BREAKING NEWS

ओमिक्रोन के खतरे के बीच DGCA का बड़ा फैसला, सभी कमर्शियल फ्लाइट्स पर 31 जनवरी तक बढ़ाया प्रतिबंध ◾ सभी रीति रिवाज के साथ तेजस्वी यादव ने रचाई शादी,जानें कौन-कौन हुआ शामिल◾किसानों की मांगें पूरी और आंदोलन वापस, सत्य की इस जीत में हम शहीद अन्नदाताओं को भी याद करते हैं : कांग्रेस◾पच्छिम बंगाल: कोलकाता HC से मिथुन चक्रवर्ती को मिली बड़ी राहत, जानें क्या है पूरा मामला◾ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन की पत्नी कैरी ने बेटी को दिया जन्म◾किसान आंदोलन की समाप्ति पर बालियान ने जताई खुशी, कहा- चुनावों के लिए नहीं किसानों के लिए बदला फैसला ◾मल्लिकार्जुन खड़गे ने केंद्र पर लगाया आरोप- हमें CDS रावत को श्रद्धांजलि अर्पित करने का समय नहीं दिया गया◾केंद्र ने मानी हार, किसान आंदोलन की समाप्ति का हुआ ऐलान, 11 दिसंबर से अन्नदाताओं की होगी घर वापसी ◾केंद्र से किसानों को मिला लिखित दस्तावेज, सिंघु बॉर्डर से हटने लगे टेंट◾लालू के लाल आज होंगे घोड़ी पर सवार, तेजस्वी यादव के सिर पर सजेगा सेहरा, दिल्ली में होगी शादी ◾संविधान सभा की पहली बैठक के 75 वर्ष पूरे होने पर प्रधानमंत्री मोदी ने युवाओं से किया ये आग्रह ◾लोकसभा में विपक्ष ने उठाया नगालैंड जा रहे कांग्रेस के प्रतिनिधिमंडल को रोके जाने का मुद्दा, सरकार पर लगाया ये आरोप ◾दोनों सदनों ने दी CDS रावत को श्रद्धांजलि, साथ ही की देश की सुरक्षा में उनके अहम योगदाम की सराहना ◾दिल्ली : रोहिणी कोर्ट के रूम नंबर 102 में ब्लास्ट, जांच में जुटी पुलिस ◾CDS बिपिन रावत को विपक्ष की श्रंद्धाजलि, निलंबन के खिलाफ आज नहीं होगा धरना प्रदर्शन◾महाराष्ट्र: जन्मदिन पर मिला बड़ा तोहफा, ओमिक्रॉन का पहला मरीज हुआ निगेटिव, अस्पताल से मिली छुट्टी ◾आंदोलन को लेकर आगे की रणनीति पर तभी विचार होगा जब सरकार की तरफ से लिखित में कुछ आएगा : टिकैत◾कुन्नूर हादसा : रक्षा मंत्री ने दोनों सदनों में दिया घटना का ब्यौरा, कहा-तीनों सेना का एक दल कर रहा है जांच ◾Helicopter Crash: हादसे से कुछ सेकेंड पहले का Video, घने कोहरे के बीच दिखाई दिया Mi-17 हेलीकॉप्टर◾हेलीकॉप्टर क्रैश के सर्वाइवर वरुण सिंह की हालत गंभीर, डॉक्टरों ने नहीं दिया आश्वासन, अगले 48 घंटे नाजुक ◾

उत्तराखंड स्थित हेमकुंड यात्रा के दौरान लापता हुए दो अमेरिकी सिखों के परिवार की गुहार

लुधियाना, (सुनीलराय कामरेड) : अपने परिवार समेत 'सरबत दे भले' के वास्ते अरदास करने के लिए वाहेगुरू के दरबार स्थित उत्तराखंड- श्री हेमकुुंड साहिब यात्रा को निकले दो अमेरिकन सिखों के वारिसों ने अमेरिका जांच एजेंसी 'एफबीआई' तक पहुंच करके उन तथ्यों की जानकारी जुटाने के लिए गुहार लगाई है ताकि गुरु सिख परिवार के 9 वर्षीय हरमन सिंह व 5 वर्षीय अमृत जोत कौर समेत 35 वर्षीय मनजीत कौर का लंबा इंतजार खत्म हो सके। यह सिख परिवार अपने खोए हुए पारिवारिक सदस्यों के सकुशल वतन लौटने का पिछले 70 दिनों से इंतजार कर रहा है।

