फैंकने के मामले में पहले हत्या किए जाने की एफआईआर दर्ज होती इस के बाद जांच शुरू की जाती। परंतु एक साजिश के तहत ही सरकार के आदेशों पर बादलों के साथ कथित मिली भुगत के तहत जांच को सिर्फ और सिर्फ बहिबल कलां और इसके आसपास तक ही सीमित कर दिया गया।

कैप्टन सिद्धू ने कहा कि श्री गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी की जांच का मामला किसी भी तरह चुनाव अचार संहिता के उल्लंघन के घेरे में नही आता है। इस को इस के साथ जोड़ कर बादल परिवार को बचाने की कोशिश की गई है। जिस को किसी भी कीमत पर पंजाब की जनता सहना नहीं करेगी। उन्होंने कहाकि इस चल रही जांच को दोबारा शुरू करवाने के लिए 22 अप्रेल को संगठन राज्य भर में रोष मार्चों का आयोजन करेगा। ताकि इस जांच को मुकम्मल करके आरोपियों के खिलाफ कानून के अनुसार कार्रवाई की जाए। इस दौरान उनके साथ कैप्टन दारा सिंह , खजार सिंह , बचन सिंह , गुरमेज सिंह , निशान सिंह रंधावा आदि भी मौजूद थे।

 सुनीलराय कामरे-ड