BREAKING NEWS

आज सोनभद्र जाएंगे CM योगी, पीड़ित परिवार से करेंगे मुलाकात ◾LIVE : निगमबोध घाट पर होगा शीला दीक्षित का अंतिम संस्कार, श्रद्धांजलि देने पहुंची सुषमा स्वराज◾शीला दीक्षित की पहले भी हो चुकी थी कई सर्जरी◾BJP को बड़ा झटका, पूर्व अध्यक्ष मांगे राम गर्ग का निधन◾पार्टी की समर्पित कार्यकर्ता और कर्तव्यनिष्ठ प्रशासक थीं शीला दीक्षित : रणदीप सुरजेवाला ◾सोनभद्र घटना : ममता ने भाजपा पर साधा निशाना ◾मोदी-शी की अनौपचारिक शिखर बैठक से पहले अगले महीने चीन का दौरा करेंगे जयशंकर ◾दीक्षित के बाद दिल्ली कांग्रेस के सामने नया नेता तलाशने की चुनौती ◾अन्य राजनेताओं से हटकर था शीला दीक्षित का व्यक्तित्व ◾जम्मू कश्मीर मुद्दे के अंतिम समाधान तक बना रहेगा अनुच्छेद 370 : फारुक अब्दुल्ला ◾दिल्ली की सूरत बदलने वाली शिल्पकार थीं शीला ◾शीला दीक्षित के आवास पहुंचे PM मोदी, उनके निधन पर जताया शोक ◾शीला दीक्षित कांग्रेस की प्रिय बेटी थीं : राहुल गांधी ◾जीवनी : पंजाब में जन्मी, दिल्ली से पढाई कर यूपी की बहू बनी शीला, फिर बनी दिल्ली की मुख्यमंत्री◾शीला दीक्षित ने दिल्ली एवं देश के विकास में दिया योगदान : प्रियंका◾शीला दीक्षित के निधन पर दिल्ली में 2 दिन का राजकीय शोक◾Top 20 News 20 July - आज की 20 सबसे बड़ी ख़बरें◾राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने शीला दीक्षित के निधन पर जताया दुख ◾दिल्ली की पूर्व सीएम शीला दीक्षित का निधन, PM मोदी सहित कई नेताओं ने जताया दुख◾दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित का 81 साल की उम्र में निधन◾

राजस्‍थान

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने NDA सरकार के बजट को बताया दिशाहीन

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राजग सरकार के दूसरे कार्यकाल के पहले बजट को दिशाहीन बताते हुए शुक्रवार को कहा कि इसका उद्देश्य स्पष्ट नहीं है और यह निराशाजनक है। लोकसभा में आम बजट पेश किए जाने के बाद गहलोत ने अपनी प्रतिक्रिया में कहा कि राजग सरकार के दूसरे कार्यकाल का पहला बजट दिशाहीन है।

इसका उद्देश्य स्पष्ट नहीं है और यह निराशाजनक है। इसमें अर्थव्यवस्था में तेजी लाने, रोजगार सृजित करने या निवेश बढ़ाने के लिए कोई ठोस योजना नहीं है। गहलोत के अनुसार इस बजट में गांव, गरीब और किसान का जिक्र केवल नारे के रूप में किया गया है जबकि कृषि संकट से निपटने की कोई योजना इसमें नहीं है। 

गृह मंत्रालय के लिए 1 लाख 19 हजार 25 करोड़ रूपये का आवंटन


उन्होंने कहा कि बजट में मध्यम वर्ग या वेतनभोगी वर्ग को कोई राहत नहीं दी गयी है जबकि ईंधन की कीमतें बढ़ाने से आम लोगों पर और बोझ पड़ेगा।