BREAKING NEWS

आतंकवाद के कारण विश्व अर्थव्यवस्था को 1,000 अरब डॉलर का नुकसान : PM मोदी◾महाराष्ट्र गतिरोध : कांग्रेस, राकांपा और शिवसेना में बातचीत, सोनिया से मिल सकते हैं पवार ◾मोदी..शी की ब्राजील में बैठक के बाद भारत, चीन अगले दौर की सीमा वार्ता करने पर हुए सहमत ◾कुलभूषण जाधव मामले में पाकिस्तान ने भारत से किसी भी समझौते से किया इनकार ◾राफेल के फैसले से JPC की जांच का रास्ता खुला : राहुल गांधी ◾राफेल पर उच्चतम न्यायालय के फैसले के बाद देवेंद्र फड़णवीस बोले- राहुल गांधी को अब माफी मांगनी चाहिए ◾नोबेल विजेता कैलाश सत्यार्थी ने कहा- शुद्ध हवा सुनिश्चित करने के लिए प्रधानमंत्री को ठोस कदम उठाने चाहिए◾TOP 20 NEWS 14 November : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾RSS-भाजपा को सबरीमाला पर न्यायालय का फैसला मान लेना चाहिए : दिग्विजय सिंह ◾महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाए जाने को लेकर CM ममता ने राज्यपाल कोश्यारी पर साधा निशाना ◾प्रधानमंत्री की छवि बिगाड़ने के लिए कांग्रेस ने लगाए थे राफेल सौदे पर भ्रष्टाचार के आरोप : राजनाथ◾राफेल मामले में SC के फैसले को रविशंकर ने बताया सत्य की जीत, राहुल गांधी से की माफी की मांग ◾हरियाणा सरकार के मंत्रीमंडल का हुआ विस्तार, 6 कैबिनेट और 4 राज्यमंत्रियों ने ली शपथ◾अमेठी : अभद्रता का वीडियो वायरल होने के बाद DM पद से हटाए गए प्रशांत शर्मा◾कर्नाटक के अयोग्य घोषित विधायक बीजेपी में हुए शामिल, CM येदियुरप्पा ने किया स्वागत◾शिवसेना के सांसद संजय राउत ने BJP से कहा- हमें डराने या धमकाने की कोशिश न करें ◾अवमानना मामले में राहुल गांधी को मिली राहत, सुप्रीम कोर्ट ने माफीनामा किया स्वीकार◾सबरीमाला मामले में SC ने पुनर्विचार के लिए समीक्षा याचिकाएं 7 न्यायाधीशों की पीठ के पास भेजी◾ब्रिक्स सम्मेलन में बोले PM मोदी- भारत दुनिया की सबसे खुली और निवेश के अनुकूल अर्थव्यवस्था है◾राफेल मामले में केंद्र सरकार को मिली राहत, सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की पुनर्विचार याचिका◾

राजस्‍थान

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने NDA सरकार के बजट को बताया दिशाहीन

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राजग सरकार के दूसरे कार्यकाल के पहले बजट को दिशाहीन बताते हुए शुक्रवार को कहा कि इसका उद्देश्य स्पष्ट नहीं है और यह निराशाजनक है। लोकसभा में आम बजट पेश किए जाने के बाद गहलोत ने अपनी प्रतिक्रिया में कहा कि राजग सरकार के दूसरे कार्यकाल का पहला बजट दिशाहीन है।

इसका उद्देश्य स्पष्ट नहीं है और यह निराशाजनक है। इसमें अर्थव्यवस्था में तेजी लाने, रोजगार सृजित करने या निवेश बढ़ाने के लिए कोई ठोस योजना नहीं है। गहलोत के अनुसार इस बजट में गांव, गरीब और किसान का जिक्र केवल नारे के रूप में किया गया है जबकि कृषि संकट से निपटने की कोई योजना इसमें नहीं है। 

गृह मंत्रालय के लिए 1 लाख 19 हजार 25 करोड़ रूपये का आवंटन

उन्होंने कहा कि बजट में मध्यम वर्ग या वेतनभोगी वर्ग को कोई राहत नहीं दी गयी है जबकि ईंधन की कीमतें बढ़ाने से आम लोगों पर और बोझ पड़ेगा।