लुधियाना- गुरदासपुर : पंजाब के अंदर 22 जिला परिषदों और 150 पंचायत समितियों के 19 सितंबर को होने वाले चुनावों के लिए जहां अलग-अलग सियासी पार्टियों के कार्यकर्ता और नेता अपनी-अपनी चुनावी तैयारी में लगे है, वही बीते दिनों गुरदासपुर प्रबंधकीय कोम्पलैक्स में शिरोमणि अकाली दल बादल और कांग्रेसियों के मध्य हुई आपसी झड़प के बाद आज शिरोमणि अकाली दल के जिला प्रधान गुरबचन सिंह बब्बेहाली ने विशेष प्रैस वार्तालाप के दौरान बातचीत करते हुए कहा कि कांग्रेसी विधायकों ने शिरोमणि अकाली दल के प्रत्याशियों के साथ धक्कामुक्की की है और उनके नामांकन पत्रों को रदद करवाया गया है, जिस कारण वह जिला गुरदासपुर के हलका गुरदासपुर, फतेहगढ़ चूडिय़ा और डेरा बाबा नानक के हलकों के 19 सितंबर को होनेे वाले चुनावों का बायकाट करते है।

उन्होंने कहा कि पंजाब पुलिस ने 14 अकाली वर्करों पर ही मामले दर्ज किए है। उन्होंने यह भी कहा कि हलका गुरदासपुर के 27 में से 12, डेरा बाबा नानक से 42 में से 40 और फतेहगढ़ चूडिय़ा से 34 में से 17 नामांकन पत्र रदद किए है, इसलिए वह चुनावों का बायकाट कर रहे है। उन्होंने यह भी कहा कि इन चुनावों में कांग्रेसी आगु चुनावों से भाग रहे है।

पंजाब : काला-कच्छा गिरोह का होशियारपुर और गढ़शंकर में आतंक, 3 खूनी वारदातों को दिया अंजाम

सरकार कांग्रेस की है इसलिए यहां के चुनावों को इस महीने की तारीखों से आगे डालकर दोबारा नामाकंन लिए जाएं तो वह उन चुनावों में बताएंगे कि कांगे्रसियों की बुरी तरह हार कैसे होती है।

स्मरण रहे कि बीते दिनों नामांकन के पश्चात अपनी-अपनी फाइलों संबंधी पहुंचे अकाली और कांग्रेसी आगु आपस में आखिरी दिन भिड़ गए थे, जिसमें कांग्रेसी आगु और लेबर सेल पंजाब प्रधान गुरमीत सिंह पहाड़ा का गनमैन जख्मी हो हुआ था।

हालांकि अकाली दल के प्रधान गुरबचन सिंह बबेहाली ने कहा था कि एसडीएम कार्यालय के अंदर उनके एक कार्यकर्ताओं को अकाली आगुओं द्वारा मारा गया था। जबकि उन्होंने इसका विरोध किया तो कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने हथियार लेकर इकटठा होकर उनपर हमला किया था।