जानकारी के अनुसार छह जुलाई, 2017 को अमेरिकन नागरिक हरकेवल सिंह व उसके पिता प्रेमजीत सिंह उन 8 सिख श्रद्धालुओं में शामिल थे, जोकि इस यात्रा के दौरान लापता हो गए। इन 8 शख्सियतों में 6 श्रद्धालु गुरु की नगर अमृतसर जिले के कस्बा मेहता के रहने वाले किरपाल सिंह, जसबीर सिंह, कुलबीर सिंह व ड्राइवर महंगा सिंह थे, जबकि हरपाल सिंह और वरिंदर सिंह भारत-पाकिस्तान सीमावर्ती जिले गुरदासपुर के गांव डल्ला के रहने वाले थे। सरदार प्रेमजीत सिंह व उनके दामाद हरकेवल सिंह कैलेर्फोनियां स्टेट के सैंकरमेंटों के रहने वाले हैं।

श्रद्धालुओं की तालाश में उत्तराखंड सरकार द्वारा की गई तमाम कोशिशों से हताश व निराश होकर अमेरिका सिख हरकेवल सिंह की पत्नी व सरदार प्रेमजीत सिंह की पुत्री बीबी मनजीत कौर ने अमेरिकन खुफिया विभाग एफबीआई के पास जाकर भारत के उत्तराखंड में अपने लापता पारिवारिक सदस्यों को ढूंढने के लिए गुहार लगाई थी, जिसे मंजूर कर लिया गया है। इस खबर के लिए विशेष संवाददाता से आज मोबाइल फोन पर बातचीत करते हुए मनजीत कौर ने सुबकते हुए बताया कि उसके बच्चे हर पल अपने खोए हुए डैडी के सकुाल होने की वाहेगुरु के आगे अरदास करते हैं, ताकि परिवारिक सदस्य वापस आएं किंतु ऐसा हो नहीं पाया। अपने बीते वक्त की यादों को याद करने के दौरान मंजीत कौर ने कहा कि श्री हेमकुंड साहिब की यात्रा से वापसी करते समय छह जुलाई 2017 को घटित घटनाक्रम को लेकर उत्तराखंड पुलिस व पंजाब से पहुंची एक जांच टीम ने दावा किया था कि उक्त आठों लोग एक हादसे का शिकार हो चुके है। जबकि गुरूद्वारा गोबिंदघाट के प्रबंधक यह अंदेशा जता रहे है कि हो सकता है कि अनहोनी के दौरान श्रद्धालुओं की गाड़ी गहरे अलकनंदा दरिया में जा गिरी हो।

उसने यह भी शिकायत के लहजे में कहा कि गुरूद्वार गोबिंद घाट के प्रबंधक या कोई भी जांच एजेंसी, उन्हें कोई भी तस्सलीबख्श जवाब नहीं दे सकी। अगर उनके पास किसी भी प्रकार का कोई छोटा-बडा सबूत है तो किसे एसयूवी गाडी पर लगा टाटा कंपनी का लोगों व दो खिड़कियों के वाइजर, अगली लाइट व रबड़ के लंबे टुकडे है। उन्होंने आशंका प्रकट करते हुए कहा कि यह सामान किसी भी अन्य गाड़ी का भी हो सकता है। जरूरी नहीं, कि वह उस गाडी का है, जिसमें यह श्रद्धालु सफर कर रहे थे। मनजीत कौर ने यह भी कहा कि परिवार ने उत्तराखंड प्रशासन को भी स्पष्ट कर दिया है।

कि जो दस्तार हादसे के दौरान मिली बताई जा रही है, वह उन 8 श्रद्धालुओं में किसी की भी नहीं हो सकती है। क्योंकि यह दस्तार काफी पुरानी, रंग फिटा और फटी हुई थी। मनजीत कौर ने बताया कि उन्होंने लापता हुए श्रद्धालुओं पर विशेषकर अमेरिकन नागरिकों की खोज को लेकर बार-बार उत्तराखंड सरकार समेत अमृतसर प्रशासन से गुहार लगाई है। परंतु कोई भी तस्सलीबख्श जवाब नहीं मिला। वह उत्तराखंड सरकार से घटनास्थल के नजदीक लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज मांग चुके हैं परंतु कोई भी जानकारी नहीं दी गई।

उधर, भारत स्थित अमेरिकी दूतावास में मंजीत कौर को लिखे पत्र में यही लिखा है कि अलकनंदा दरिया में पानी का बहाव तेज होने के कारण उत्तराखंड प्रशासन केवल दरिया के किनारों की ही तलाशी कर सका है। दूतरावास ने यकीन दिलाया है कि पानी का बहाव कम होते ही तलाश बारे जानकारी परिवार को भेजी जाएगी। मंजीत कौर ने यह भी बताया कि उपरोक्त हालात के मद्देनजर उन्होंने अमेरिकन जांच एजेंसी एफबीआई के पास गुमशुदा सदस्यों के लिए पहुंच की है ताकि लंबे समय से भारत यात्रा के लिए गए उनके पारिवारिक सदस्यों की जानकारी मिलने पर उनका इंतजार खत्म हो सके।